Skip to main content

डा. शिवपूजन राय के नेतृत्व में आज ही के दिन आठ भूमिपुत्रों ने तिरंगे के लिए दे दी थी अपनी जान

भूमिहार ब्राहमण समाज के भूमिपुत्रों ने जंगे आज़ादी में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और देश की आज़ादी के लिए हँसते-हँसते अपने प्राण न्योछावर कर दिए. ऐसे ही आज़ादी के दीवाने अमर शहीद डा. शिवपूजन राय और उनके आठ साथी थे जिन्होंने आज के ही दिन हँसते-हँसते तिरंगे के सम्मान में अपनी जान दे दी. इन्हीं को याद करते हुए केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा ने लिखा - " 18 अगस्त 1942 को मुहम्मदाबाद तहसील परिसर,गाजीपुर में देश की आजादी के लिए सीने पर गोली खाकर तिरंगा फहराने वाले सभी अमर शहीदों को मेरा नमन।"

भूमिपुत्रों की बेमिसाल क्रांति : 

मुहम्मदाबाद। वर्ष 1942 की अगस्त क्रांति के इतिहास में मुहम्मदाबाद की अहिंसक क्रांति बेमिसाल थी। इस घटना का जिक्र सुनकर लोग आज भी जोश से भर जाते हैं। महात्मा गांधी के अंग्रेजों भारत छोड़ों के आह्वान पर अमर शहीद डा. शिवपूजन राय के नेतृत्व में 1942 को आठ नौजवानों ने अपने प्राणों की आहुति दी थी। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पूर्ण स्वराज की मांग पर जोश से लबरेज लोग देश के कोने-कोने से स्वतंत्रता संग्राम के महायज्ञ में अपने प्राणों की आहुति देने के लिए आगे आ रहे थे। 18 अगस्त 1942 को शेरपुर गांव के हजारों लोग डा. शिवपूजन राय के नेतृत्व में तहसील भवन पर ध्वज फहराने के लिए पहुंचे। जिले का तत्कालीन कलेक्टर मुनरो उन्हें रोकने के लिए फौज के साथ वहां मौजूद था। 

डा. शिवपूजन राय ने दल को ताकीद की थी कि अहिंसा हमारा अस्त्र है और फायरिंग की स्थिति में भी दल की ओर से कोई हिंसा नहीं होगी। आजादी के दीवानों क ा दल तिरंगा फहराने के लिए आगे बढ़ा। लेकिन भारतीय तहसीलदार जो शिवपूजन का सहपाठी भी रह चुका था ने पदोन्नति के लोभ में जुलूस के पहुंचते ही अंधाधुंध गोलीबारी शुरू करा दी। समूह में भगदड़ मच गई, लेकिन शिवपूजन राय तहसीलदार को गोली चलाने के लिए ललकारते हुए हाथों में तिरंगा लिए तहसील भवन की ओर बढ़े। तभी उन्हें जांघ में गोली लगी, इसपर उन्होंने कहा, सीने में मारो। तुम अपना काम करो मुझे अपना काम करने दो। इतना कहते ही सीने पर गोली खाकर भारत मांका एक लाल उसके आंचल में हमेशा के लिए सो गया। 

इसी प्रकार वंशनारायण राय, रामबदन उपाध्याय, वशिष्ट राय, रिशेश्वर राय, नारायण राय, वंशनारायण राय द्वितीय और राजनारायण राय सभी ‘शेरपुर के शेर’ स्वतंत्रता की बलिवेदी पर आहुत हो गए। लेकिन आखिरकार सीताराम राय ने झंडा फहराने में कामयाबी हासिल कर ली। 

घायल श्रीराम राय को मृत समझकर सिपाहियों ने नदी में फेंक दिया। उन्हें जिंदा शहीद कहा जाता था। जब तक वे जीवित रहे शहीद पार्क में आकर अपने शहीद साथियों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ ही उस दिन के संस्मरण लोगों के साथ साझा करते रहे। पांच वर्ष पहले एक सड़क हादसे में उनकी मौत हो गई थी। 

तत्कालीन अखबारों ने मुहम्मदाबाद की इस घटना का विस्तार से उल्लेख किया था। नेशनल हेराल्ड ने 1945 में इस घटना को याद करते हुए लिखा कि शेरपुर में लायन हर्टेड लोग रहते हैं। इस घटना के बाद शेरपुर गांव पर अंग्रेजी फौज ने काफी जुल्म ढाया। 
























Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…