Skip to main content

सवर्णों की मदद के बिना दलितों का उद्धार कतई नहीं होता

अरविंद रॉय -
ब्राह्मण और समाज सुधार :भीमा कोरेगांव से कुछ लोग अपनी पॉलिटिक्स की दुकान चमकाने के लिए मूर्खता के सबसे निम्न स्तर पर आ गए है ,, कई दलितों को ये दम्भ और खुशफहमी पाले देखा है fb पे कि , आज वो जो भी है अंबेडकर और सिर्फ आंबेडकर की वजह से है... यदि केवल "संविधान संकलन" ही इसका कारण है तो फिर बाबा साहेब की जगह जो भी ड्राफ्ट करता वो भी यही सब करता जो उनने किया,,, मगर सामाजिक धार्मिक सुधार तो आंबेडकर से पहले शुरू हुए और वो करने का साहस किसी दलित में नहीं था,,स्थितियां इतनी विषम थीं कि दलित जीने के लिए भी सवर्णों के मोहताज थे और ये इतिहास का सबसे काला पन्ना है, ये मानने में कोई ऐतराज नहीं मुझे। मगर मैं ये भी जानता और मानता हूँ कि आज के दलितों के सभी सामाजिक अधिकारो की लड़ाई सिर्फ सवर्णों ने लड़ी   श्री कृष्ण सिंह  , राजा राममोहन राय, ईश्वर चंद, केशवचंद्र सेन , देवेन्द्र नाथ टैगोर, आत्माराम पांडुरंग, pt सुंदरलाल शर्मा ये सभी ब्राम्हण थे इनमे भी महादेव गोविन्द रानाडे तो चित्पावन थे जिनको दलित विरोधी ही माना जाता है, दयानद सरस्वती महात्मा गांधी घनश्याम दास बिड़ला सभी सवर्ण थे और हिन्दू धर्म की कुरीतियों के लिए आगे आये थे ... इनके सहयोग के बिना किस दलित ने आगे आने की हिम्मत की ?? और आज ये आरक्षण पर सवार होकर कुतर्क करते रहते है और सब की अनदेखी भी ... मैंने आज तक किसी दलित नेता को दलितों का भला करते नहीं देखा ,हाँ वो सक्षम होकर अपना भला जरूर करते है । याद रखिये सवर्णों_के_support_के_बिना देश तरक्की नहीं कर सकता रोजगार पैदा नहीं हो सकता इसलिए इस सहयोग का सम्मान करना सीखना चाहिए ... साथ मिलकर देश को बेहतर बनाने की जगह गलत तथ्यों की आग जलाना भी कम अपराध नहीं !!!
(कोई तथ्य गलत हो तो plz सुधार करें)

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.