Skip to main content

युवाओं से ही सुधरेगी ब्रह्मऋषि समाज की दशा एवं दिशा

युवा शक्ति ही देश और समाज की दशा और दिशा बदलने में सक्षम है. बदलाव और क्रांति के वही वाहक बनते हैं. इसी मुद्दे पर ब्रह्मऋषि चिंतक 'राजीव कुमार' की प्रस्तुति - 
brahamrishi youth

युवा जोश और ब्रह्मऋषि समाज 

युवा का मतलब उर्जा और जहाँ ऊर्जा है वहीँ विकास है । ब्रह्मऋषि समाज में भी युवाओं का रुझान सोशल मीडिया के माध्यम से अपने समाज के विकास की ओर बढ़ा है । कुछ अवसरों पर तो युवाओं ने अपनी ऊर्जा और सूझबूझ का प्रयोग अपने समाज को सही दिशा और गति देने के लिए बखूबी किया है और अपनी सामाजिक प्रतिबद्धता को दर्शाया है । 

युवाओं को बरगलाने वाले राजनीतिक जंतु 

युवाओं में भरे इस जोश और ऊर्जा तथा समाज के विकास के प्रति समर्पण का भाव देखकर काफी ख़ुशी की अनुभूति हो रही है । लेकिन साथ ही एक डर भी सता रहा है कि युवा तो ठहरे युवा । कहीं जोश में आकर वो होश न खो दें । उनमें जो जोश है उसको अपने व्यक्तिगत फायदे के लिए इस्तेमाल करने के लिए कुछ अति महत्वाकांक्षी परिपक्व लोग भी जोर शोर से सक्रीय हो चुके हैं । उनकी व्यक्तिगत राजनीतिक महत्वाकांक्षा ही इन युवाओं की ऊर्जा और इनकी गति को गलत दिशा में ले जा सकती है जिससे इन युवाओं को सचेत रहने की जरूरत है । मैंने सोशल मीडिया पर बहुतेरे ऐसे लोग देखे हैं जिनकी केवल और केवल राजनीतिक महत्वाकांक्षा है । उनको ब्रह्मऋषि समाज के विकास से कुछ भी लेना देना नहीं है । इन अतिमहत्वाकांक्षी राजनीतिक लोगों में कुछ अपने आपको बाहुबली दर्शाने वाले तो कुछ अति चालाक प्रबुद्ध लोग भी हैं जो युवाओं के अंदर भरे जोश को अपने व्यक्तिगत फायदे के लिए जल्दी से इस्तेमाल कर लेना चाहते हैं ताकि वो नेता बनकर अपने परिवार के लिए धनोपार्जन करने में लग जाएं । 

सामाजिक और सांस्कृतिक संगठन की जरुरत 

राजनीतिक और व्यक्तिगत महत्वकांक्षा वाले इन दोनों ही किस्म के लोगों की पहचान बहुत ही आसानी से की जा सकती है. हाल के दिनों में ब्रह्मऋषि समाज के गरीब लोगों को मदद पहुँचाने की सामाजिक अपील के दरम्यान इनकी गतिविधि का सूक्ष्मता से अध्ययन करने पर पता चलता है कि बात करने में तो ये लोग लंबी-लंबी करते हैं लेकिन आर्थिक मदद रुपी कृत्य में इनकी सहभागिता शून्य पाई गई है । जबकि ठीक इसके उलट युवा साथियों ने सामाजिक सहयोग के कार्य में जो जूनून दिखाया है वो काबिले तारीफ है और यह प्रमाणित करने के लिए काफी है कि समाज के इन्हीं समर्पित युवाओं को सक्रिय राजनीति में प्रवेश दिलाने हेतु पहल होना चाहिए । इसके लिए एक सामाजिक और सांस्कृतिक मंच का गठन होना चाहिए जिससे कि समाज के प्रति इमानदार व्कि सच्चे लोग राजनीति में आ सके और सांस्कृतिक संगठन उनकी मदद करे. ऐसे समर्पित युवाओं को ही सक्रिय राजनीती में प्रोत्साहन मिलने से ब्रह्मऋषिे समाज की दशा एवं दिशा दोनों बदलेगी तथा ये समाज अपने पुराने गौरवशाली इतिहास की गाथा को पुनः लिखेगा ।

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…