Skip to main content

2017 में सोशल मीडिया पर मजबूत हुआ ब्रह्मऋषि समाज

ब्रह्मऋषि चिंतक राजीव कुमार की नजरों में जाते हुए वर्ष 2017 की कुछ खास बातें : 

2017 brahamrishi samaj
कैसे 2017 वर्ष बीत गया ये हमलोगों को पता भी नहीं चला । जाते जाते इस वर्ष 2017 ने कुछ महत्वपूर्ण परिवर्तन के संकेत दिए ।जहाँ एक तरफ इस साल के शुरुआत में उत्तर प्रदेश और पंजाब के चुनाव ने किसानों के एकजुट होकर वोट करने और अपनी माँग को मनवाने हेतु चुनाव में अपनी माँग पर आधारित एकता दिखाई और नतीजा यह हुआ कि भाजपा जैसी शुद्ध व्यवसाइयों और उद्योगपतियों को समर्थित पार्टी को उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बनाने हेतु किसानों की कर्ज माफी की घोषणा चुनाव से पहले करनी पड़ी वहीँ कांग्रेस ने भी पंजाब चुनाव में किसानों के कर्जमाफी की बात कहकर उनकी सहानुभूति जमकर बटोरी । साल के अंत में भी ये सिलसिला जारी रहा और गुजरात में हुए विधानसभा चुनाव में एक बार फिर कांग्रेस ने किसानों की कर्जमाफी की बात कहकर उनकी सहानुभूति जमकर बटोरी और सरकार बनाने के करीब आकर उससे वंचित रह गए । 

कुलमिलाकर ये साल 2017 किसानों का साल रहा जिसमें सभी राजनीतिक दलों ने किसानों को रिझाने और उनकी दुखती रगों पर हाथ फेरकर उनकी सहानुभूति बटोरने का प्रयास किया । इसलिए ये वर्ष भारतीय राजनीति के दौर में किसानों के वोट की महत्ता दर्शाने वाला साल रहा ।इसके अलावा गुजरात के चुनाव में जिस प्रकार से NOTA को बढ़ चढ़ कर वोट मिला उसने भी भारतीय लोकतंत्र के व्यापक चुनाव सुधार की ओर बढ़ने का संकेत दिया जो एक अभूतपूर्व कदम है और जिसे भारतीय लोकतंत्र के सुचिता की ओर बढ़ने हेतु बाध्य करने वाला क्रन्तिकारी पहल भी माना जाएगा । रोजी रोजगार के मामले में ये वर्ष 2017 एक दम से हर क्षेत्र में असफल रहा और रोजगार के बहुत ही कम अवसर सृजित हुए । 

चलते - चलते बात ब्रम्हर्षि समाज की करें तो एक बात समझ में खुलकर सामने आई कि सोशल मीडिया पर इस साल ब्रम्हर्षि समाज का रुझान जबरदस्त बढ़ा और लोगों में जमकर इस तरफ आकर्षण देखने को मिला । युवाओं ने जहाँ सामाजिक पहल के माध्यम से जमीन पर कुछ मानवीय मदद की पहल जैसे कृत्य कर अपनी प्रतिबद्धता दिखाई , वहीं बुजुर्गों में चंद सच्चे महामानवों को अपवाद स्वरूप छोड़कर बाकि लोगों ने अपनी राजनीतिक जमीन तलाशने और उसे अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करने में युवाओं को झूठ - मूठ का रिझाने और उन्हें गुमराह करनेे में सोशल मीडिया का बखूबी प्रयोग किया । 

चंद इन अति महत्वाकांक्षी बुजुर्गों के इस सोशल मीडिया पर बढ़े प्रवाह और उनकी निजी राजनीतिक महत्वाकांक्षा ने युवाओं को दिग्भ्रमित करने का कार्य किया जो कि सचेत करने वाला संकेत है और किसी भी दृष्टि से अच्छा नहीं कहा जा सकता ।हाँ अलबत्ता कुछ महामानव बुजुर्गों ने जरूर 2017 वर्ष में सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी सामाजिक महत्ता और मानवीय उत्तरदायित्व का बखूबी निर्वहन किया और युवाओं का मार्गदर्शन भी बढ़ - चढ़ के किया जो उनके लिए सदैव प्रेरणास्रोत रहेगा और जिसके लिए युवा भी सदैव उनके आभारी रहेंगे ।मिला-जुलाकर ये कहें कि ये वर्ष सोशल मीडिया की तरफ ब्रम्हर्षि समाज के बढ़ते रुझान वाला साल रहा तो अतिश्योक्ति नहीं होगी ।

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…