कोरोना संक्रमण को रोकने को लेकर किए गए एहतियाती उपायों से जहां सरकार के खजाने पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की बात कही जा रही है, वहीं वायरस से डर वाले इस माहौल में पुलिस का खजाना भर रहा है। लॉकडाउन के दौरान पुलिस सड़कों पर है और लोगों को इसके नियम समझा रही है। इस दौरान पुलिस कड़ाई से भी पेश आ रही है। पुलिस ने इस दौर में वाहनों की जांच भी बढ़ा दी है, और इस दौरान जुर्माना वसूली से पुलिस का खजाना भर रहा है।

पुलिस विभाग के आंकड़ों पर गौर करें तो इस अवधि में पुलिस ने जुर्माने के तौर पर 10 करोड़ रुपये से ज्यादा की राशि वसूल की है।

अपर पुलिस महानिदेशक (पुलिस मुख्यालय) जितेंद्र कुमार ने बताया कि लॉकडाउन का सख्ती से अनुपालन कराया जा रहा है। अब तक कुल 1,597 मामले दर्ज किए गए और 1,496 लोगों की गिरफ्तारियां हुई हैं। उन्होंने बताया, “इस दौरान कुल 45,551 वाहन जब्त किए गए हैं तथा अब तक इससे कुल 10 करोड़ 44 लाख रुपये की राशि जुर्माने के रूप में वसूल की गई है।”

उन्होंने बताया कि सोमवार को 45 लोगों को गिरफ्तार किया गया था और 31 मामले दर्ज किए। पुलिस चाहती है कि लोग कानून का उल्लंघन ना करें। जुर्माना या अन्य कार्रवाई करने का मकसद कानून का पालन करने की प्रेरणा देना है। पुलिसकर्मी पूरी मुस्तैदी से अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं।

कुमार ने बताया कि कोविड-19 से निपटने के लिए उठाए जा रहे कदमों और लॉकडाउन का पालन करने में अवरोध पैदा करने वालों के खिलाफ सख्ती से कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि राज्य में विदेश से आने वाले कुछ लोगों पर फॉरनर एक्ट का उल्लंघन करने के 7 मामले दर्ज किए गए हैं और 66 विदेशी लोगों की गिरफ्तारी की गई है।

उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार हर एहतियाती कदम उठा रही है, हलांकि कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार जारी है। राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या 359 तक पहुंच गई है, जिनमें से दो की मौत हो चुकी है तथा 57 संक्रमित इलाज के बाद ठीक होकर घर लौ गए हैं। (एजेंसी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here