Skip to main content

मीडिया में सवाल खड़े करने वाले गिरिराज सिंह संसद में सवाल पूछने से क्यों चूक गए?

बिहार के सांसदों के संसद में ट्रैक रिकॉर्ड पर दैनिक जागरण ने एक रिपोर्ट पेश की है. उस रिपोर्ट में बिहार के 40 सांसदों का लेखा-जोखा है. मसलन संसद में कितने दिन आए, कितनी बहस में शामिल हुए और कितने प्रश्न पूछे. इस कसौटी पर बिहार के कई सांसदों का रिकॉर्ड बेहद खराब है. आश्चर्य की बात है कि उनमें से एक गिरिराज सिंह भी हैं.

गिरिराज सिंह नवादा से भाजपा के टिकट पर चुनाव जीतकर संसद में पहुंचे हैं और काफी मुखर हैं. लेकिन संसद में सवाल पूछने के मामले में उनका ट्रैक कुछ अच्छा नहीं. वैसे तो सदन में इनकी उपस्थिति 85% है लेकिन अबतक इन्होंने एक भी बहस में भाग नहीं लिया है और मात्र 5 सवाल पूछे हैं. यह वाकई में चौकाने वाला आंकड़ा है कि मीडिया में इतने सवाल खड़े करने वाले गिरिराज सिंह सदन में सवाल पूछने से क्यों चूक गए?

इस मुद्दे पर सामाजिक कार्यकर्ता 'प्रिय रंजन' कहते हैं - "इस बात पर मेरी तरफ से कुछ बात रखने का प्रयास करता हूँ, उसमें सबसे पहले तो ये सरकार के मंत्री हैं और अपने मंत्रालय के सभी सवालों का संतुलित जवाब देते हैं, दूसरे अगर आप मेरी बात माने तो सरकार में मंत्री होने के नाते सरकार से सीधे सवाल नहीं कर सकते हैं, हां व्यस्तता के बावजूद भी ८५ प्रतिशत उपस्थिति ये दर्शाता है की वो क्रियाशील रहते हैं और जहाँ तक उनके क्षेत्र की समस्याओं पर सवाल की बात है तो वो अपने ताकत के हिसाब से विकास में लगे हैं"


बहरहाल दैनिक जागरण के सौजन्य से बिहार के सांसदों का पूरा रिपोर्ट कार्ड देखिये - 

 बिहार के सांसदों का 16 वीं लोकसभा का ट्रैक रिकार्ड : 

1-जहानाबाद लोकसभा क्षेत्र की जनता ने राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के उम्मीदवार अरूण कुमार को संसद में भेजा है।सदन में इनकी उपस्थिति 84 प्रतिशत है। इन्होंने कुल 48 बहस में हिस्सा लिया है और 56 सवाल पूछे हैं। 

2-अजय निषाद को बिहार के मुजफ्फरपुर लोकसभा क्षेत्र की जनता ने चुनकर संसद में भेजा है। ये भाजपा पार्टी के हैं। अगर इनके संसद में उपस्थिति की बात करें तो इनका रिकार्ड काफी अच्छा है। सदन में इनकी उपस्थिति 97 प्रतिशत है। इन्होंसने कुल 17 बहस में हिस्सा लिया है और अभी तक इन्होंने 156 सवाल पूछे हैं. 

3-बक्सर की जनता ने भाजपा उम्मीदवार अश्विनी कुमार चौबे को भारी मतों से जिताकर संसद में भेजने का काम किया। सदन में इनकी उपस्थिति 93 प्रतिशत है। इन्होंने अब तक कुल 168 बहस में भाग लिया है और 134 सवाल पूछे हैं। 

4-किशनगंज लोकसभा क्षेत्र की जनता ने कांग्रेस पार्टी के अशराउल हक मोहम्मद को अपना प्रतिनिधि चुनकर सदन में भेजा है। इनकी उपस्थिति 89 प्रतिशत है। इन्होंने 11 बहस में हिस्सा लिया है और मात्र 1 सवाल पूछे हैं। 

5-झंझारपुर लोकसभा क्षेत्र की जनता ने भाजप पार्टी बिरेंद्र कुमार चौधरी को संसद में भेजने का काम किया। इनकी उपस्थिति 96 प्रतिशत है। इन्होंने कुल 31 बहस में हिस्सा लिया है और 32 सवाल पूछे हैं। 

6-सासाराम लोकसभा क्षेत्र से भाजपा पार्टी से छेदी पासवान संसद पहुंचे हैं। सदन में इनकी उपस्थिति 93 प्रतिशत है। इन्हों ने कुल 36 बहस में भाग लिया है और 41 सवाल पूछे हैं। 

7-बिहार के जमुई से लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान सांसद हैं। सदन में इनकी उपस्थिति 98 प्रतिशत रही है। इन्होंंने कुल 15 बहस में भाग लिया है और 77 सवाल पूछे हैं। 

8-बेगूसराय से भाजपा पार्टी से डा. भोला सिंह संसद पहुंचे हैं। सदन में इनकी उपस्थिति 88 प्रतिशत है। इन्होंने 23 बहस में भाग लिया है और 252 सवाल पूछे हैं। 

9-बिहार के नवादा से भाजपा के सांसद हैं गिरिराज सिंह। सदन में इनकी उपस्थिति 85 प्रतिशत है। इन्होंने एक भी बहस में भाग नहीं लिया है और मात्र 5 सवाल पूछे हैं। 

10-गया से भाजपा के सांसद हैं हरि मांझी। सदन में इनकी उपस्थिति 98 प्रतिशत रही है। इन्होंने कुल 14 बहस में भाग लिया है और 144 सवाल पूछे हैं। 

11-मधुबनी से भाजपा सांसद हैं हुकुमदेव नारायण सिंह। सदन में इनकी उपस्थिति 97 प्रतिशत रही है। इन्होंने कुल 34 बहस में भाग लिया है और 31 सवाल पूछे हैं। 

12-बांका से राष्ट्रीय जनता दल के सांसद हैं जय प्रकाश नारायण यादव। सदन में इनकी उपस्थिति 86 प्रतिशत रही है। इन्हों ने 144 बहस में भाग लिया है और 126 सवाल पूछे हैं। 

13-गोपालगंज से भाजपा के सांसद हैं जनक राम। सदन में इनकी उपस्थिति 97 प्रतिशत रही है। इन्होंने कुल 13 बहस में भाग लिया है और 79 सवाल पूछे हैं। 

14-महाराजगंज से भाजपा के सांसद हैं जनार्दन सिंह सिग्रिवाल। सदन में इनकी उपस्थिति 94 प्रतिशत रही है। 61 बहस में इन्होंने भाग लिया है और 303 सवाल पूछे हैं। 

15-नालंदा से जदयू के सांसद हैं कौशलेंद्र कुमार। सदन में इनकी उपस्थिति 96 प्रतिशत रही है। इन्होंने 170 बहस में भाग लिया है और 270 सवाल पूछे हैं। 

16-दरभंगा से भाजपा के सांसद हैं कीर्ति आजाद। सदन में इनकी उपस्थिति 96 प्रतिशत रही है। इन्होंने 24 बहस में भाग लिया है और 316 सवाल पूछे हैं। 

17-खगडि़या से लोजपा के सांसद हैं महबूब अली कैसर। सदन में इनकी उपस्थिति 88 प्रतिशत रही है। इन्होंंने 2 बहस में भाग लिया है और 2 सवाल पूछे हैं। 

18-उजियारपुर से भाजपा के सांसद हैं नित्यानंद राय। सदन में इनकी उपस्थिति 66 प्रतिशत रही है। इन्होंने 5 बहस में भाग लिया है और 141 सवाल पूछे हैं। 

19-सिवान से भाजपा के सांसद हैं ओम प्रकाश यादव। सदन में इनकी उपस्थिति 80 प्रतिशत रही है। इन्होंदने 31 बहस में भाग लिया है और 269 सवाल पूछे हैं। 

20-आरा से भाजपा के सांसद हैं राज कुमार सिंह। सदन में इनकी उपस्थिति 97 प्रतिशत रही है। इन्होंने 18 बहस में भाग लिया है और 45 सवाल पूछे हैं। 

21-मधेपुरा से राजद के सांसद हैं राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव। फिलहाल ये जन अधिकार पार्टी के संरक्षक बने हुए हैं। सदन में इनकी उपस्थिति 73 प्रतिशत रही है। इन्होंने 170 बहस में भाग लिया है और 249 सवाल पूछे हैं। 

22-सारण से भाजपा के सांसद हैं राजी प्रताप रूडी। सदन में इनकी उपस्थिति 85 प्रतिशत रही है। इन्होंने 9 बहस में भाग लिया है और 36 सवाल पूछे हैं। 

23-समस्तीपुर से लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद हैं रामचंद्र पासवान। सदन में इनकी उपस्थिति 78 प्रतिशत रही है। इन्होंने 2 बहस में भाग लिया है और 3 सवाल पूछे हैं। 

24-पाटलिपुत्रा से भाजपा के सांसद हैं रामकृपाल यादव। सदन में इनकी उपस्थिति 91 प्रतिशत रही है। इन्होंने 19 बहस में भाग लिया है और मात्र 1 सवाल पूछे हैं। 

25-सीतामढ़ी से राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के सांसद हैं राम कुमार शर्मा। सदन में इनकी उपस्थिति 92 प्रतिशत रही है। इन्होंने 15 बहस में भाग लिया है और 117 सवाल पूछे हैं। 

26-शिवहर से भाजपा की सांसद हैं रमा देवी। सदन में इनकी उपस्थिति 97 प्रतिशत रही है। इन्होंने 98 बहस में भाग लिया है और 405 सवाल पूछे हैं। 

27-वैशाली से लोजपा के सांसद हैं राम किशोर सिंह उर्फ रामा सिंह। सदन में इनकी उपस्थिति 64 प्रतिशत रही है। इन्होंने 14 बहस में भाग लिया है और 185 सवाल पूछे हैं। 

28-सुपौल से कांग्रेस की सांसद हैं रंजीता रंजन। सदन में इनकी उपस्थिति 91 प्रतिशत रही है। इन्होंने 72 बहस में भाग लिया है और 202 सवाल पूछे हैं। 

29-पश्चिमी चंपारण से भाजपा के सांसद हैं संजय जायसवाल। सदन में इनकी उपस्थिति 88 प्रतिशत रही है। इन्होंने 70 बहस में भाग लिया है और 239 सवाल पूछे हैं। 

30-पूर्णिया से जदयू के सांसद हैं संतोष कुमार। सदन में इनकी उपस्थिति 66 प्रतिशत रही है। इन्होंयने 22 बहस में भाग लिया है और 63 सवाल पूछे हैं। 

31-वाल्मिकी नगर से भाजपा के सांसद हैं सतीश चंद्र दूबे। सदन में इनकी उपस्थिति 89 प्रतिशत रही है। इन्होंने 29 बहस में भाग लिया है और 135 सवाल पूछे हैं। 

32-भागलपुर से राजद के सांसद हैं शैलेष कुमार उर्फ बुलो मंडल। सदन में इनकी उपस्थिति 82 प्रतिशत रही है। इन्होंने 44 बहस में भाग लिया है और 56 सवाल पूछे हैं। 

33-पटना साहिब से भाजपा के सांसद हैं शत्रुघ्न सिन्हा‍। सदन में इनकी उपस्थिति 70 प्रतिशत रही है। इन्हों ने न ताे एक भी बहस में भाग लिया है और न हीं कोई सवाल पूछे हैं। 

34-औरंगाबाद से भाजपा के सांसद हैं सुशील कुमार सिंह। सदन में इनकी उपस्थिति 88 प्रतिशत रही है। इन्होंने 61 बहस में भाग लिया है और 308 सवाल पूछे हैं। 

35-कटिहार से राकंपा के सांसद है तारिक अनवर। सदन में इनकी उपस्थिति 90 प्रतिशत रही है। इन्होंने 33 बहस में भाग लिया है और 100 सवाल पूछे हैं। 

36-अररिया से राजद के सांसद हैं तसलीमुद्दीन। सदन में इनकी उपस्थिति 79 प्रतिशत रही है। इन्होंने एक भी बहस में भाग नहीं लिया है। सिर्फ 2 सवाल पूछे हैं। 

37-मुंगेर से लोजपा की सांसद हैं वीणा देवी। सदन में इनकी उपस्थिति 92 प्रतिशत रही है। इन्होंने 23 बहस में भाग लिया है और 149 सवाल पूछे हैं।

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…