Skip to main content

गौर कीजियेगा कि बिहार भाजपा में भूमिहारों को कितना सम्मान मिलता है?


रौनक कदम-
हम सभी भूमिहार भाजपा को वोट ही नही उसे चुनाव में धन बल और बाहु बल का भी साथ देते हैं, पर गौर कीजियेगा बिहार भाजपा में भूमिहार समुदाय के लिए कितनी इज्जत और सम्मान है,
1:-- पूरे बिहार में कितने भाजपा जिला अध्यक्ष भू समाज से हैं
2:-- क्या भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए नित्यानंद राय से बढ़िया कार्य श्री सुधीर शर्मा नही कर सकते थे 
3:-- बिहार भाजपा बस नीतीश कुमार का तलवा चाटती है और नीतीश भूमिहार बिरोधी है
4:-- बिहार की राजनीति लालू नीतीश सुशील मोदी और रामविलाश पासवान के इर्द गिर्द घूम रही है और सब बस भूमिहार को मोहरा बनाता है।
गौर कीजियेगा??😢😢😢

इसपर आयी कुुुछ टिप्पणियां- 

वेद प्रकाश- भाजपा भूमिहार ब्राह्मण समाज का इस्तेमाल सेनिटरी नैपकिन के रूप में करती है, बस यही सच है।

मनीष कुमार- आपके समाज में डा. सीपी ठाकुर के बाद कोई सर्वमान्य और निस्पाप नेता आगे नहीं बढ़ पाया। क्योंकि आपके नेता के पास कोई सिद्धांत नहीं होता? घुटनाटेक राजनीति करते हैं सभी।

पूनम पाांडेय- हम भूमिहारों में भी एकता नहीं है।

Comments

Mauli bhardwaj said…
Hamko yah baat apne dimaag me rakhna hoga ki 1990 ke daur tak jab tak congress rajnetik taur pe bihar me majboot thi tub tak ham bhumihar rajnetik k dhoom ketu bane hue thhe bihar k rajneeti hamare hi bhumiharo k aamne samne ghumti rahti thi lakin hamari hi rajnetik bhul thi congress ko harana aur janta party aur bjp k ghatbandhan ko jitana jis wajah se bihar k rajneeti ahiro ya kahe to yadavo ke haath me chali gayi aur aur tub se aaj tak congress bihar me majboot nahi ho saki aur bhumihar brahman rajnetik taur pe lagatar haasiye pe jaa rahe hai hame us din ka intajaar karna hoga jab congress bihar me majbooti k saath laute aur jahan tak ho sake congress k support karna hoga tub jaake condition badlegi aur ek baat bhumihar candidate ko hi vote kare
Mauli bhardwaj said…
Nitish kumar jo bhumihar virodhi hai aur brahmeshwar mukhiya ji ko marwaya lalu yadav ne apne 15 saal k raaj me ye gunah nahi kiya jo nitish kumar ne apne raaj me kiya aur ek baat jarur jaan le ranvir sena ka aatank lalu yadav k raaj me tha na ki nitish kumar aur bjp k raaj me isse yah jaahir hota hai ki nitish kumar aur bjp,lalu yadav se bade bhumihar virodhi hai hum bhumiharo ko ye baat nahi samajh paa rahe hai yah durbhagyapurn hai

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…