Skip to main content

हैबसपुर नरसंहार में सभी आरोपी बरी, सकते में लाल सलाम, रणवीर सेना पर लगा था आरोप

पटना. हैबसपुर नरसंहार कांड के 28 आरोपियों को साक्ष्य के अभाव में आज बरी कर दिया गया. लगभग बीस वर्ष पूर्व हुए इस बहुचर्चित मामले में एससी एसटी कोर्ट के विशेष न्यायाधीश मनोज कुमार सिंह ने स्पीडी ट्रायल करते हुए आज ये फैसला दिया. घटना 23 मार्च 1997 को रनिया तालाब थाना क्षेत्र में हुई थी जिसमें 10 दलितों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. विशेष कोर्ट ने साक्ष्य के अभाव और संदेह का लाभ देते हुए कांड के आरोपितों रामायण तिवारी, शिवानंद शर्मा, नवल सिंह, भूतल सरदार, गजेन्द्र सिंह उर्फ महेश्वरी समेत 28 आरोपितों को नरसंहार कांड से बरी कर दिया। यूनीवार्ता की रिपोर्ट के मुताबिक़ मार्क्सवादी पार्टी - माले ने फैसले को निराशाजनक बताया है. हैबसपुर नरसंहार कांड पर एक नज़र -

राघोपुर कांड के प्रतिशोध में दिया था घटना को अंजाम : हैबसपुर कांड से कुछ दिन पूर्व जिले के ही राघोपुर में ऊंची जाति के 6 लोगों की हत्या कर दी गई थी थी। माना जाता है कि इसी के प्रतिशोध में रणवीर सेना ने हैबसपुर की घटना को अंजाम दिया था। घटना में करीब मांझी, सुरेश मांझी, किशुन मांझी, भोपाली मांझी, शकुनी मांझी, राजकुमार मांझी समेत 10 दलितों की हत्या कर दी गई थी।

मात्र 18 गवाह किए पेश : इस मामले में अभियोजन पक्ष ने मात्र 18 गवाहों को पेश किया था। सभी अभियोजन गवाहों ने कहा कि लंगड़ सिंह और भोजपुरिया ने गोली मार कर दलितों का नरसंहार किया था। लेकिन किसी भी गवाह ने कोर्ट में 28 आरोपितों का नाम नहीं लिया।

चार्जशीट हुई थी दायर : कांड के 8 आरोपितों की ट्रायल के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने इस कांड में 13 आरोपितों को फरार दिखाते हुए 36 पर चार्जशीट दायर की थी। लंबे मुकदमे के बाद कोर्ट ने अभियुक्तों के खिलाफ साक्ष्य नहीं पाए जाने पर उन्हें बरी कर दिया।

कुएं पर लिख दिया था संगठन का नाम : आरोप है कि राघोपुर कांड का बदला लेने के लिए दस दलितों की हत्या की गई थी। कांड को अंजाम देने के बाद रणवीर सेना के तथाकथित सदस्यों ने गांव छोड़ने से पहले सूखे कुएं के घेरे पर खून से संगठन का नाम लिख दिया था।

उस दौर में जल उठा था मध्य बिहार : 90 के दशक में हैबसपुर की तरह मध्य बिहार में नरसंहार की कई घटनाएं हुईं थीं। पटना जिला के अलावा मगध के जहानाबाद, अरवल, औरंगाबाद और शाहाबाद के भोजपुर में नरसंहारों का लंबा दौर चला था। इस दौरान बाथे, बथानी टोला, नाढ़ी, इकवारी, सेनारी, राघोपुर, रामपुर चौरम, मियांपुर जैसे कई कांड हुए थे। प्रतिबंधित नक्सली संगठन और रणवीर सेना के बीच खूनी संघर्ष में सैकड़ों लोगों की जानें गईं थीं।

Community Journalism With Courage

Comments

Unknown said…
This comment has been removed by the author.

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.