Skip to main content

विवादों में फंसे मनोज सिन्हा, देना पड़ा स्पष्टीकरण

manoj sinha

केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा अमूमन विवादों से दूर ही रहते हैं. वे अपनी संयत भाषा के लिए जाने जाते हैं. लेकिन उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में उनका नाम जबसे प्रमुख दावेदार के रूप में उछला तब से उन्हें विवादों में उलझाने की लगातार कोशिश की जा रही है. उसी कड़ी में ताजा विवाद काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में दिए गए उनके व्याख्यान को लेकर है.

दरअसल मामला 28 जून का है जब काशी हिंदू विश्वविद्यालय वाराणसी में एक कार्यक्रम का आयोजन हुआ था जिसमें दो डाक टिकट जारी हुए. इसमे रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने भी शिरकत की थी और उन्होंने सामान्य बातचीत में प्रख्यात साहित्यकार धर्मवीर भारती की रचना का जिक्र करते हुए इलाहाबाद को 'हरामजादा' शहर बताया था. उनकी इस टिप्पणी के बाद मामला गरमा गया है और साहित्यकार धर्मवीर भारती की पत्नी पुष्पाभारती ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई है. 

पुष्पाभारती ने कहा, 'भारती जी न तो इस तरह की भाषा बोलते थे, न लिखते थे और न ही उनकी रचना का कोई पात्र ऐसी भाषा बोलता है.' उन्होंने कहा कि जिनकी रगों में इलाहाबाद बहता हो, वह भला ऐसा कैसे कह सकते हैं.इस संबंध में केंद्रीय मंत्री पर बनारस की अदालत में परिवाद दर्ज कराया गया है. कोर्ट ने इस मामले में परिवाद दर्ज करते हुए परिवादी प्रेम प्रकाश यादव एडवोकेट के बयान के लिए 13 जुलाई की तिथि नियत की है. 

बहरहाल बयान पर विवाद होते देख केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा ने सोशल मीडिया के जरिए स्पष्टीकरण दिया और लिखा कि, "दिनांक 28 जून 2017 को काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के स्वतंत्रता भवन में दो स्मारक डाक टिकट काशी हिन्दू विश्वविद्यालय पर जारी किये गये। उस कार्यक्रम में मेरे द्वारा धर्मवीर भारती जी के प्रसंग के उद्धृत करने को लेकर एक गैर जरुरी विवाद पैदा हुआ है, उसका सन्दर्भ हास-परिहास का था।यह मेरे और काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ गिरीश चन्द्र त्रिपाठी जी के व्यक्तिगत सम्बन्धों में चला आ रहा है। इलाहाबाद शहर हमारे लिए श्रद्धा का केंद्र है जिसे तीर्थराज हम मानते हैं। इलाहाबाद विश्वविद्यालय जिसे ऑक्सफ़ोर्ड के नाम से देश जानता है, इस विश्वविद्यालय के लिए मेरे मन में अत्यंत सम्मान है इलाहाबाद शहर और विश्वविद्यालय के लिए कोई अपमान जनक टिप्पणी करने की बात तो दूर , मैं स्वप्न में भी नहीं सोच सकता हूँ।धर्मवीर भारती जी हिंदी साहित्य के अत्यंत तेजश्वी नक्षत्र रहे हैं और उनके लिए भी मेरे मन में अत्यंत श्रद्धा है। उनके पुरे साहित्य को समझना मेरे लिए बहुत मुश्किल है क्यूंकि न मैं साहित्य का विद्यार्थी रहा हूँ न ही मेरी उतनी समझ है बावजूद इसके अगर किसी की भावना को आघात लगा है तो मैं स्पष्ट करना चाहता हूँ कि मेरी ऐसी कोई मन्सा नहीं थी बावजूद इसके इलाहाबाद व इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रेमियों तथा धर्मवीर भारती जी में आस्था रखने वालों सभी बहनों-भाइयों से मैं खेद प्रकट करता हूँ। मेरा यह भी आग्रह होगा कि हर चीज़ को राजनीति के नजरिये से देखना यह अच्छी परम्परा नहीं है।"

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.