Skip to main content

भूमिहार ब्राह्मण समाज को आत्मचिंतन की जरूरत!


राजीव कुमार, ब्रह्मऋषि चिंतक -

क्या वाकई भूमिहारों में आपसी जुड़ाव की जरूरत है या आत्मचिंतन की ?

भूमिहार समाज के पुनरुत्थान हेतु आत्मचिंतन पर बल देने को कह रहे हैं ब्रह्मऋषि चिंतक राजीव कुमार। प्रस्तुत है उनका पूरा लेख :

बीते वर्ष सोशल मीडिया पर एक मुद्दा घूम फिर कर छाया रहा और गाहे बगाहे सबने एक स्वर में यही कहने का प्रयास किया कि भूमिहार समाज में आपसी वैमनस्यता और छल प्रपंच का दौर खत्म होने का प्रयास होना चाहिए और आपसी जुड़ाव पर जोर होना चाहिए ।

परंतु मेरा अपना मानना यह है कि  भूमिहारों में शुरू से अपनत्व और एक दूसरे के प्रति सहानुभूति रही है और यह आज भी जारी है ।

अलबत्ता लोगों का नजरिया जरूर बदल गया है या यूँ कहें कि चंद रावणों द्वारा कुछ खुराफात , छल एवं प्रपंच  के द्वारा लोगों के सोंचने एवं देखने के नजरिये को जरूर बदलने का पुरजोर प्रयास किया गया है जिसमें वे रावण कुछ हद तक सफल भी रहे हैं और समाज पर राज भी कर रहे हैं ।

मैंने अपनी निजी जिन्दगी में अनेकों ऐसे क्षण देखे एवं परखे हैं  जहाँ बहुतेरे भूमिहार महामानवों के सहयोग एवं समर्पण को मैं आजीवन भुला नहीं सकता और इनका आजीवन मैं आभारी रहूंगा और सदैव वो मेरे लिए प्रेरणास्रोत रहेंगे ।
उन्हीं अविष्मरणीय  यादों में एक घटना को आपके समक्ष साझा कर रहा हूँ जिसने मेरी जिंदगी में अपने समाज के उन सच्चे महामानवों के प्रति उनका कायल बनाकर रख दिया ।
बात 1993 की है जब मैं यक्ष्मा की बीमारी से ग्रस्त हो गया था और मुझे साँस लेने में गंभीर समस्या हो रही थी । उसी दरम्यान एक भूमिहार डॉक्टर जिनका नाम डॉक्टर सदन कुमार था उन्होंने मुझे मेरे घरपर आकर देखा और विधिवत इलाज शुरू किया । यहाँ यह बताना बहुत ही प्रासंगिक और अनिवार्य हो जाता है कि मैं जहाँ मुजफ्फरपुर का भूमिहार था वहीँ वो महामानव डॉक्टर साहब पटना के भूमिहार थे । हमारे बीच कोई रिश्तेदारी नहीं थी लेकिन मेरे पिताजी से उनकी मित्रता थी । उनहोने जिस प्रकार से  मेरे घर आकर प्रत्येक दिन इलाज और देखभाल किया उससे मैं उनकी इस दिव्य सोंच और अपने समाज के प्रति समर्पण देखकर मैं अभिभूत हो गया ।

सवाल यह नहीं कि उस महामानव ने मेरा उपचार मेरे घर आकर किया ।सवाल उनकी प्रतिबद्धता का था जिसने उनको मेरे करीब खींचकर लाने में महती भूमिका निभाई अन्यथा मैं तो उनके लिए एक मरीज मात्र था । परंतु उस महामानव ने अपने अंतर्मन में बैठी अपने समाज को सेवा करने की भावना के तहत बहुत ही संजीदगी से मेरा उपचार किया और मुझे उस रोग से मुक्ति दिलाई  ।

इसके अलावा बहुतेरे अवसर आये जहाँ उन्होंने एवं उन जैसे दिव्य सोंच रखने वाले अन्य भूमिहार महामानवों ने मेरे परिवार की मदद की एवं हमलोगों को आत्मविभोर कर दिया और हम आज भी उन जैसे महापुरुषों की सोंच और उनके कृत्य के लिए हृदयतल से उनका आभार व्यक्त करते हैं और उनसे पल पल प्रेरणा लेते हैं ।

इसलिए मेरा अपना शुरू से मानना है कि किसी भी समाज की दशा एवं दिशा सुधारनी हो तो सदैव अपने समाज के ऐसे महामानवों को ( Role Model ) आदर्श मानें , ना कि चोर , उचक्के , अपराधी , छल प्रपंची रावणों को क्योंकि किसी भी समाज की रीढ़ सदैव समाज के ये राम होते हैं जो निःस्वार्थ भाव से समाज की सेवा करते हैं । समाज के रावण तो क्षणिक लाभ का वास्ता देकर लोगों को गुमराह करते हैं और व्यक्तिगत हित साधते हैं ।

इसलिए भूमिहार समाज में जरूरत है समाज के उन राम को चिन्हित करने की और उनका यशगान करने की ।
भूमिहार समाज में जुड़ाव की जरूरत नहीं है बल्कि आत्मचिंतन की जरूरत है क्योंकि आपसी जुड़ाव तो भूमिहार समाज में शुरू से रहा है । जरूरत है भूमिहार समाज में तोड़ाव / बिखराव को रोकने की , जो 1990 के उपरान्त से चंद अपराधिक एवं कुटिल प्रवृति के लोगों के राजनीतिक पदार्पण के पश्चात उन रावणों द्वारा अपने व्यक्तिगत फायदे के लिए भूमिहार समाज में आपसी वैमनस्यता का बीज जमकर बोया गया ।

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.