Skip to main content

देखिए अरुण जी कैसे कुशवाहा समाज के जगदेव प्रसाद की जयंती मनाने से नहीं चूकते उपेन्द्र कुशवाहा

हर समाज के अलग-अलग नायक होते हैं.ये जरुरी नहीं कि आपके नायक को भी दूसरा नायक माने.ऐसे में उस समाज का कर्तव्य होता है कि वे अपने नायक के नायकत्व को संजो के रखे और पूरे दुनिया में उसका प्रचार-प्रसार करता रहे. इसी नीयत से सभा-संगोष्ठी, जयंती आदि मनायी जाती है. इस मामले में समाज के नेताओं की भूमिका अग्रणी होती है. लेकिन जब वे ही अपने कर्तव्य से विमुख हो जाए तो समाज और उसके नायक के सामने बड़ी संकटप्रद और हास्यास्पद स्थिति पैदा हो जाती है. 

हाल में भूमिहार ब्राह्मण समाज के सामने कुछ ऐसी ही स्थिति पैदा हुई जब किसान नेता ब्रह्मेश्वर मुखिया की पांचवी पुण्यतिथि शहादत दिवस के रूप में मनायी गयी. इस मौके पर पटना में हर साल की तरह इस बार भी एक भव्य कार्यक्रम मनाया गया. भूमंत्र के आह्वाहन पर दिल्ली के इंडिया गेट पर एक युवा निशांत सिंह की अगुवाई में ब्रह्मेश्वर मुखिया को बड़ी श्रद्धा से याद किया गया. फेसबुक और ट्विटर उनके चित्रों और नारों से पट गया. उस दिन सोशल मीडिया के रणवीरों ने फेसबुक पर अपनी प्रोफाइल पिक बदल ली तो ट्विटर पर हैशटैग #BrahmeshwarTheWarrior पर सैकड़ों ट्वीट हुए. मिला-जुलाकर दृश्य ऐसा विहंगम बन पड़ा था कि लगा कि बाबा ब्रह्मेश्वर का फिर से आगमन हो गया है. 

लेकिन इन सबके बीच जब हृदय पर तब कटारी चल गयी जब पता चला कि किसी भी बड़े नेता ने बाबा ब्रह्मेश्वर को याद नहीं किया.याद तो करना दूर उन्होंने एक ट्वीट तक करना जरुरी नहीं समझा. ये राजनीतिक स्वार्थ की पराकाष्ठा थी.  इनमें जहानाबाद के सांसद अरुण कुमार भी शामिल थे. उनका नमन न करना इसलिए भी ज्यादा खला क्योंकि वे उस जहानाबाद के सांसद है जो रणवीरों की हृदयस्थली रही है. दुर्भाग्यपूर्ण ये रहा कि उसके तीन बाद ही इफ्तार पार्टी में टोपी लगाये देखे गए और जॉर्ज फर्नाडीस को लेकर अपने निवास स्थल पर कार्यक्रम भी किया. इससे समाज के मनोबल पर असर पड़ा और हृदय को आघात पहुंचा कि आप वोट बैंक के खातिर इफ्तार पार्टी कर रहे हैं लेकिन अपने समाज के नायक को  याद तक नहीं कर रहे. कुछ और नहीं तो रालोसपा के दूसरे गुट के अध्यक्ष और अपने पुराने साथी उपेन्द्र कुशवाहा से ही कुछ प्रेरणा ले लेते. 

मानव संसाधन राज्यमंत्री उपेन्द्र कुशवाहा बिहार का लेनिन कहे जाने वाले जगदेव प्रसाद की जयंती हर साल बड़ी ठसक से मनाते हैं. कभी नहीं चूकते. कम -से-कम इस मामले में उनसे थोड़ा सीखना चाहिए. बाकी तो आप जानते ही हैं कि जगदेव प्रसाद भूमिहार / स्वर्ण विरोधी व्यक्ति थे. हमारे नायक नहीं थे लेकिन कुशवाहा ठसक से मनाते थे और आप कुछ कहने का साहस नहीं कर पाते थे. इसी तरह आपको भी अपने नायकों का सम्मान करना चाहिए और सहजानंद सरस्वती और दिनकर जी के अलावा ब्रह्मेश्वर मुखिया का भी नाम लेना चाहिए. जहानाबाद के सांसद से भूमिहार ब्राहमण समाज इतनी तो आशा रखता है.क्या कुछ गलत कहा अरुण बाबू?

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…