Skip to main content

सामाजिक उद्देश्यों से भटकती ब्रह्मऋषि राजनीति और परिणामतः नेताओं का होता राजनैतिक पतन


राजीव कुमार, ब्रह्मऋषि चिंतक -

ब्रह्मऋषि वेदना से ओतप्रोत ब्रह्मऋषि राजनेताओं के राजनैतिक पतन पर ब्रह्मऋषि चिंतक राजीव कुमार की व्यक्तिगत शोध पर आधारित प्रस्तुति

हाल ही के वर्षों में ब्रह्मऋषि समाज की राजनैतिक हिस्सेदारी में आये तीव्र ह्रास पर जमकर हाय तौबा मचा हुआ है । चारों तरफ राजनैतिक सम्मलेन आयोजित किये जा रहे हैं कि किस प्रकार समाज को एकमत किया जाए और बड़ा वोट बैंक बनाया जाए । लेकिन शायद इस बात को लेकर कोई जनमत संग्रह करने का प्रयास नहीं हो रहा है कि समाज की मूलभूत समस्याएँ हैं क्या और इनका समाधान क्या है । सरकार या कोई agency भी कोई योजना को सतह पर लाने से पहले उसके ऊपर एक सर्वे करती है ताकि उस योजना को सफलतापूर्वक लागू किया जा सके । लेकिन अपार बुद्धिजीवियों के समूह ब्रह्मऋषि समाज में सामाजिक समस्याओं और उसके समाधान हेतु आवश्यक चिंतन ही गायब हो चुका है और नतीजा तीव्र राजनैतिक पतन । 1990 के उपरांत आये इस तीव्र राजनैतिक पतन के बहुत से कारण हैं उनमें से प्रमुख जो कारण हैं वो निम्नलिखित हैं :

1) समाज की अधिकांश आबादी के कृषि पर आश्रित होने के बावजूद उसको अधिक से अधिक रोजगारपरक और लाभप्रद बनाने हेतु सामाजिक और राजनैतिक प्रयास में कमी ।

2) समाज में गैरराजनीतिक एवं सांस्कृतिक मंच का बिलकुल विलुप्त हो जाना

3) सच्चे सामाजिक चिंतकों की बजाए गुंडे ,दलाल , अपराधी प्रवृति के लोगों को राजनैतिक तवज्जो देना और उनका राजनैतिक प्रादुर्भाव होना ।

4) गुंडे मवालियों के राजनैतिक प्रादुर्भाव के कारण विगत वर्षों में बहुतेरे प्रबुद्ध एवं सच्चे पुरोधा लोगों को नुकसान पहुँचाया गया और नतीजतन उन लोगों का समाज के प्रति चिंतन और रुझान समाप्त हो गया और फलस्वरूप समाज का ह्रास हर क्षेत्र में हुआ ।

5) युवाओं को शैक्षणिक और व्यावसायिक रूप से विकसित करने के प्रयास को विराम लगा दिया गया और उनको सामाजिक प्रोत्साहन कम मिला जिसकी वजह से भी समाज दिशाविहीन हो गया और समाज में एक प्रकार से उदासी छा गई ।

इन सब कारणों के अलावा और भी बहुतेरे कारक रहे जिसने समाज की दशा और दिशा पर प्रतिकूल प्रभाव डाला और नतीजा ऐसा हुआ कि लोग एक दूसरे से कन्नी काटने लगे और दूरी इस कदर बढ़ी कि आपसी मदद की भावना ही समाप्त हो गई । लोग खुराफाती बातों पर अधिक ध्यान देने लगे और ये समाज चेतना शून्य हो गया ।

आज स्थिति यह है कि एक भूमिहार के साथ अन्याय होता रहता है एवं उसका नुकसान होता रहता है और लोग चुपचाप देखते रहते हैं और पीठ पीछे ताली भी बजाते हैं और उसकी तकलीफ से खुश होते हैं । बड़ी ही शर्मनाक स्थिति हो चली है इस समाज की और अजीब विडम्बना है कि कोई इसपर सोंच नहीं रहा ।अगर यही स्थिति बनी रही और इसपर कोइ त्वरित सुधार नहीं किया गया तो सामाजिक रूप से शून्यता की ओर बढ़ चुका यह समाज बहुत जल्द राजनैतिक रूप से भी शून्य हो जाएगा ।

अतः जो लोग यह ख्वाब देख रहे हैं कि 10 प्रतिशत की आबादी वाले यादव समाज की बिहार विधानसभा में राजनैतिक हिस्सेदारी 80 सीट ( लगभग ) के समानुपात में 7.5 -8 % की आबादी वाले भूमिहार समाज की राजनैतिक हिस्सेदारी होनी चाहिए , उनको पहले सामाजिक खामियों और कुरीतियों के खात्मे हेतु सघन प्रयास करना चाहिए और अपने समाज के चहूँओर उत्थान हेतु प्रयास करना चाहिए , तभी उनका प्रयास सफल होगा ।

इसलिए राजनैतिक चेतना जागृति से पहले सामाजिक चेतना जागृति  लाना बहुत जरूरी है और वैसे खुराफाती तत्वों पर पूर्ण विराम लगाने की तत्काल आवश्यकता है जो गैरों से मिलकर या खुद से  अपने समाज और अपने लोगों का ही नुकसान करते रहते हैं ।

इसलिए जबतक सामाजिक जागृति और चेतना पर बल नहीं दिया जाएगा तबतक राजनैतिक चेतना और एकता की बात सफलीभूत नहीं हो सकती ।

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…