Skip to main content

सरस्वती पूजा में अश्लीलता के नाम पर सरकार और मीडिया के निशाने पर सिर्फ बीएन कॉलेज ही क्यों?

सरस्वती पूजा के नाम पर जबरन चंदा वसूली और अश्लील गानों का कार्यक्रम हर साल का नियम सा बन गया गया है। विद्या की देवी की पूजा के अवसर पर अश्लीलता के इस कार्यक्रम की शुरुआत कब और कैसे हुई, ये तो कोई नहीं जानता। लेकिन वर्तमान परिदृश्य में इससे बिहार का कोई भी कॉलेज या छात्रावास अछूता नहीं। लेकिन इस बार इसी मामले को लेकर पटना का बीएन कॉलेज सुर्खियों में रहा। सरस्वती पूजा के नाम पर हुए बार बालाओं के डांस का वीडियो सोशल मीडिया और न्यूज़ चैनलों पर छाया रहा।इसी बाबत कुछ बुद्धिजीवी सवाल उठा रहे हैं कि आखिर जब सभी छात्रावास और कॉलेज में इस तरह के कार्यक्रम हो रहे थे तो सिर्फ बीएन कॉलेज को ही क्यों निशाना बनाया गया।

हिमांशु कुमार सवाल उठाते हुए कहते हैं -
सरस्वती पूजा के नाम पर जगह जगह तरह तरह के कार्यक्रम हुए,लेकिन अचानक बी एन कॉलेज छत्रवास में हुए कार्यक्रम पर मीडिया, प्रसाशन अतिसक्रिय हो उठा है। यह सक्रियता एक अंदेशा, सम्भाववना और साजिश भी हो सकता है।कभी सैदपुर होस्टल को अपराध, और अपराधी के नाम पर एक जाती विशेष के छात्रों से बिहीन कर दिया गया।पटना विश्वविद्यालय के विभिन्न छात्रावासों से यथा, हथुआ होस्टल कैवेंडिस फैराडे रामानुजम आदि से हम कबके खत्म हो चुके है।ले दे के बस बी एन कॉलेज छात्रावास में बचे थे,
वँहा से भी इस आँधी में उखड़ जाएंगे शायद।
जांच, F I R, शोषण अत्याचार। *(आपकी एक चूक प्रसाशन को आपको उखाड़ फेंकने का मौका दे देगा)

भाई बाई जी नाच न पहली बार हुआ है,न सिर्फ एक जगह पर। कभी कल्याण छात्रावास पर छापा पड़ते सुना है !!पटेल छत्रवास में तो हमेशा सन्तो के प्रवचन मात्र होता है,

वही आशुतोष कुमार गोलू लिखते हैं -

Nitish Kumar जी अश्लीलता फैलाने के नाम पे केवल BN कॉलेज MAIN HOSTEL के छात्रों पे ही कार्यवाई क्यों? अश्लीलता फैलाने के आरोप में पहली कार्यवाई तो आपकी पार्टी जदयू पे ही होनी चाहिए ,कौन भूल सकता है भला महागठबंधन के गांधी मैदान में रैली के दौरान पटना की सड़कों पे जिस प्रकार की अश्लील लौंडा डांस किया जा रहा था, सुशासन बाबू आप उसी रैली में नाखून और बाल PMO भेजे थे DNA चेक करने के लिए हालांकि बाद में आपका DNA NDA से मैच कर गया और आप भाजपा से गठबंधन कर लिए। आपके कई एक विधायक के भी बार गर्ल के साथ नाचते हुए वीडियो वायरल हुआ हैं उन विधायकों पे आपने क्यों नहीं कार्यवाई की? अगर आप की औकाद है तो पटेल छात्रावास पे भी कार्यवाई कीजिये वहां भी जागरण के नाम पे अश्लील नृत्य होता है और विसर्जन के दौरान जमके उत्पात मचाया जाता है जिसका वीडियो आपको भी you tube पे सर्च करने पे मिल जाएगा, लेकिन आपकी औकाद नहीं है पटेल छात्रावास के छात्रों पे कार्यवाई करने की क्योंकि ये छात्र आपके स्वजातिय जो हैं। अभी भी सरस्वती पूजा के विसर्जन के दौरान पटना क्या पूरे बिहार के सड़को पे अश्लील नृत्य किया जा रहा हैं। मिंटो , अम्बेडकर , जैक्सन हॉस्टल्स के लफंगों से पूरा पटना वाकिफ है। अगर आप में हिम्मत है तो पहले इन सबो पे कार्यवाई कीजिये नहीं तो आपको कोई नैतिक अधिकार नहीं है केवल BN हॉस्टल के सवर्ण ब्रह्मर्षि समाज के छात्रों पे कार्यवाई करने की।
आपकी निकम्मी प्रशासन अपनी नकामी छिपाने के लिए छात्रों पे ठीकरा फोड़ रही हैं।
BN हॉस्टल के बहाने ब्रह्मर्षि समाज को टारगेट करना बंद कीजिए नहीं तो करारा जवाब मिलेगा अब 2019 भी ज्यादा दूर नहीं हैं। हमारी समाज भूली नहीं हैं किस साजिस के तहत आपलोगों ने सैदपुर छात्रावास को बंद करा दिया। सवर्णों के स्वाभिमान पे चोट किया जाएगा तो उसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…