Bhumihar Brahmin Samaj

-श्री अभयानंद (पूर्व डीजीपी एवं संस्थापक सुपर-30)

2020 बिहार का विधान सभा चुनाव अब संपन्न होने के करीब आ गया है। समाज और सरकार के बीच एक नई रेखा खिचेगी जैसा हर चुनाव के बाद अमूमन खिचती है। कुछ लोग जो समाज के अंग रहते हैं, वह सरकार के हो जाते हैं और उल्टा भी होता है।

आम आदमी की ज़िन्दगी में कोई बदलाव जो तुरंत दिखे, वह कभी नहीं दिखता। कुछ जाति समूहों को अकारण ही खुशी का और कुछ को ग़म का एहसास होता है जो बिल्कुल नहीं होना चाहिए। चुनाव को हम बिना कारण के ही आवश्यकता से अधिक महत्व देते हैं। यह एक साधारण संवैधानिक प्रक्रिया है जिसमें कुछ लोगों का चुनाव हम करते हैं और वे अपने कार्यों का निर्वहन करते हैं। न वह हमारे ऊपर कोई एहसान करते हैं न ही हम उनके चुने जाने से अनुगृहित होते हैं। हमें अपनी ज़िन्दगी की समस्याओं से प्रत्येक दिन की जद्दोजहद से स्वयं ही जूझना होगा।

सुझाव होगा कि:

1. चुनाव के परिणाम के बाद आम आदमी जो व्यवसायिक रूप से पार्टी अथवा पार्टी समूह से जुड़ा हुआ नहीं है वह हर्ष-विषाद को भूलकर, अपनी दिनचर्या में लग जाए। ऐसे भी चुनाव के दौरान लम्बे समय तक सामान्य ज़िन्दगी से आम आदमी दूर हो जाता है। फूल-माला और रंग-गुलाल लगा कर हम एक साधारण प्रक्रिया को असाधारण बना देते हैं जिसे हमें साधारण ही रहने देना चाहिए।
समाज ने इस प्रक्रिया और फलाफल को बीसों बार देखा है। इसे साधारण ही रहने दें, असाधारण न बनने दें।

2. समझने की कोशिश करें कि जो भी व्यक्ति और समूह सरकार का अंग बनेगा, वह कोई दिव्य शक्ति से सुशोभित नहीं है और न तो उसमें कोई असीम शक्ति हमने दे दी है कि उसके “जन्म मात्र” से हमारे सभी दुखों का निवारण हो जाएगा और न ही हमें हसरत भरी निगाहों से इस परिणाम की आशा करनी चाहिए।

3. हमने कोशिश की है कि समाज की समस्याओं को परिभाषित किया जाए और उसे अपने चुने हुए विधायकों के समक्ष रखा जाए। अब हमें विधान सभा में यह विधायक इन समस्याओं को कैसे उठाते हैं, इस पर भी नज़र रखनी होगी। उन्हे हमने वोट दिया है इसलिए उन्हे हमारी आवाज़ बननी होगी। उन्हे समय समय पर समाज के बीच बुलाकर याद दिलाना होगा कि वह मुख्यत: समाज के प्रतिनिधि हैं, न कि पार्टी और सरकार के। समाज को अपनी शक्ति का एहसास निरन्तर दिलाते रहना होगा।

आशा और निराशा से बचते हुए, अगर हम विवेक से अपने विधायकों के साथ मिल कर अपनी समस्याओं को विधान सभा में रखें तो हितकारी होगा।

1 COMMENT

  1. बहुत ही महत्पूर्ण विचार है। हमारे चुने गए उम्मीदवार हामरे प्रतिनिधि है। पर संवैधानिक अधिकार को सही से उपयोग करना ज़रूरी है। समाज और प्रदेश के समस्याओं को उनके समक्ष रखना होगा। उनकी नैतिक जिमेदरी है उसका समाधान करना। आप लोगो का यह विचार बहुत ही अच्छा है। आप सबको शुभकानाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here