Skip to main content

ऑपरेशन भूमिहार के असली मुजरिम की एबीपी न्यूज़ से छुट्टी

shazi zama
'ऑपरेशन भूमिहार' हिंदी समाचार चैनल एबीपी न्यूज़ की पीत पत्रकारिता का नमूना था जिसे उसके एंकर अभिसार शर्मा ने भले अंजाम दिया हो, लेकिन इसका असली मुजरिम कोई और था. अब इसे भूमिहारों का प्रताप कहिए या फिर कुदरत का कानून कि 'ऑपरेशन भूमिहार' नामकरण वाले का ही 'ऑपरेशन' हो गया और वर्षों की जमी जमाई नौकरी चली गयी. 

दरअसल हम बात कर रहे हैं एबीपी न्यूज़ के पूर्व संपादक 'शाजी ज़मा' की. एबीपी न्यूज़ पर जब 'ऑपरेशन भूमिहार' चली थी तब चैनल के मुख्य संपादक 'शाजी ज़मा' ही थे और उस रिपोर्ट का नामकरण उन्होंने ही किया था. इस तरह के नामकरण में वे माहिर हैं और उनके सिवाए 'ऑपरेशन भूमिहार' नाम कोई और रख ही नहीं सकता. यदि रखा भी तो शाजी ज़मा के अप्रूवल के बिना चल भी नहीं सकती थी. 

शाजी खुद बिहार के हैं और नाम से पता तो चल ही रहा है कि मुसलमान हैं तो भूमिहारों को लेकर कोई पुरानी खुंदक इस नाम के बहाने निकाल ली और समुदाय को अपनी यथाशक्ति बदनाम करने की कुचेष्टा भी कर ली.लेकिन आपको ये बताते चले कि शाजी ज़मा को स्टार इंडिया के इंडिया हेड और भूमिहार ब्राहमण समाज की शान उदय शंकर का वरदहस्त प्राप्त है.वही शाजी ज़मा को स्टार न्यूज़ (बाद में एबीपी न्यूज़) का प्रमुख बनाकर लाये थे.लेकिन भूमिहार का फेवर पाकर भी वे भूमिहारों से वफ़ा न कर पाए. 

बहरहाल उस ऑपरेशन भूमिहार के बाद से ही शाजी ज़मा की दिन-दशा खराब हो गयी. पहले वे चैनल में रहते ही हाशिए पर डाल दिए गए और उनकी जगह मराठी मिलिंद खांडेकर को मिल गयी. अंततः अब एबीपी न्यूज़ से शाजी ज़मा की पूरी तरह से चैनल से छुट्टी हो गयी और इस बाबत आज कई मीडिया वेबसाइटों पर प्रमुखता से ये खबर छपी है.इस तरह से ऑपरेशन भूमिहार के असली मुजरिम की एबीपी न्यूज़ से छुट्टी हो गयी.

Community Journalism With Courage

ज़मीन से ज़मीन की बात

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …