Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2017

भूमिपुत्र गिरिराज सिंह का हाल जानने पहुंचे विकास पुरुष मनोज सिन्हा

दिल्ली. केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह अस्पताल से डिस्चार्ज होकर घर वापस आ गए हैं और उनकी घर वापसी के तुरंत बाद केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा भी उनका हाल चाल लेने के लिए उनके आवास पर पहुंचे. इसकी सूचना खुद गिरिराज सिंह ने ट्वीट करके दी. उन्होंने तस्वीर शेयर करते हुए लिखा - "मनोज सिन्हा जी मेरा हाल चाल लेने मेरे आवास पे पहुँचे । बहुत बहुत धन्यवाद आपका." इसके पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी उनका हाल-चाल फोन कर पूछा था. 
गौरतलब है कि केंद्रीय सूक्ष्म एवं लघु उद्योग राज्य मंत्री गिरिराज सिंह अस्वस्थ्य होने की वजह से बेडरूम में गिर गए थे और उनके नाक और चेहरे पर चोट लगी थी जिसके बाद उनका इलाज राम मनोहर लोहिया अस्पताल, दिल्ली में चल रहा था. दैनिक जागरण के मुताबिक़ वे अपने आवास पर ही टहल रहे थे लेकिन अचानक चक्कर आने के बाद वहीं गिर पड़े और बेहोश हो गए. Community Journalism With Courage

राष्ट्रपति से सम्मानित हुए भूमिपुत्र राकेश सिन्हा

दिल्ली. देश में टीवी न्यूज़ देखने वाले तमाम दर्शक डॉ. राकेश सिन्हा के नाम से वाकिफ हैं. वे टीवी न्यूज़ पर संघ के इकलौते ऐसे चेहरे हैं जिनकी बात का सम्मान विरोधी भी करते हैं क्योंकि उनके तर्क में दम होता है और उसके पीछे का उनका गहन अध्ययन साफ़-साफ़ दिखाई पड़ता है. वे दिल्ली विश्वविद्यालय में शिक्षक भी हैं. बहरहाल वे कल राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के द्वारा सम्मानित हुए. उन्हें केंद्रीय हिंदी संस्थान द्वारा दीनदयाल उपाध्याय पुरस्कार से सम्मानित किया गया.उन्हें ये सम्मान भारतीय संस्कृति , कला आदि के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए दिया गया. यह कार्यक्रम राष्ट्रपति भवन में आयोजित हुआ. वैसे वे मूलतः बिहार बेगूसराय के रहने वाले हैं और जाति से भूमिहार ब्राहमण हैं. उन्हें ढेरों बधाईयाँ.
Community Journalism With Courage

रणवीर राष्ट्र का सबसे उत्कृष्ट संरक्षक

रणविजय रणवीर - 
भूमिपुत्र रणविजय रणवीर ने एक लेख भेजा है जिसमें उन्होंने बताया है कि रणवीर राष्ट्र के सबसे अच्छे प्रहरी हैं. लेख चुकी काफी लंबा है इसलिए हम इसे ज्यों का त्यों ईपत्रिका के रूप में पेश कर रहे हैं. आप ज़ूम इन करके इसे आसानी से पढ़ सकते हैं. आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके डाउनलोड भी किया जा सकता है.(भूमंत्र) रणवीर राष्ट्र का प्रहरी > डाउनलोड
Community Journalism With Courage

बाबा ब्रह्मेश्वर मुखिया के सम्मान में इस बालक का गीत सुनिए

1 जून को बाबा ब्रह्मेश्वर मुखिया का शहादत दिवस है. उसी के पहले उनको समर्पित गाना. सुनिए.
(सौजन्य- दीपक कुमार सिंह) Community Journalism With Courage

चप्पल पह्नकर गिरिराज सिंह से अस्पताल में मिलने पहुंचे मंत्री जी !

मंत्री हो या संतरी नियम सबके लिए बराबर होता है और इसका पालन भी उन्हें करना चाहिए. यदि वे ऐसा नहीं करते तो समाज और देश के नागरिकों पर उसका बुरा असर पड़ता है. जैसा कि आप जानते ही हैं कि केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह इन दिनों बीमार हैं और अस्पताल में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं. उन्हें देखने और उनका हाल -चाल पूछने भी लोग आ रहे हैं. इसी क्रम में केंद्र सरकार में मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान और उनकी धर्मपत्नी भी अस्पताल पहुंची व गिरिराज सिंह का हाल-चाल पूछा. लेकिन इस क्रम में उन्होंने एक चूक की जिसे भूमंत्र के जागरूक पाठकों ने नोटिस भी किया और उसपर प्रतिक्रिया भी दी.पढ़िए -
Satyendra Kumar - हम तो देखे है कि अस्पताल मे अगर किसी मरीज से मिलना है तो चप्पल जूता खोल के जाना पड़ता है । लेकिन कोई सज्जन उनसे मिलने गए तो चप्पल पहिनले थे । इसका मतलब हम क्या समझे समझ नहीं आ रहा है ? हमसे गलती हो गया ये कमेंट करके इसके लिए हम क्षमा प्रार्थी है। इस तस्वीर मे मान्य्नीय श्री धरमेन्द्र प्रधान जी है जो केंद्र सरकार के मंत्री है । नियम कानून यही लोग बनाते है । हो सकता है अस्पताल का नियम बदल के चप्पल पहन के आये है । ज…

अब इस भूमिपुत्री ने किया मिस उत्तराखंड वर्ल्डवाइड में कमाल !

देहरादून. परिवार और समाज का नाम रौशन करने में लड़कियां किसी भी तरह से लड़कों से पीछे नहीं. इसी को साबित किया है नेहुल त्यागी ने. उन्होंने मिस उत्तराखंड वर्ल्ड वाइड का खिताब जीतकर अपने समाज का नाम रौशन किया है. इससे वे अब मिस इंडिया में बतौर प्रतियोगी भाग ले सकेंगी जिसकी ग्रूमिंग क्लासेस जून से शुरू होगी. 
देहरादून में हुई प्रतियोगिता में रुड़की निवासी नेहुल ने पहली बार ही भाग लिया था और सबको पीछे छोड़कर टॉप पोजीशन हासिल करने में सफल रही. नेहुल के लिए इस प्रतियोगिता को जीतना मील का पत्थर इसलिए भी है क्योंकि वे ग्लैमर वर्ल्ड और अभिनय के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहती हैं. उनकी सफलता का श्रेय काफी हदतक उनके माता-पिता जगदीप त्यागी और सुषमा त्यागी को जाता है. 
नेहुल त्यागी ने रुड़की के आर्य कन्या पाठशाला से हाईस्कूल और इंटर करने वाली नेहुल ने देहरादून के डीएवी पीजी कॉलेज से ग्रेजुएशन किया है. इसके बाद वे रुड़की आईआईटी में सिविल विभाग में प्रोजेक्ट एडमिन के रूप में काम करने लगीं. इसके साथ ही उन्होंने जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी से एमबीए भी शुरू कर दिया. इसी बीच उन्हें एक्टिंग व ग्लैमर का…

खबर सुनेंगे तो झूम उठेंगे, बिहार में भूमिपुत्री 'शिवा' बनी CBSE की स्टेट टॉपर

पटना. कौन कहता है कि लड़कियां लड़कों से कमतर हैं? भुमिपुत्रियाँ हर जगह अपना जलवा दिखा रही है. इसकी ताजा मिसाल सीबीएससी के रिजल्ट हैं. सीबीएससी द्वारा जारी परिणामों में इस बार भी लड़कियों ने लड़कों को पीछे छोड़ दिया है. बहरहाल हम बात कर रहे हैं बिहार के स्टेट टॉपर की. इस बार गया के क्रेन मेमो हाईस्‍कूल की छात्रा शिवा ने 97 प्रतिशत अंक लाकर पूरे बिहार में टॉप किया है. उन्होंने विज्ञान विषय से ये सफलता हासिल की है. उनकी सफलता पर उनके घर और रिश्तेदार वाले फूले नहीं समा रहे. बधाइयों का तांता लग गया है. 
मीडिया के साथ बातचीत में शिवा ने अपनी सफलता का मूलमंत्र बताते हुए कहा कि सबसे ज्‍यादा जरूरी है रेग्‍यूलर प्रैक्टिस। इसके बिना कुछ भी नहीं हो सकता है. मैं परीक्षा के काफी समय पहले से सभी चैप्‍टर को प्रतिदिन पढ़ती थी. यदि कोई प्राब्‍लम आती थी तो उसे दूर करते थे. फिर परीक्षा में पूरे कानफिडेंस के साथ बैठी। नतीजा अच्छा आया. शिवा ने कहा कि आगे वह आइआइटी में पढ़ना चाहती है. उसके बाद यूपीएससी की परीक्षा क्‍वालिफाई कर देश की सेवा करना चाहती है. 
शिवा को मैथ और फिजिकल एजुकेशन में 99 फीसदी अंक मिले हैं.…

दीपक चौरसिया से मनोज सिन्हा की बातचीत देखिए

इंडिया न्यूज़ के 'तीन साल मोदी सरकार' कार्यक्रम में सुप्रसिद्ध पत्रकार दीपक चौरसिया ने केन्द्रीय मंत्री मनोज सिन्हा से बातचीत की. बातचीत में मनोज सिन्हा ने कहा कि कॉल ड्रॉप मामले में कहा कि हमारी सरकार ने इस समस्या से निबटने के लिए 10 महीने में 2.5 लाख बीटीएस लगवाए गए. इससे स्थिति सुधरी है.उन्होंने कहा कि कॉल ड्रॉप समस्या से निपटने के लिए 16 लाख ग्राहकों को आईवीआरएस के माध्यम से कॉल कराई है. इसमें काफी कमी आई है. कॉल ड्रॉप शिकायत के 15 दिनों के अंदर समस्या का सामाधान किया जा रहा है. साथ ही टॉवर से रेडिएशन की अफवाह के खिलाफ कई शहरों में जागरुकता कार्यक्रम चलाया गया. सरकार के 'तरंग पोर्टल' के जरिए किसी भी टॉवर का रेडिएशन जान सकते हैं. सुनिए पूरा इंटरव्यू - Community Journalism With Courage

चंपारण शताब्दी के नाम पर करोड़ों खर्च कर रही सरकार राजनारायण राय की शताब्दी को भूला बैठी

राजनारायण राय ने इंदिरा गांधी को हराया था, देश की राजनीति को नया आयाम दिया था भारतीय राजनीति के इतिहास में राजनारायण राय का नाम स्वर्णाक्षरों में लिखा हुआ है. दरअसल वे ऐसे शख्स थे जिन्होंने भारतीय राजनीति की दिशा पलट कर रख दी. उन्होंने न केवल अजेय समझी जानी वाली इंदिरा गांधी को चुनाव में पराजित किया, बल्कि उनकी वजह से भारतीय राजनीति मेंजनता पार्टी का अभुय्दय भी हुआ. लेकिन इतनी महान हस्ती का शताब्दी समारोह तक सरकार मनाने से चूक गयी.समाजसेवी ब्रजेश कुमार का एक जरुरी आलेख -  "एक साधारण से धनुष ने रावण को मार गिराया था क्योंकि वो सत्य का धनुष था, एक साधारण से व्यक्ति राजनारायण ने देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को सत्ता के कुर्सी स हटा दिया था,क्योंकि वो सत्य के साथ काम करनेवाला व्यक्ति था - ये साल चंपारण शताब्दी समारोह के साथ-साथ महान नेता "राजनारायण राय" के शताब्दी का भी है । 
चंपारण शताब्दी के नाम पर करोड़ो खर्च हो रहे है मगर राजनारायण जी के स्मृति में किसी भी दल के तरफ से  कोई कार्यक्रम आयोजित नही की जा रही है । अगर राजनारायण नही होते तो आज देश यहाँ नही …

मीडिया में सवाल खड़े करने वाले गिरिराज सिंह संसद में सवाल पूछने से क्यों चूक गए?

बिहार के सांसदों के संसद में ट्रैक रिकॉर्ड पर दैनिक जागरण ने एक रिपोर्ट पेश की है. उस रिपोर्ट में बिहार के 40 सांसदों का लेखा-जोखा है. मसलन संसद में कितने दिन आए, कितनी बहस में शामिल हुए और कितने प्रश्न पूछे. इस कसौटी पर बिहार के कई सांसदों का रिकॉर्ड बेहद खराब है. आश्चर्य की बात है कि उनमें से एक गिरिराज सिंह भी हैं.

गिरिराज सिंह नवादा से भाजपा के टिकट पर चुनाव जीतकर संसद में पहुंचे हैं और काफी मुखर हैं. लेकिन संसद में सवाल पूछने के मामले में उनका ट्रैक कुछ अच्छा नहीं. वैसे तो सदन में इनकी उपस्थिति 85% है लेकिन अबतक इन्होंने एक भी बहस में भाग नहीं लिया है और मात्र 5 सवाल पूछे हैं. यह वाकई में चौकाने वाला आंकड़ा है कि मीडिया में इतने सवाल खड़े करने वाले गिरिराज सिंह सदन में सवाल पूछने से क्यों चूक गए?

इस मुद्दे पर सामाजिक कार्यकर्ता 'प्रिय रंजन' कहते हैं - "इस बात पर मेरी तरफ से कुछ बात रखने का प्रयास करता हूँ, उसमें सबसे पहले तो ये सरकार के मंत्री हैं और अपने मंत्रालय के सभी सवालों का संतुलित जवाब देते हैं, दूसरे अगर आप मेरी बात माने तो सरकार में मंत्री होने के नाते सरकार…

समाज के प्रतिभाशाली युवाओं के लिए एक शानदार मौका, जल्द भेजें बायोडाटा

क्लाउड नेट इंडिया के फाउंडर डी.के.रे ने भूमिहार ब्राहमण समाज के युवाओं के लिए एक बेहतरीन मौका मुहैया कराया है. उन्होंने अपने प्रशिक्षण संस्थान से समाज के दस ऐसे प्रतिभाशाली युवाओं को मुफ्त प्रशिक्षण देने की घोषणा की है जो कम्प्यूटर हार्डवेयर नेटवर्किंग में अपना करियर बनाना चाहते हैं. यदि ये आपकी दिलचस्पी का क्षेत्र हैं अपना बायोडाटा तुरंत हमें bhumantra@gmail पर भेजें. चयनित प्रत्याशियों को सूचित किया जायेगा. श्री डी.के.रे का संदेश नीचे पढ़े - 
Hello Admin & Moderator,  My name is DKRay, I belong to Deoghar, Jharkhand. I also belong from Bhumihar society. Some one has joined me in this group. By profession I'm a Computer Network Engineer working for last 14 years in this field. Now I'm a running a global training institute in Kolkata. By the nature of my personality I believe to do some welfare task for society that's why I have launch my own company in 2012. Now as a member of this society I have decided to give scholarship of 10 brilliant students from Bhumihar socie…

स्पेन में सम्मानित हुए डॉ. सीपी ठाकुर

डॉ.सीपी ठाकुर को स्पेन के टोलेडो शहर में विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) जेनेवा के तत्वावधान में वर्ल्डलिस-6 कांग्रेस ऑर्गनाइजिंग कमिटी द्वारा आयोजित पाँच दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में कालाजार के क्षेत्र में विश्वव्यापी शोध एवं अद्वितीय योगदान के लिए कल "लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड" से सम्मानित किया गया। पटना जिला निवासी और मशहूर चिकित्सक ठाकुर जिनका कालाजार के क्षेत्र में बहुमूल्य योगदान है। वर्तमान में भाजपा के राज्यसभा सदस्य हैं और केंद्र में सत्तासीन रहे अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाले राजग शासन काल में स्वास्थ्य मंत्री रहे थे। अवार्ड समारोह की तस्वीरें -
Community Journalism With Courage

गिरिराज सिंह का दावा, खादी से मिलेगा पांच करोड़ लोगों को रोजगार

केंद्रीय लघु और सूक्ष्म उद्योग राज्यमंत्री गिरिराज सिंह का दावा है कि आगामी पांच सालों में सिर्फ खादी से पांच करोड़ लोगों को रोजगार मिलेगा. उन्होंने गुरुवार को कहा, 'हमारी योजना केवीआईसी (खादी ग्रामोद्योग) में सौर ऊर्जा से चलने वाले कताई चक्के लाने की है। इससे अगले पांच सालों में देशभर में पांच करोड़ लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जा सके।'

उन्होंने कहा, 'मौजूदा समय में कुल कपड़ा उद्योग में खादी एक फीसदी से भी कम है। लेकिन बीते दो वर्षों में ठोस प्रयासों के चलते खादी उद्योग की सेल 35,000 करोड़ रुपये (2014 में) से बढ़कर 52,000 करोड़ रुपये हो गई है।'

गिरिराज सिंह ने कहा कि एमएसएमई मंत्रालय खादी ग्रामोद्योग को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठा रहा है। कयर उद्योग (नारियल के रेशे) के साथ-साथ खादी उद्योग सरकार के अजेंडा में शीर्ष पर हैं। सिंह ने कहा, 'कई तरह की योजनाएं जैसे कि ब्याज सहायता देना, बाजार उन्नयन और विकास योजना के तहत वित्तीय सहायता, क्लस्टर आधारित विकास के अवसर और इसके साथ ही नए डिजाइनों को बढ़ावा देते हुए पब्लिक प्राइवेट पार्टनर्शिप योजनाओं को प्रोत्साहि…

कश्मीर के हालात पर भूमिपुत्र समित की एक कविता

पीएम नरेंद्र मोदी के सत्ता सँभालने के बाद ये उम्मीद बंधी थी कि कश्मीर के हालात संभलेंगे. लेकिन केंद्र और राज्य दोनों जगह भाजपा का शासन होने के बावजूद कश्मीर एक तरह से आउट ऑफ़ कंट्रोल है. इससे बदलाव की आस लगाये लोग निराश हैं. इसी पर भूमिपुत्र समित की एक कविता. क्या कहा!!!! क्या कहा कि राजा टूट गया? क्या सौभाग्य देश का फूट गया?
राजा तो सकल यशस्वी था लगभग वो एक तपस्वी था प्रजा का बड़ा दुलारा था स्वजनों का भी प्यारा था  जिसके पास हो चतुरंगिनी सेना पौरूष उसका कैसे छूट गया? क्या कहा कि राजा टूट गया?..........
कोटी कोटी मनुज जिसकी जय बोलें स्वयम् विश्वनाथ जिसके सहाय हो लें   जिसकी गर्जना से दिग्गज डोलें जिसकी ऊर्जा से हम सब बोलें उसके प्रहरी रहते रहते भी रावण अयोध्या कैसे लूट गया?  क्या कहा कि राजा टूट गया?..........
राजा को है क्या संताप  कोई याद दिलाये प्रताप जिसने सेवा का प्रण लिया था राष्ट्र सम्मान हेतू रण किया था फिर राष्ट्रद्रोहियों के बदले क्यों ऊर अपना ही वो कूट गया? क्या कहा कि राजा टूट गया?..........
नृप जो रिपु के आगे घुटने टेके  सो जाये निश्चिंत करवट लेके क्या वो चक्रवर्ती कहला…

मनोज सिन्हा का काम बोलता है, शिलान्यास तो देखिए जरा

मनोज सिन्हा जैसे ज़मीनी नेता विरले ही होते हैं. वे ऐसे नेता हैं जिनका लोहा विरोधी भी मानते हैं. तभी वे प्रधानमंत्री मोदी के भी ख़ास हैं. उन्हें दो मंत्रालयों का कार्यभार मिला है और दोनों का काम वे जिस कुशलता से कर रहे हैं वो अपने आप में अभूतपूर्व है. ख़ास बात ये है कि मंत्रालय के कार्यों को करते हुए भी वे अपने संसदीय क्षेत्र पर ख़ास ध्यान रखते हैं. गाजीपुर बराबर जाते रहते हैं और वहां के विकास की भरसक कोशिश करते हैं. वहां भी उनका काम बोलता है. अबतक उन्होंने रेल और संचार राज्यमंत्री के रूप में ढेरों परियोजनाओं की शुरुआत की है. इतने शिलान्यास किए हैं कि विरोधी भी गिनते-गिनते थक जायेंगे. वाकई में असली विकास पुरुष तो मनोज सिन्हा ही हैं. Community Journalism With Courage

लालू ब्लैकमेलर और नीतीश धृतराष्ट्र : गिरिराज सिंह

पटना. केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने लालू यादव को ब्लैकमेलर और नीतीश कुमार को धृतराष्ट्र कहकर एक बार फिर सियासी पारा गरमा दिया है. उनका यह ट्वीट बिहार भाजपा के दफ्तर पर हमले के बाद हुआ है. 
एबीपी न्यूज़ को इस संदर्भ में उन्होंने बयान भी दिया और कहा कि लालू के खिलाफ जो भी कार्रवाई हुई वो नियमों के तहत की गयी थी. लेकिन बीजेपी दफ्तर पर आरजेडी कार्यकर्ताओं ने जो हमला किया, यह कौन से लोकतंत्र में है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने पर कोई हमला करे. 
उन्होंने आगे कहा कि मैं इस घटना के लिए लालू प्रसाद से ज्यादा नीतीश कुमार को जिम्मेदार मानता हूं, जो राज्य के मुखिया हैं. आज उनकी वहीं भूमिका हो गयी, जैसे महाभारत में धृतराष्ट्र की थी.उनकी हिम्मत नहीं हो रही है कि वे भ्रष्टाचार और कुशासन के खिलाफ अपनी जुबान खोल सकें. Community Journalism With Courage

मनोज सिन्हा के फरसे से मुख्तार अंसारी की हवा टाईट !

लखनऊ. स्व.कृष्णानंद राय का हत्यारा मुख्तार अंसारी दहशत में हैं. दहशत का आलम ये है कि उसे नींद में भी अब मनोज सिन्हा फरसा लिए आते हुए दिखाई पड़ते हैं. तभी चिहुक कर वो उठ पड़ता है और चिल्लाने लगता है कि बचाओ-बचाओ. मनोज सिन्हा के फरसे से बचाओ. 
यह कोई मजाक नहीं है. माफिया डॉन और कई हत्याओं के आरोपी मुख्तार अंसारी की आजकल कुछ ऐसी ही हालत है. यही वजह है उसने दूसरी बार केन्द्रीय मंत्री मनोज सिन्हा से अपनी जान को खतरा बताकर योगी सरकार से और ज्यादा सुरक्षा की गुहार की है. 
विधानसभा कार्यवाही में भाग लेने पहुंचे अंसारी ने मीडिया से बातचीत में आरोप उस मनोज सिन्हा पर आरोप लगाया जिन्हें अपने दो मंत्रालयों के कार्य से इतनी भी छुट्टी नहीं मिलती कि चैन की सांस ले सके. उसका कहना है कि मुझे बदले की भावना से लखनऊ से बांदा जेल में शिफ्ट किया गया है. ये मुझे परेशान करने के मकसद से किया जा रहा है.मनोज सिन्हा के खिलाफ मेरे पास ठोस सबूत हैं. 
गौरतलब है कि योगी सरकार ने जेल में बंद करीब 100 'बाहुबलियों' को उनके गृह जिलों से दूर की जेल में ट्रांसफर कर दिया था. उसी के तहत मुख्तार अंसारी को लखनऊ से बांदा…

शहीद बैकुंठ शुक्ल की मूर्ति का अनावरण, डॉ.अरुण अरुण कुमार ने हाजीपुर में किया नमन

मुजफ्फरपुर / हाजीपुर . भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन में अपना बलिदान देकर अमिट छाप छोड़ने वाले अमर शहीद बैकुंठ शुक्ल की जयंती पर उनकी एक आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया गया. इसका अनावरण विधायक अशोक चौधरी ने किया. समारोह में नगर विधायक सुरेश शर्मा, कुढ़नी विधायक केदार प्रसाद गुप्ता, औराई विधायक डॉ.सुरेंद्र कुमार तथा पूर्व मंत्री डॉ.महाचंद्र सिंह समेत क्षेत्र के कई और गणमान्य लोग मौजूद थे. कार्यक्रम की अध्यक्षता स्वतंत्रता सेनानी राम संजीवन ठाकुर ने और संचालन आचार्य चंद्रकिशोर पाराशर ने किया जबकि अतिथियों का स्वागत समिति सचिव अरुण शुक्ल ने किया. इस मौके पर राज्य सरकार से गया स्थित केंद्रीय कारा का नामकरण शहीद बैकुंठ शुक्ल के नाम पर करने की मांग की गई. वही आचार्य पाराशर ने उनके नाम पर केंद्र सरकार से डाक टिकट जारी करने की मांग की. उधर हाजीपुर में भी अमर शहीद बैकुंठ शुक्ल का शहादत दिवस मनाया गया.इस मौके पर जहानाबाद के सांसद डॉ.अरुण कुमार ने पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया. Community Journalism With Courage

चंपारण की धरती पर भूमिपुत्र मनोज सिन्हा

केन्द्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा को जब से मंत्रालय मिला है उन्हें काम करने का धुन सवार हो गया है. पीएम मोदी का शायद ही कोई मंत्री इतनी सक्रियता और दक्षता से अपना कार्य कर रहा हो. इसी सिलसिले में आज मनोज सिन्हा चंपारण(बिहार)पहुंचे और मोतिहारी में गांधी जी को माल्यार्पण करने के बाद बेतिया पहुंचे और कई योजनाओं का उद्घाटन किया.उन्होंने बेतिया में पासपोर्ट केंद्र के उद्घाटन के साथ-साथ वाल्मिकीनगर -नरकटियागंज -सगौली -मुजफ्फरपुर रेलखण्ड (सगौली-रक्सौल रेलखण्ड सहित) के विद्युतीकरण कार्य की शुरुआत की.इससे यात्रियों के समय की बचत होगी और गाड़ियों की परिचालन समय में भी कमी आयेगी. कुमारबाग और रामगढ़वा रेलवे स्टेशन को फ्रेट टर्मिनल के रूप में परिवर्तित करने की योजना की भी शुरुआत की. इसके अलावा, उन्होंने इस क्षेत्र में रेलवे ओवर ब्रिज (आरओबी) के निर्माण कार्य का भी शुभारंभ किया. देखिये तस्वीरों में मनोज सिन्हा की बेतिया यात्रा -
Community Journalism With Courage

केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा के मंच पर सीएम योगी की तस्वीर गायब, मीडिया में हंगामा

गाजीपुर. केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा की छवि एक साफ़-सुथरी और बेदाग़ छवि वाले ज़मीनी नेता की है. वे मूलतः अपनी प्रतिबद्धता और काम के प्रति निष्ठा के वजह से जानते हैं. यही वजह है कि पीएम मोदी ने उनपर भरोसा जताते हुए उन्हें दो मंत्रालयों का कार्यभार सौंप रखा है जिसे वे बखूबी निभा भी रहे हैं. यूपी के सीएम की रेस में उनका नाम खूब उछला था लेकिन आखिरकार सीएम पद योगी आदित्यनाथ को मिला.उसके बाद मीडिया दोनों को विरोधी की तरफ से देखने लगा और मसाले की तलाश करता रहता है. लेकिन मनोज सिन्हा इतने सुलझे नेता है कि कभी इसका मौका ही नहीं देते. लेकिन हाल में जब वे गाजीपुर में एक सरकारी कार्यक्रम में गए तो वहां मंच के पीछे लगे पोस्टर पर योगी आदित्यनाथ की तस्वीर नहीं थी. उसके बाद ये मुद्दा बन गया और एबीपी न्यूज़ समेत कई और चैनलों ने इसे मुद्दा बना दिया. पढ़िए एबीपी न्यूज़ की पूरी रिपोर्ट - गाजीपुर: यूपी के सीएम योगी आजकल हर जगह छाए रहते हैं, लेकिन गाजीपुर में एक सरकारी कार्यक्रम में योगी की तस्वीर नजर नहीं आई तो तरह-तरह की चर्चाएं होने लगी हैं. इस कार्यक्रम में केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने शिरकत …

18 साल की उम्र में इस भूमिपुत्र ने लिख डाला अंग्रेजी उपन्यास - The Trodden LIfe

कहते हैं ना कि पूत के पाँव पालने में ही दिख जाते हैं और उम्र उपलब्धियों का मोहताज नहीं होता. कल आपको 18 वर्ष की बिटिया की सूचना दी थी कि कैसे वो इतनी कम उम्र में ही इसरो की वैज्ञानिक बन गयी. आज हम एक युवा की कहानी बता रहे हैं जो खुद कहानी लिख रहा है. जी हम बात कर रहे हैं झारखंड निवासी आदर्श नयन के बारे में. 
18 साल के इस युवा ने अंग्रेजी उपन्यास 'The Trodden LIfe' लिखा है जो आज अमेजन और क्राफ्टी पर एक साथ रिलीज हो रही है. उपन्यास की कहानी एक युवा के प्यार-तकरार, चुनौतियों और तमाम अंतर्द्वंद पर आधारित है. इस अंतर्द्वंद और संघर्ष में वह ड्रग्स लेने लगता है. फिर क्या होता है इसके लिए उपन्यास पढना होगा. 
बहरहाल आदर्श नयन के बारे में बता दे कि वे बीबीए (Bachelors of business administration) के छात्र हैं और यह उनका पहला उपन्यास है. वे मूलतः रांची(झारखंड) के रहने वाले हैं और उनकी आरम्भिक शिक्षा-दीक्षा भी वही हुई है. संपर्क - Email:- anayan001@icloud.com , www.facebook.com/TheTroddenLIFE Community Journalism With Courage