Skip to main content

भूमिहार समाज की दोहरी लड़ाई

" भूमिहार समाज दोहरी लड़ाई लड़ रहा है एक बाहरी शक्तियों से तो दूसरी अपने ही समाज के अंदर बैठे राजनैतिक रावणों ( दलालों ) से " 

हालिया सामाजिक गतिविधियों एवं व्यक्तिगत शोध पर आधारित ब्रह्मऋषि चिंतक एवं विचारक "राजीव कुमार " की प्रस्तुति : - 


खल मंडली बसहु दिनु राती। सखा धरम निबहइ केहि भाँती॥ 
मैं जानउँ तुम्हारि सब रीती। अति नय निपुन न भाव अनीती॥ 
भावार्थ:-दिन-रात दुष्टों की मंडली में बसते हो। (ऐसी दशा में) हे सखे! तुम्हारा धर्म किस प्रकार निभता है? मैं तुम्हारी सब रीति (आचार-व्यवहार) जानता हूँ। तुम अत्यंत नीतिनिपुण हो, तुम्हें अनीति नहीं सुहाती॥ 

बरु भल बास नरक कर ताता। दुष्ट संग जनि देइ बिधाता॥ 
अब पद देखि कुसल रघुराया। जौं तुम्ह कीन्हि जानि जन दाया॥ 
भावार्थ:-हे तात! नरक में रहना वरन्‌ अच्छा है, परंतु विधाता दुष्ट का संग (कभी) न दे। (विभीषणजी ने कहा-) हे रघुनाथजी! अब आपके चरणों का दर्शन कर कुशल से हूँ, जो आपने अपना सेवक जानकर मुझ पर दया की है॥ 

उपरोक्त पंक्तियाँ तुलसीदास रचित रामायण से उद्धरित की गई हैं । ये पंक्तियाँ अक्षरसः आज के भूमिहार ब्राम्हण समाज के परिप्रेक्ष्य में प्रासंगिक हैं । भूमिहार ब्राम्हण समाज आज अपने अस्तित्व की रक्षा हेतु दोहरी लड़ाई लड़ रहा है । एक लड़ाई बाह्य शक्तियों से तो दूसरी अपने समाज के भीतर ही बैठे उन दुष्टों ( छलिया रावणों ) से जो समाज के भीतर ही बैठकर अपने ही समाज का लगातार अहित कर रहे हैं और पूरे भूमिहार ब्राम्हण समाज को बर्बादी की आग में झोंकने पर अमादा हैं । हम परशुराम के वंशज हैं और हम ब्रह्मऋषि हैं । हम ब्रह्मऋषियों का आदि काल से इतिहास रहा है कि हम अन्याय के खिलाफ लड़ाई लड़ते रहे हैं । परंतु दुर्भाग्य यह है कि सत्य और मर्यादा की बात करने वाला ब्रह्मऋषि समाज आज खुद इसी अन्तर्द्वन्द से जूझ रहा है और अपने ही समाज के भीतर बैठे दुष्टों ( छलिया रावणों ) की गिरफ्त में इस कदर जकड़ चुका है कि उससे निकलने की लाख जद्दोजहद करने के बावजूद निकल नहीं पा रहा है । 

बात जब जब ब्रह्मऋषि समाज को सकारात्मक दिशा देने की होती है तो हर प्रयास को विफल करने हेतु ब्रह्मऋषि समाज के भीतर बैठे दुष्ट ( छलिया रावण ) लोग आगे आ जाते हैं और अपनी पूरी ऊर्जा समस्त ब्रह्मऋषि समाज को दिग्भ्रमित करने में लगा देते हैं । नतीजा ब्रह्मऋषि समाज अपनी खोई हुई सकारात्मक शक्ति को पुनः प्राप्त करने से वंचित रह जाता है । 

किसी भी समाज की धूरी और स्तम्भ उस समाज के बौद्धिक और साधु प्रवृति के लोग होते हैं जो समाज को पथभ्रष्ट होने से सदैव बचाने को तत्पर रहते हैं और किसी भी विपरीत परिश्थिति में उचित निर्णय लेते हैं जो समाज के हित में होता है । लेकिन 1990 के उपरान्त इन बौद्धिक एवं साधू प्रवृति के लोगों की गिरफ्त से भूमिहार ( ब्रह्मऋषि ) समाज की बागडोर को लुच्चे एवं अपराधिक लोगों ने अपने हाथों में ले लिया और नतीजा पूरा का पूरा ब्रह्मऋषि समाज दिशाविहीन हो गया और पतन की ओर अग्रसर हो चला । 

अपराधिक लोगों की सामाजिक हैसियत इतनी बढ़ती गई कि ब्रह्मऋषि समाज की राजनीति में अब इक्के दुक्के भले लोगों के अपवाद को यदि छोड़ दें तो आज हर जगह हर ओड़ इन अपराधियों का ही राजनैतिक दबदबा कायम हो चुका है । बात जब भी ब्रह्मऋषि समाज के सुधार की होगी हर बार शुरुआत राजनैतिक सुधार से ही होगी क्योंकि सही दिशा में की गई राजनीति ही समाज में खुशहाली ला सकती है तथा एकता एवं भाईचारा कायम कर सकती है जबकि ठीक इसके विपरीत गलत मंशा के साथ एवं गलत दिशा में की गई राजनीति पुरे देश और समाज को बर्बादी की ओर धकेल देती है । इसलिए जबतक साधु प्रवृति के लोग ब्रह्मऋषि समाज की राजनीति में दुबारा फिर से स्थापित नहीं किये जाते तबतक भूमिहार समाज के पुनरुद्धार की बात करना न केवल बेमानी होगी अपितु यह नामुमकिन भी है । इसलिए बार बार सभी युवा एवं बुद्धिजीवी साथियों से मेरी अपील है कि जरा अपने अन्तःमन से सोंचें और इस सामाजिक बदलाव को हकीकत में तब्दील करने का प्रयास मिलजुलकर करें , तभी हम अपने पुराने गौरवशाली अतीत को पुनः प्राप्त कर सकते हैं और सच्ची मानव सेवा भी कर सकते हैं । जबतक समाज के बौद्धिक और साधु प्रवृति के लोगों को हम सामाजिक और राजनैतिक रूप से तवज्जो नहीं देंगे , न तो हमारे समाज में एकता आएगी और न ही हम प्रगति की राह पकड़ पाएंगे । ध्यान रहे : वृक्ष कबहू न फल भखें । नदी न संचे नीर ।।परमारथ के कारणे । साधुन धरा शरीर ।।

Community Journalism With Courage

Comments

gopal kishore said…
I HV posted a comment on fb bt yet not approved... Pls clearify ur reason
भूमिहारों का यह जो मंच बनाया है उसने क्या अन्य जाति के लोग भी शामिल हो गए हैं

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…