Skip to main content

58 साल के हुए मनोज सिन्हा, जन्मदिन पर बधाइयों का लगा तांता, योगी आदित्यनाथ ने भी दी बधाई

manoj sinha
राष्ट्रीय राजनीति में अपनी अलग पहचान रखने वाले केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा का कल जन्मदिन था. इस मौके पर उन्हें योगी आदित्यनाथ समेत देश के कई वरिष्ठ नेताओं और अन्य राज्य के मुख्यमंत्रियों ने भी उन्हें जन्मदिन की बधाई दी. 

विकासपुरुष मनोज सिन्हा का जन्म 1 जुलाई, 1959 को उत्तरप्रदेश के मोहनपुरा, गाजीपुर में हुआ. वे गाजीपुर(उत्तर प्रदेश) से संसद (लोक सभा) के सदस्य हैं और मोदी सरकार में मंत्री भी हैं. उन्होंने वर्ष 1982 में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (BHU), वाराणसी से सिविल इंजीनियरिंग में एम.टेक किया है. वे बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के विद्यार्थी संघ के अध्यक्ष थे. पहली बार 1996 में वे 11वीं लोक सभा के लिए निर्वाचित हुए तथा वर्ष 1999 में पुन: 13वीं लोक सभा के लिए निर्वाचित हुए. वर्ष 2014 में वे 16 वीं लोक सभा (तीसरा सत्र) के लिए उत्तर प्रदेश के गाजीपुर निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुए हैं. 

उनका नाम राष्ट्रीय स्तर पर तब सुर्ख़ियों में छाया जब उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री के संभावित उम्मीदवार के रूप में उनका नाम सबसे ज्यादा मीडिया में उछला. हालाँकि मोदी सरकार के सबसे अच्छे मंत्रियों में भी उनकी गिनती की जाती है. उनकी जन्मदिन पर आए कुछेक बधाई संदेश :

1- संबित पात्रा : Birthday greetings to Sh @manojsinhabjp Ji May He be blessed with a long & healthy life! 

2-योगी आदित्यनाथ : श्री @manojsinhabjp जी को जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनायें, आपकी दीर्घायु व स्वास्थ्य के लिये ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ। 

3-रामविलास पासवान : केंद्रीय मंत्रीमंडल मे मेरे सहयोगी श्री मनोज सिन्हा जी को जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।आप स्वस्थ रहें एवं दीर्घायु हो @manojsinhabjp 

4-वसुंधरा राजे : My best wishes to Union Minister @manojsinhabjp ji on his birthday. I pray for your good health, happiness and long life. 

5-राधामोहन सिंह : Birthday wishes to my colleague Shri @manojsinhabjp ji, may God bless him with a long and healthy life.
Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.