Skip to main content

भूमिहार,ब्राह्मण और राजपूतों की ज़मीन पर जब लाल झंडा गाड़ा जा रहा था तब बचाने कोई भगवा नहीं आया था

सोशल मीडिया पर भूमंत्र संवाद-
वीर राय-
जब 90 के दशक में भूमिहारों, राजपूतों, ब्राह्मणों (सवर्णो) का घर ,दलान अौर टैक्टर जलाया जा रहा था, जब सवर्णो के जमीनों पर लाल झंडा गाड़ा जा रहा था.. उस समय कोई हाफ पैंट और भगवा पगडी वाला हमें बचाने नही आया था.. 

इसीलिए हमें हिन्दूत्व का ठेकेदार बनने की जरुरत नहीं.. ऐसा नहीं की मैं हिन्दू धर्म का विरोधी हूँ..

परन्तु अपने समाज का हीत जरुर चाहता हूँ.. लेकिन यह गौर करने वाली बात है की हिन्दू प्रधान देश में हिन्दूत्व का सबसे बडा ठेकेदार होने के बावजूद भी एक कट्टर हिन्दू समाज (सवर्ण समाज) की स्थिति दैनीय क्यों है..?

मेरा मकसद किसी की भावना को ठेंस पहुँचाना नहीं है.. अगर कोई भी बंधू मेरी बातों से आहत हुए हैं, तो इसके लिए मैं क्षमा प्रार्थी हूँ..
लेकिन जो सच्चाई है, वह मैं आखरी सांस तक बोलूँगा..

देश में हिंदूत्व का अप्रतिम अाधार सवर्ण है, पांडित्य में प्रवीण है, हरेक जाति से ज्यादा लडा, मरा पर बदले में क्या मिला ?

गौर करने वाली बात है, विचार करने की जरुरत है..

Comments

Mauli bhardwaj said…
1990 ka daur wo daur tha jab congress bihar se lupt ho chuki thi aur bjp aur dusri party wajood me aane k liye tarah tarah k chaal chale bjp ki advani ram rath yatra aur atal kalash yatra desh me dharmik unmaad badhya gaya jis ka result desh aur bihar dono per dikha,bihar me bhagalpur danga,kasmir me pandito ki hatya,etc itna hi nahi mandal commission lagu kar desh me jaatiae matvedh paida kiya gaya jiska asar sabse jyada bihar pe hua kyoki bihar ek anpadh state tha ya hai aur yaha swarno ki population matra about 15 percent the,aur bihar ki satta anpadho ke haath me chali gayi jiska result senari,bara,aurangabad narsanghar etc hua issi sab wajah se bihar swarno ki raksha karne k liye ranveer sena ka uday hua mukhiya ji ke netritwa me,phir dhere dhere yah sab kam hua,jati waad itna badh gaya ki 1989 ke baad bihar aur up me dubara congress ki sarkar aaj tak nahi ban saki,rss jaisi hindutwa k naam pe dhong ker hindu voter ko bjp ki aur aakarshit karna hai aur kuch nahi hame iss baat ko bas samajhne ki jarurat hai aap socho sabse jyada dange bihar aur up me hi kyo hote hai kya bihar aur up ko chhor dusre state me muslim nahi hai kya,kya jati aur dharam ke alawa bjp ke paas dusra ajenda nahi hai election larne ka,kya bjp aur rss desh ko ye sandesh dene ki koshish nahi ker rahi ki bjp hi hindutwa ki thekedaar hai,rss aaj tak hindutwa ke liye kya kiya,bas bhagwa pagri,aaj desh me bjp ki sarkar hai kyo nahi cow ko national animal ghosit kiya,kyo nahi cow meat ban kiya ulte beaf export me india no.1 ho gaya aur ayodha ka ram mandir kyo nahi bana sirf dil se hi nahi dimag se sochiye
Mauli bhardwaj said…
Swarno k jammeno pe jhanda garne k naubat 1990 ke dasak me hi kyo aayi aur swarno k astitwa khatre me par gaya swarno k liye jaan bachaye ya jameen wali condition aa gayi ? forward backward ko baatne wala mandal commission 1990 ke dasak me hi kyo aaya jiske virodh me desh bhar me na jane kitne pratibha shali swarno ne aatmdah ker liya apne deh me aag lagaa liya aur sucide karne lage ? hindu aur muslim ko baatne wala advani ram rath yatra aur atal kalash yatra 1990 ke dasak me hi kyo nikla jisse desh k hindu aur muslimo k beech tanav badh gaya aur kashmiri pandito maare jane lage aur kashmir chor palayan karne lage aur desh bhar me dange chalu ho gaye mumbai me bhi iska asar joro pe dikha ? aur bhi bahut kuch hua uss daur me soch ker dekhiye to pata chelaga iss sab ki wajah bjp aur uski samarthan wali sarkar thi jo apne rajneetik faide k liye galat kadam uthya aur kahi na kahi hum se bhi rajnetik bhul hua jo hamne congress ko chhor bjp ko chuna aur yah sab dekhna pad gaya lakin na jaane phir bhi hum apni galti na sudhar paye ?

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…