“समर शेष है, नहीं पाप का भागी केवल व्याध, 
 जो तटस्थ हैं, समय लिखेगा उनका भी अपराध” 
राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर को लोग यूँ ही राष्ट्रकवि नहीं कहते. उनकी कविता पढकर आप आज भी जोश में आ जाएंगे. उनकी कविताओं को पढकर राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत हो जाएंगे.
बदलते वक्त में जब देश में अलगाववादी ताकते सिर उठा रही है तो उनकी कवितायें और भी प्रासंगिक हो उठी है. हिंदी समाचार चैनल एबीपी न्यूज़ इसे समझता है तभी तो उसने राष्ट्रकवि दिनकर को सबसे बड़ा महाकवि माना और अपने नए कार्यक्रम महाकवि की शुरुआत ही दिनकर जी से की.शुक्रिया एबीपी न्यूज़. 
प्रसिद्ध कवि कुमार विश्वास ने इसे प्रस्तुत किया. देखें वीडियो –

ज़मीन से ज़मीन की बात – भू-मंत्र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here