Skip to main content

भूमंत्र रणवीर सेना का आपसे बड़ा समर्थक है, आपने भूमंत्र के काम को जल्दी भूला दिया

भूमंत्र के काम को आपमें से कईयों ने बहुत जल्दी भूला दिया.नए सदस्य की अनभिज्ञता समझ में आती है.मगर कई पुराने सदस्य !!! वे बहुत जल्दी में हैं. भूमंत्र को रणवीर सेना, ब्रह्मेश्वर मुखिया और भूमिहार विरोधी साबित करने पर तुले हैं. भूमंत्र ने रणवीर सेना की कहाँ भर्त्सना की? बाबा ब्रह्मेश्वर का जिक्र कहाँ किया? यदि किया तो उसका स्क्रीनशॉट पेश किया जाए. भूमंत्र के जिस स्टैटस को आप तिल का ताड़ बना रहे हैं वो इस तरह से है -  "औरतों और बच्चों को मारना कायरता है,चाहे वो किसी भी जाति या विचारधारा से क्यों न हो।रणवीर सेना के रणबांकुरे से एकाध बार ये चूक हुई।"

भूमंत्र का यही बयान था और उसपर वह अडिग है. इसमें पहली बात कि बाबा ब्रह्मेश्वर का जिक्र तक नहीं है. फिर उनका अपमान कैसे हो गया? बाबा ब्रह्मेश्वर के शहादत दिवस पर इसी भूमंत्र ने ट्विटर और फेसबुक पर सघन अभियान छेड़ा था. याद न करने के कारण नेताओं की क्लास ली थी और समर्थन में पोस्ट की बौछार कर दी थी. भूमंत्र के प्रयास से ही आंदोलित होकर एक युवा ने दिल्ली के इंडिया गेट पर पहुंचकर अनोखे अंदाज़ में बाबा ब्रह्मेश्वर को याद किया और उनका साथ कई और युवा साथियों ने देकर इतिहास रच दिया.  इस मौके पर जब हम ये सब कर रहे थे तो कई लोगों को इतनी बदहजमी हुई कि वे अनाप-शनाप सवाल करने लग गए. एक सज्जन तो ग्रुप छोड़कर चले गए और फिर स्वत ही वापस आए. अब वही सज्जन अभी सवाल कर रहे हैं थे जो एन वक़्त पर सहयोग की बजाए बाबा ब्रह्मेश्वर के शहादत दिवस पर गायब हो गए. प्रोफाइल पिक से बाबा ब्रह्मेश्वर की पहले तस्वीर लगायी और फिर हटा दी. बहरहाल उससे कोई फर्क नहीं पड़ा और सोशल मीडिया पर पहली बार बाबा ब्रह्मेश्वर को लेकर जबरदस्त जयकारा हुआ. ये बात अलग है कि कम सहयोग की वजह से हम #BrahmeshwarTheWarrior को ट्रेंड कराने में असफल रहे.

दूसरी बात कि हर शब्द के अपने मायने होते हैं. उसे समझने की जरुरत होती है. भूमंत्र के स्टैटस में साफ लिखा है कि 'रणवीर सेना के रणबांकुरे' से 'चूक' हुई. यहाँ दो शब्द अति महत्वपूर्ण है. रणबांकुरे और चूक. यदि रणवीर सेना की भर्त्सना करनी होती तो उसके लिए रणबांकुरे शब्द का इस्तेमाल कभी नहीं करते है. रणबांकुरे सम्मानसूचक शब्द है. दूसरा शब्द चूक है जिसका मतलब है भूलवश. युद्ध और खून-खराबे में में ऐसा होता है जब बहुत कुछ ऐसा घटित हो जाता है जो आपकी योजना में शामिल नहीं होता. कई बार नायक के आदेश की भी अवहेलना होती है और स्थिति नियंत्रण के बाहर हो जाती है. संभवतया औरतों और बच्चों के मामले में ऐसी ही चूक हुई होगी. क्योंकि ऐसा हो ही नहीं सकता कि आधुनिक परशुराम ब्रह्मेश्वर मुखिया औरतों और बच्चों के कत्लेआम की इजाजत दे दे. यह उनकी इजाजत के बिना हुआ. ऐसा मेरा दृढ़ विश्वास है. युद्ध में गलतियाँ होती है और युद्धोपरांत उसे मानने की प्राचीन काल से प्रथा चली आ रही है. खुद भगवान् परशुराम क्षत्रियों के संहार के बाद तपस्या पर जाया करते थे. पिता के आदेश पर माता की हत्या के बाद उन्हें पुनर्जीवित भी किया और फिर जाकर उसका पश्चताप भी किया. महाभारत के बाद पांडव पुत्रों ने भी पश्चताप किया था और स्वयं भगवान् श्रीकृष्ण को श्राप के रूप में दंड भुगतना पड़ा था. युद्ध में गलतियाँ होना स्वाभाविक है लेकिन युद्ध के बाद गलतियों को स्वीकारने से जग में मान बढ़ता है.

अतवय जबरदस्ती मुझे रणवीर सेना का विरोधी मत बनाइये. मैं आपसे बड़ा उनका प्रबल समर्थक हूँ. आपसे ज्यादा उनकी मुझे समझ है. इसका प्रमाण दर्जनों लेख और चिठ्ठियाँ है जो रणवीर सेना और बाबा ब्रह्मेश्वर के समर्थन में भूमंत्र ने लिखे हैं. नए नारे दिए और शब्द गढ़े.बाबा ब्रह्मेश्वर की आदमकद प्रतिमा की स्थापना की मांग की. हत्यारों के न पकडे जाने पर सीबीआई और नेताओं की भर्त्सना की. रणवीर के नाम से पीएम मोदी और लालू को चिठ्ठी लिखी.  और भी बहुत कुछ. इतिश्री.

रणवीर सेना और ब्रह्मेश्वर मुखिया के समर्थन में लिखे कुछ लेख -

ब्रहमेश्वर मुखिया की राह पर चलते तो देश से नक्सलवाद का नामोनिशान मिट गया होता 

लालू यादव के नाम 'रणवीर' का खुला पत्र! 

 रणवीर की चिठ्ठी पर लालू फैन गर्माते क्यों हैं,नरसंहार मैंने नहीं शुरू किया था

जानिए ब्रह्मेश्वर मुखिया का नाम क्यों नहीं लेते गिरिराज सिंह ?

नक्सलियो के काल थे #रणवीर_सेना सुप्रीमो #बरमेश्वर_सिंह (मुखिया)

ब्रहमेश्वर सिंह मुखिया : आधुनिक परशुराम

 

 

 

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…