Skip to main content

छोटे सरकार को मोकामा में ये देंगे कड़ी टक्कर!


शौर्य एस. सिंह -

भूमिहार बाहुल्य मोकामा विधानसभा क्षेत्र का चुनाव इस बार दिलचस्प होने वाला है। वर्तमान में यहां से बाहुबली अनंत सिंह विधायक हैं और उम्मीद की जा रही है कि अगली बार भी वे यही से ताल ठोकेंगे (अगर लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ते तो…) लेकिन इस बार उन्हें अन्य प्रत्याशियों से कड़ी टक्कर मिलने की उम्मीद है। मुख्यतः मोकामा में चार दिग्गजों के बीच टक्कर है। खास बात ये है ये सिर्फ चुनावी नहीं, बल्कि गद्दी की लड़ाई भी है।इसलिए 2020 के विधानसभा चुनाव में जोरदार मुकाबला होने की संभावना है जिसमें विजयी कौन होता है ये तो उसी वक़्त पता चलेगा।


1- अनंत सिंह उर्फ छोटे सरकार :

वर्तमान विधायक अनंत सिंह का मोकामा में दबदबा बदस्तूर जारी है।उनके प्रशंसक सोशल मीडिया पर उनके लिए लगातार कैम्पेन करते रहते हैं और वे काफी लोकप्रिय भी हैं।लेकिन ये लोकप्रियता ज़मीनी स्तर पर कितनी कारगर सिद्ध होगी कि ये देखना दिलचस्प होगा।कहा जाता है कि टाल क्षेत्र में उनकी जबरदस्त पकड़ है और उन्हीं के एकमुश्त वोटों के बदौलत वे चार बार से जीतते आ रहे हैं।लेकिन इस बार शायद ये इतना आसान नहीं होगा।फिर भी विश्लेषकों के फेवरेट वही हैं।आज भी जीत का प्रबल दावेदार उन्हें ही माना जा रहा है। 


वरिष्ठ समाजसेवी जीतेन्द्र कुमार सिंह कहते हैं - "जो व्यक्ति निर्दलीय चुनाव जीत सकता है वैसे व्यक्ति को किसी दल से लड़ने पर हराना आसान नहीं होगा।" 


लेकिन सौरव सिंह की राय इनसे बिल्कुल अलग है।वे कहते हैं -" माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी से सम्बन्ध सुधार की अपेक्षा पाल रखे अनन्त सिंह का निजी क्षेत्र में आरक्षण के खिलाफ एक शब्द नहीं बोल पाना मोकामा विधानसभा के युवाओं में काफी रोष है।।आगामी विधानसभा चुनाव में इसकी वजह से उनको काफी मुश्किल उठाना पड़ सकता है।"

2- ललन सिंह उर्फ नलिनी रंजन शर्मा :
ये अनंत सिंह के सबसे बड़े प्रतिद्वंदी बनकर उभरे हैं।पिछले कुछ समय से मोकामा में जनता के बीच सक्रिय भी रह रहे हैं।युवाओं के एक बड़े वर्ग का उन्हें समर्थन हासिल है।ये पहले की तरह फिर से मोकामा में कांटे की टक्कर दे सकते हैं।


3- कन्हैया कुमार सिंह :
ये पिछले चुनाव मे लोजपा के टिकट से राजग गठबंधन के उम्मीदवार थे। इन्हे टिकट इनके बड़े भाई  सुरजभान सिंह के बदौलत मिला था। इस बार भी के यहां से चुनाव लड़ सकते हैं।


4- नीरज कुमार (वर्तमान विधानपार्षद पटना,शिक्षाविद)
ये एक ऐसा चेहरा हे जो 2015 के विधानसभा चुनाव मे उभरा। इन्होने अंनत सिंह को कांटे की टक्कर दी और दूसरे नंबर पर रहे। उस वक़्त वे महागठबंधन के उम्मीदवार थे।


(ये लेखक का अपना विश्लेषण है।भूमंत्र का इससे सहमत होना आवश्यक नहीं)

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.