Skip to main content

गिरिराज सिंह की चेतावनी, तेजस्वी यादव का तंज, पढ़िए किसने क्या कहा ?

giriraj singh
गिरिराज सिंह पर ट्विटर अटैक  - गूगल इमेज 
पटना. बिहार की सियासत में ज़मीन विवाद मामला गहराता जा रहा है. इसी मामले को लेकर अब गिरिराज सिंह और तेजस्वी यादव आमने-सामने हैं. ज़मीन कब्जाए जाने के मामले में जब से गिरिराज सिंह का नाम आया है तब से तेजस्वी लगातार ट्विट कर पूरे मामले को और सुलगा रहे हैं और गिरिराज सिंह के बहाने नीतीश कुमार पर भी निशाना साध रहे हैं. पहले पढ़िए तेजस्वी ने क्या - क्या ट्वीट किया ? 

1- केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह द्वारा 2 एकड 56 डिसमिल जमीन पर जबरन कब्ज़ा करने के आरोप पर आज पटना व्यवहार न्यायालय के आदेशनुसार दानापुर थाना मे (कांड संख्या 54/2018) FIR की गई है।इसी मंत्री के घर करोड़ों रू कैश की भी बरामदगी हुई थी।लेकिन फिर भी ईमानदार है क्योंकि कोई खबर नहीं है। 

2- नीतीश जी,आपकी नाक के नीचे आपके दुलारे सहयोगी दल के वरिष्ठ नेता और आपके प्यारे केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने लगभग 3एकड़ गरीबो की जमीन पर जबरन कब्ज़ा कर लिया है। क्या आप अब गठबंधन तोड़ेंगे? क्या आप इस्तीफ़ा देंगे अंतरात्मा बाबू? अब कहाँ पानी भर रही है आपकी नैतिकता? है कोई जवाब? 

3- देश के सबसे बड़े अफ़वाह मियाँ और ख़ुलासा मास्टर सुशील मोदी के मुँह में दही जम गया है। उनके आका नीतीश कुमार बंगले पर बंगले लिए जा रहे है।उनके परम सहयोगी केंद्रीय मंत्री गिरीराज गरीबों की जमीन कब्ज़ा रहे है। सुशील मोदी इन मुद्दों पर बिल में घुस गए है। कहाँ छुप रहे हो ख़ुलासा मियाँ? 

4- प्रधानमंत्री @narendramodi जी, क्या आपकी सरकार इसी ईमानदारी की बात करती है जहाँ गरीबों को घर देने की बजाय आपके कैबिनेट मंत्री गरीबों की जमीन पर ही कब्ज़ा कर रहे है? कृपया आप अपने स्तर से मामले को देखना क्या पता ये मंत्री महोदय कहीं उन गरीबों को ही पाकिस्तान भेजने की बात करने लगे 

5- नीतीश कुमार जी, शर्म ना करिए। मुँह खोलिए। अंतरात्मा जगाइये। नैतिकता को बुलाइये। गूँगे मत बनिए। डरिए मत। इस्तीफ़ा लिखकर गवर्नर हाउस जाइये। आपके परम दुलारे परम प्यारे मित्र और केंद्रीय मंत्री गिरीराज ने बिहार के दलितों की लगभग तीन एकड़ जमीन कब्ज़ा ली है। ऐक्शन लीजिए, डरिए मत। 

6- आपके घर करोड़ों कैश, विदेशी मुद्रा, ज़ेवरात, महँगी घड़ियाँ मिली थी। बड़ी चालाकी से मामला दबवाया गया था। कौन नहीं जानता।अब दलित की ज़मीन पर कब्ज़ा? माननीय कोर्ट के आदेश से FIR हुआ है जनाब। 

7- नीतीश जी अगर आप मे नैतिक बल है और अपनी नैतिकता एवं तथाकथित छवि की पूँजी पर घमंड है तो गिरिराज सिंह से तथ्यात्मक बिंदुवार जवाब लेकर दिखाइए ना।पूछिए क्यों दलितों की ज़मीन कब्ज़ा रहे है? सामंती मानसिकता के CM पिछड़े वर्ग से आने वाले तेजस्वी से बड़ा कूद-कूद बिंदुवार जवाब माँग रहे थे 

8- केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जबरन जमीन कब्ज़ाई है लेकिन बिल में सुशील मोदी छुप गए है। अरे भाई, कोई ढूँढो ख़ुलासा मियाँ उर्फ़ अफ़वाह मास्टर सुशील मोदी को! ना जाने किस बिल में दुबक गए है। क्या गिरीराज सिंह के मसले पर सुशील मोदी की फर्ज़ी नैतिकता तेल लेने पाकिस्तान गयी है?

तेजस्वी को गिरिराज सिंह की चेतावनी :
भूमि विवाद मामले पर तेजस्वी के ट्वीट पर केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने भी प्रतिक्रिया दी है. वे लिखते हैं - 

1- तेजश्वी जी के ट्वीट से पहली जानकारी मिली,ऐसा प्रतीत होता है कि इसके आर्किटेक्ट वही है FIR के मेरिट पर जानकारी के अभाव में कुछ नही कह सकता। लेकिन कानून का हमेशा सहयोग करूँगा। तेजस्वी जी अपने पिता जी के कन्विक्शन और उसके बाद डूबती राजद की नैया बचने पर चिंतन करे तो भला होगा।

2- "बचकानी हरकतें बंद करें तेजस्वी...नहीं सुधरे तो तेजस्वी तो मुझे अगला कदम उठाना पड़ेगा"

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.