Skip to main content

धराशायी होती भूमिहार अस्मिता, बाबू अंबुज शर्मा की कविता

कलिकाल लाल कराल भाल 
पर महाकाल ताण्डव कर रहे
लड लड के भिडकर संग मे
भूमिहार संकट  सह रहे

नर नारी धेनू वाहन निशि दिन
यादवा-आतंक की बलि चढ रहे
आपसी मतभेद मे नित नये ऋण
ऋषिकुल के बाभनो पर बढ रहे 

है वृहद हृदय विशाल सहज स्वभाव बाभन जात का
हा मिल गये गर आज फिर देगे जवाब ये हर बात का
हो गरीब या सुपुष्ट अमीर या हो अपंग-अनाथ का
आज है दरकार हमे एक दूसरे से विश्वस्त साथ का

सम्प्रति बवंडर लाने की रखते है क्षमता सभी 
युद्ध मे बुद्दि हमारी  होती न है  असफल कभी
कर तैयारी संग्राम की ब्रहर्षि कस कटि अब शान से
 फिर कुछ ऐसा हो कि मस्तक उठा रहे अभिमान से
डरते रहे युगो तक सब शत्रु भार्गवनंदनो  के नाम से
हो सुशोभित जग पुनः हमारे विषद अनुपम ज्ञान से 

एक घटना कह रहा हू नयी सुनो ध्यान से
कुकर्मी चढ गये बहुसंख्या मे एक गांव पे
भृगुनंदनिया तन गयी देख खतरा आन पे
अंत तक लडी सब था मान प्यारा जान से 

आततायी जुल्मियो ने तब किया ऐसा  दारूण काम रे
माताओ के जबडे तोडकर लिखाया कायरो मे नाम रे

पर शूर वीरपुत्रो की जुबां क्यो अबी तक मौन है?
घरनियो के अपमान पर भी क्यो पौरूष गौण है?
क्या हो चुका है रक्त पानी माता सती के पूत का?
या जटा शाखा जड बढ गयी है आतंक झूठ का?
क्या शरीर शिथिल हुआ है ब्राह्मण भूप का
या भुजाए कट चूकि आयाचक ब्रह्मदूत का

मै नही पुकारता उस पुरूषत्वहीन समाज को
मै दे रहा आवाज हूं सम्मानित नूतन आज को
कर पुनः हुंकार तुम झंकार एक विराट् हो 
कर शंखनाद तू तेरी भृकुटि तनी ललाट हो

भूप नृप देव दनुज मनुज या चराचर का झुण्ड हो
यक्ष नाग किन्नर राक्षस या गिरी शिखर तुंग हो
डमगाये धरनी डोले अंबर डोले,डोले ये सारी अवनी
कांप जाए दुष्टो की जननी थर्राए उन गंवारो की गृहणी
जागो जागो जागो दौडो हे शावको तेरी माता है शेरणी
अंग प्रत्यंग मे बिजली फिर दौडे ऊष्ण तेरी हो  धमनी
फूटो हे दुर्वासा टूटो झपटो हे पातक त्राता
रणक्षेत्र मे विहारो संहारो संहारो हे भ्राता

मुण्ड काटहू विकट विकराल भट सब
अब भूल यज्ञ मे खुद को समर्पित  किजिए
 गर हुई पूर्णाहुति इस द्यूति मे तब
गर्व से अभिमान से सम्मान से जी लिजिए

वीर ही इस धरा पर भोगते है सदा राज रे
कायरो को तो होता है अपयशो पर नाज रे

कहत अंबुज तुम्हे नूतन समाज बनाइए
विजित जगत मे पुनः नया सृजन कराइए

आगे और भी है------

नोट :
कायर नपुंसक दूर रहे।
ताकि जग देखे कि गर ऐसा ही चलता रहा तो हम क्या कर सकते है।

मै किसी जाति या धर्म विशेष का विरोधी या समर्थक नही हूं । मै अंधी जातिव्यवस्था जो अंग्रेजो की देन है और संप्रदायवाद जो नेताओ की देन है के नाम पर हो रहे आतंक का प्रबल विरोधी हूं।

मै बताते चलू मेरे हठयोग के गुरू एक राजपूत है प्रोफेशनल गुरू एक यादव मेरे निकटवर्ती मित्रो मे मुस्लिम भी है यादव भी राजपूत भी ।और हम मे से अधिकतर के साथ ऐसा ही है शायद।
किन्तु जो जाति के नाम पर छद्म यादवो ने किया वो अनैतिक था और उसका मै पुरजोर विरोध करता हू । उन्होने कृष्ण को नही माना उनके सिद्धान्त नही माने पर हम मानते है जो जैसे समझे उसे वैसे ही समझाओ।

शठम् शाठ्ये समाचरेत्।

।।हर हर महाकाल।।

।।मगध पुत्र ।।
।।बाबू अंबुज शर्मा।।

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…