Skip to main content

जस्टिस काटजू ने उड़ाया था भूमिहारों का मजाक !

markandey katju bhumihar
जस्टिस मार्कंडेय काटजू विवादास्पद बयानों के लिए जाने जाते हैं. इस क्रम में वे बेसिर-पैर के बयान भी देते रहते हैं जो कई बार उनकी गरिमा को शोभा नहीं देता. ऐसा ही एक बयान उन्होंने भूमिहार ब्राह्मणों को लेकर भी दिया था.

पिछले साल जून के महीने में उन्होंने 'जोक्स एबाउट भूमिहार्स' करके फेसबुक पर कमेन्ट किया और भूमिहारों को शूद्र करार दिया. काटजू ने इसे मजाकिया लहजे में पेश करने की कोशिश की, लेकिन सवाल उठता कि पूर्व न्यायाधीश रह चुके व्यक्ति को किसी जाति को लेकर ऐसी टिप्पणी क्या शोभनीय है? वैसे सोशल मीडिया पर उनको करारा जवाब भी मिला और वे भर्त्सना के पात्र भी बने. पढ़िए उनका पूरा कमेन्ट -
Jokes about Bhumihars
Bhumihaars are a caste in north India, mainly in eastern U.P. and Bihar, who are mainly landholders.. They are said to be in between Brahmins and Rajputs. Some write their surnames as Pandey ( which is a typically Brahmin surname ), some as Singh ( which is often a Rajput surname ), and some other write other surnames.
There was a senior lawyer in Allahabad High Court named R.N. Singh, whon was a Bhumihar.
One day he appeared in my Court, and I jokingly said to him :
" Mr. Singh, among Hindus there are said to be four castes, Brahmins, Kshatriyas ( Rajputs ), Banias, and Shudras. Whoever is not in the first three categories falls in the residual category, i.e. shudras. You Bhumihars are neither Brahmins, nor Kshatriyas, nor banias. So you fall in the residual category, i.e. shudra "
He smiled and said " My Lord, please declare this in some order, so that we get benefit of reservation. ":
There is another joke about Bhumihars.
Once a star was talking to another star in the night, and said :
तारा कहे सुनो भई तरई
राह छोड़ जात एक मनई
( O star, there is a man walking off the path )
The other star replied
तरई कहे सुनो ए तारा
मनई न होत, होत भूमिहारा
( O star, he is not a man, he is a Bhumihar )


https://m.facebook.com/justicekatju/posts/1223265314380679

Community Journalism With Courage

Comments

Mauli bhardwaj said…
Kasmiri brahman hoke bhumihar brahmano ka majak urana,bahut dukh k baat hai k ek brahman dusre brahman k majak urata hai,kahna to nahi chahiye lakin jab kashmiri pandito k aabru se muslim khel rahe thhe tub unhe kaisa lag raha thha jara puccheyega unse unhe kaisa laga tha us waqt unhe brahman tub sare desh k brahman dukhi thhe khasgar bhumihar brahman

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…