Skip to main content

दहेज़ रुपी कोढ़ से जूझता भूमिहार ब्राह्मण समाज : समस्या और समाधान

दहेज़ से बर्बाद हो रहे हैं घर

शैलेन्द्र- 

परशुराम जी की जयंती पर सभी लोगों ने बधाई संदेश दिया तो मेरे मन मे भी अपने ईष्टश्री प्रभु परशुराम जी की जयंती पर अपने समाज की कुरीतियाँ और कोढ़ कहे जाने वाले दहेज प्रथा पर लिखने का विचार आया| हो सकता है ये सद्बुद्धि भी अपने ईष्ट देव का ही दिया हो|

समाज का कोढ़ कहे जाने वाले दहेज, उसका कारण और निदान: 

 अपने समाज मे शादी विवाह मे होने वाले खर्च को अपने प्रतिष्ठा से जोड़ कर देखते है चाहे लड़की का शादी हो यो लड़के का बारात कितने साज-सज्जा के साथ आया और बारातियो का स्वागत कितने अच्छा से किया गया ये हमारे प्रतिष्ठा से जुड़ी हुई है और इसी प्रतिष्ठा को बचाने के लिये हर साल हमारे जमीन बिक रहे है| 

दहेज का कारण:  

1. खर्चीली शादी : जैसा ऊपर मैने बताया कि लड़के की शादी भी हमारे समाज में काफी खर्चीला है, आज भी बहुत लोग लड़के की शादी मे कार का काफीला, बाई जी का डांस, और काफी साज सज्जा से बारात लेकर जाते है उसपर आने वाले खर्च भी लड़की के पिता को, ही वहन करना पड़ता है जिनका लड़का उस योग्य नही है कि उनको उतना दहेज मिल सके तो वो अपना कुछ जमीन बेचकर अपना प्रतिष्ठा बचाने के लिये ये खर्च वहन कर रहे है| 

समाधान: अपने समाज के प्रतिष्ठित लोग अगर सादगी से अपने बेटे और बेटी की शादी मंदिर या घर पर ही साधारण तरीके से फिजूल खर्ची न करते हुए करे तो माध्यम वर्ग और गरीब परिवारों पर भी इसका अच्छा असर पड़ेगा और शादी विवाह मे फिजूल मे होने वाले 5-10लाख का खर्च बचाया जा सकता है| 

2. प्रतिष्ठा और प्रदर्शनी से जुड़ा मामला : हमारे समाज मे जेवर और सामान का चढ़ावा भी प्रतिष्ठा और प्रदर्शनी से जुड़ा हुआ है लड़की के पिता भी अगर देंगे 5 लाख तो, अपने गांव मे हल्ला करेंगे कि 10 लाख दिये| और लड़के वालो से भी अच्छे जेवरात और परिवार के सदस्यों के लिये महंगे कपड़ो की अपेक्षा करते है ताकि गांव मे प्रतिष्ठा बढ़े| इस प्रतिष्ठा का कीमत भी तो दहेज मे ही जुड़ेगा| वही लड़के वाले समाज मे प्रतिष्ठा को बढ़ाने के लिये बर्तन, टी. वी., फ्रिज, ए. सी., कार आदि का मांग करते है चाहे, पहले से ही उनके यहाँ से सामान भरा पड़ा हो, कुछ लोगो के यहाँ तो रखने का जगह बनाने के लिये अतिरिक्त कमरो का निर्माण करवाया जाता है| 

समाधान: ऐसे झूठी प्रतिष्ठा के लिये धन की बर्बादी को रोकना चाहिये, सामानो का लेन देन और महंगे कपड़ो का लेन देन बंद होना चाहिये| इससे भी दहेज के रूप मे 5-10 लाख का फिजुल खर्च से बचा जा सकता है| 

3. महत्वपूर्ण कारण: आज अपने समाज मे बहुतो के लड़के सरकारी नौकरियों मे जाते है बहुतो अपने लड़को को IAS, IPS बनाने के लिये अपने जमीन तक बेच देते है| पर कितने माता -पिता अपने बेटी को पढ़ाने और IAS, IPS बनाने के लिये जमीन बेचने को तैयार है क्या हमारे बेटियो मे IAS, IPS बनने का क्षमता नही है या हमे अपने बेटियो की क्षमता पर विश्वास नही है| हमारे बेटियो मे भी क्षमता है पर हम अपने बेटियो के पढ़ाई पर खर्च कर उसे आत्म निर्भर होने की वजाय उसके दहेज के लिये पैसा जमा करने मे लगे रहते है| गांवो मे तो स्थिति और भी भयावह है कुछ घरो मे तो बेटियो को प्राथमिक शिक्षा भी नही दिया जाता है| 

समाधान: आप लाख दहेज के लिये धन जमा कर ले वो रकम अपने बेटियो के लिये राजकुमार ढूढ़कर लाने के लिये हमेशा बहुत कम पड़ेगा| वही अगर आप अपने, बेटियो को पढ़ा लिखा कर स्वावलंबी बनाते है तो खुद आपके बेटियो के लिये बिना दहेज के मांग के राजकुमारो की लाईन लगा रहेगा| 

4. दहेज देकर लड़का खरीद लिया- सम्मान गँवा दिया : रिश्ता अपने बराबर मे न कर अपने से बहुत ऊँचे परिवार मे करने का स्वप्न: मेरा एक सवाल है कि अगर आपकी लड़की IAS है तो क्या आप अपनी लड़की के लिये एक चपरासी लड़का पसंद कीजियेगा? आपका जवाब होगा नही चाहे वो लड़का वाले मुफ्त मे शादी करने को तैयार हो| फिर आप, ये अपेक्षा कैसे रख, सकते है कि हमारी बेटी कम पढ़ी लिखी और बेरोजगार हो और लड़का IAS, IPS मिल चाहे| आपकी लड़की IAS है तो आप IAS लड़का तो ढ़ढियेगा ही साथ ही साथ ये भी देखियेगा कि किसी उद्योयपति या मंत्री का लड़का हो| लड़की हमारी अगर क्लर्क है तो लड़का हमे आँफिसर चाहिये| उसके लिये हम मुँह मांगा दहेज देने के लिये तैयार रहते है| और कहते भी है कि कितना मांगेगा उतना देंगे| अच्छी बात है हर माता पिता अपने बेटी को अच्छा परिवार मे देना चाहते है| परन्तु हम कही न कही हम अपने बेटियो को अपने के बड़े हैसियत के परिवार मे पैसो के बदौलत विवाह तो करा देते है पर हमारी बेटियो को वो मान सम्मान नही मिल पाता है जो अपने बराबर या अपने से थोड़ा नीचे हैसियत वालो के यहाँ मिलेगा| 

समाधान: शिक्षित और स्वालंबी बिटिया दहेज़ को दूर भगाएगी : सभी माता-पिता की ख्वाहिश होती कि बिटिया के लिये IAS या IPS लड़का मिले पर उस ख्वाब को पूरा करने के लिये हमे भी तो अपने बेटी योग्य बनाना होगा| अब लोग गृहिणी नहीं पढी-लिखी और नौकरी वाली बहू ढूंढते हैं.इसलिए लड़कियों की शिक्षा और उसे स्वालंबी बनाने की दिशा में ध्यान देने की जरुरत है.  

बेटियों को भी बेटे के समान अधिकार : उपर्युक्त कारणों और उसके समाधान पर विचार कर  दहेज की कुरीतियो को कुछ हद तक कम किया जा सकता है| इसके लिये हमें बेटियों को भी बेटे के समान समानता का अधिकार देना होगा| बेटियो को भी बेटे की तरह आगे बढ़ने का मौका देना होगा|

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…