Skip to main content

इस मामले में भूमिहार-राजपूत से भी आगे निकल गए हैं बिहार के यादव !

bhumihar
सामंतवादी प्रवृति सत्ता के प्रभाव से आती है.बिहार के यादव इसके उदाहरण हैं.लालू यादव की सत्ता में वापसी होते ही इनकी दबंगई और सामंती प्रवृति सामने आनी शुरू हो गयी. सामंती होने का जो इल्जाम कभी भूमिहार ब्राहमणों और राजपूतों पर लगता था, उसका असली चेहरा अब यादवों में पतिबिम्बित होने लगा. पूरे मामले पर 'रौशन' का सोशल मीडिया पर विश्लेषण -
रौशन- 

भूमिहार और यादव सामाजिक प्रतिद्वंदी नहीं हैं बल्कि राजनीतिक प्रतिद्वंदी हैं : 

बिहार में भूमिहारों--राजपूतों को पीछे छोड़ते हुए हरेक क्षेत्र में यादव सामंतवाद का बड़ा चेहरा बन गया है.....जुल्म से लेकर जमीन हथियाने तक में।। पर जाति ही ऐसा मसला है.....जहां चोर चोर मौसेरा भाई नहीं होता है क्योंकि जाति में राजनीति जो घुस जाती है।। एक समान सामंती मानसिकता के बावजूद भूमिहार और यादव एक फ्रंट पर नहीं आ सकते क्योंकि राजनीतिक रुप से प्रतिद्वंदिता सामने आ जाती है।। ऐसे में  यह कहना सही है कि......भूमिहार और यादव सामाजिक प्रतिद्वंदी नहीं हैं बल्कि राजनीतिक प्रतिद्वंदी हैं।। 

तो फिर भूमिहारों का सामाजिक प्रतिद्वंदी कौन है? यह सवाल आपके मन में आएगा जिसका जवाब बाद में दिया जाएगा। यह भी एक संयोग है कि जमीन से जुड़े रहने के कारण दोनों जातियां बिहार के उपजाऊ क्षेत्रों मगध और तिरहुत में ही ज्यादातर पायी जाती है! इसलिए राजनीतिक हित टकराते रहते हैं।। 

बिहार की आजादी के बाद श्री बाबू को मुख्यमंत्री बनाने में यादवों ने बढ़-चढ़ कर समर्थन किया था और मगध में भी एक पर दो का लेन-देन के हिसाब से राजनीतिक गोटी सेट होता रहा।। चूँकि यादव यह मानते थे कि.....भूमिहारों के पास जमीनें.....हथियार.....पहचान.....बड़े बड़े नाम.....बौद्धिक चेहरें हैं तो बड़ी आबादी के बावजूद छोटा भाई बनकर रहने में हर्ज नहीं है।। 

1990 में लालू यादव का मुख्यमंत्री बनना एक दुर्घटना थी .पर इसको इसने इस तरह कैश किया कि हर यादव के मन में बैठ गया कि यादव सता के शीर्ष के लिए ही बने हैं और लालू नेू यादवों को राजनीतिक रुप से इतना मजबूत कर दिया है कि कुछ सालों तक बिहार की राजनीति यादवों के इर्द-गिर्द घुमतीरही ।। 

मिथिलांचल में ब्राह्मणों के साथ और मगध में भूमिहारों संग रहकर राजनीति का हर दांव-पेंच यादव समझ चुके थे।। चूकि भूमिहारों की सघनता वाले क्षेत्रों में यादवों की भी सघनता भरपूर है।अत: जिस पाले में यादव रहेंगे......अपने राजनीतिक सता के लिए भूमिहार विरोधी पाले में स्वत: चले जाएंगे।।यही कारण हैकि भाजपा में दोएम दर्जे के व्यवहार और अधिकार के बाद भी भूमिहार चिपके हुए हैं।।

हां.....हिंदूत्व के लहर के बावजूद बिहार में भूमिहारों का प्रेम कांग्रेस से बना हुआ है जो हालिया विधान सभा चुनाव में परीलक्षित भी हुआ है पर कांग्रेस की कमजोरी और लालू दीवार खड़ी कर देते हैं।। 

ऐसे भविष्य में कांग्रेस को बिहार में मजबूत होना है तो ब्राह्मण---भूमिहारों के साथ मुस्लिम ही फैक्टर है। भविष्य में कांग्रेस को गठबंधन के बावजूद इसी समीकरण पर आगे बढ़ना होगा। अत: यादव सामाजिक प्रतिद्वंदी नहीं हैं.....बल्कि राजनीतिक प्रतिद्वंदी हैं।। 
(सोशल मीडिया से साभार)

Community Journalism With Courage

ज़मीन से ज़मीन की बात

Comments

Mauli bhardwaj said…
yadav hamare rajneetik dushman hai na ki samajik dushman aur 1990 se pahle bihar me jab congress ki sarkar thi tub hamari rajneetik pakad majboot thi hamari hi rajneejik bhul ki aur 1989 me congress ko haraaker janta party ko jitaya aur bihar me hamne apni rajneeti yadavo k hath me de dali aur us waqt lalu matra ek mp tha magar congress ke haar jane se picchro me badhi rajnik pakad ko usne samajh liya,aur congress raj me hue 1989 me bhagalpur riot se muslim congress se tutne lage aur badalte rajnitik k daur me aur bjp k hindutwa ajende se padeshaan hokar muslimo ne apna rukh lalu ki party rjd ki taraf kiya wo bhi lalu ki muslim najdikio ki wajah se muslim vote pane k baad lalu swarn virodhi bhashan se kuch pichre vote bank ko torne me safal rahe,congress vote bank kahe jane wale swarn,muslim aur dalit vote bank dum pe congress ne itne dino tak bihar aur desh pe raj chalaya per aab bihar me muslim vote bank tut chuka tha aur swarn janta party samarthit bjp k aur hindutwa k aur jaa chuke thhe lakin is baat ko bhi jhuttlaya nahi jaa sakta hai ki congress ne satta hamesha swarano k hath me di,lakin aab lalu apna rajnetik samikaran ready ker bihar pe 15 saal raj kiya,congress k kamjor hone k baad swarano ne congress ko chor bjp ke aur rukh kiya lekin 15 saal baad jdu gathbandhit bjp ki sarkar bani per usme bhi swarn ki bhagidari bahut kam rahi per rjd k mukable bahut thi uske baad 2014 me hindutwa lahar bjp aur rss ne modi ko muslim vorodhi pm gujrat dange ka naam se femous ker bihar aur desh me bahumat ki sarkar banai per swarano k sath baemani kar nityanand rai ko predhesh adhashak bana diya,swarn ye baat samajh gaye aur 2015 bihar vidhan sabha me congress ko swarn dominated seat se mili jeet se yah jahir ho gaya aur congress ne bhi apne hisso k 41 seat me se 16 seat swarno ko dekar yeh jahir ker diya ki wo aaj bhi swarano ki party hai
Mauli bhardwaj said…
Lalu ne kitni bar bhumihar samaj se najdiki badhani chahi aur apni party me hissedar banana chahi per bhu samaj na jane kyo iske liye raji nahi hua uske baad yadavo aur bhumiharo me tanab badh gaya ek dusre ki virodhi dal ko lekar aur lalu ko bhumihar virodhi ban na per gaya phir bjp se bhi samman na milne pe bhumiharo ko ye afsos hua ki sayad rjd se milkar rahte to politics me itne kamjor na hote kyoki abhi bhi rjd bihar ki sabse badi party hai ye baat 2015 ke bihar election me nikal kar samne aaya hai aab agar bhumiharo ko rajnik taur pe majboot hona hai to congress ko bihar me majboot hona parega aur dusra koi vikalp nahi hai kyoki bjp puri tarah hindutwa k naam pe backward politics khel rahi hai aur sayad hi lalu ki neeti bhumiharo k prati badle aur bhumiharo ko bhi rjd ka ticket mil paye isko dekhte hue bihar me congress ko majboot hona parega?
Mauli bhardwaj said…
Congress ne apna pradesh adhashak madan mohan jha aur chunav prachar samiti ka head akhlish pd singh ko banakar ye jahir ker diya ki bhumihar aur brahman unke liye sarvopari hai aur bihar rajya sabha me kewal ek seat wo bhi bhumihar akhliesh pd singh ke khate me daal di iss per bjp walo ne sawal utthaya aur kaha ki rahul gandhi k najar me picchre aur dalit k virodhi hai
Mauli bhardwaj said…
Bhumiharo ko ye baat samajhna hoga ki rjd k sath rahker bhi congress bhumihar aur brahman ya kahe to swarno ki hi party rahegi wo to majboori hai congress ki tuti hui muslim aur kuch backward aur dalit votebank jis wajah se rjd ke sath congress aane wale 2019 election me khari ho rahi hai,bhumiharo ko aab dil se nahi dimag se sochker congress ko support karna hoga aur majboot banana hoga taki aane wale waqt me rajneti me hissedari badh sake verna bjp ajende me to bhumihar khatm hi hai
Mauli bhardwaj said…
Bhagalpur riot 1989 k baad congress k muslim votebank tute kar rjd k khate me chala gaya lakin 2014 election me bjp ki hindutwa lahar ne rjd aur congress ki halat ek jaisi ho gayi hai aur dono k gathbandhan k baad muslim voters ka bharosa congress pe badhne k umeed hai aur bjp me bhumihar aur brahman k sath ho rahe bhedbhav ki wajah se unka jhukav congress k aur 2015 bihar election me dekhne ko mila,hame intejaar karna hoga jis din congress apne tradition muslim votebank,swarn aur dalit aur kuch picchre ko milakar bihar aur up me majbooti se stand kar jaye us din phir se rajneeti me hamari pakad majboot ho jayegi,lalu sirf ek yadav voter ke sahare kuch na kar sakegi jab tak muslim votebank ka support na mile aur nitish aur bjp se swarno ka moh bhang ho hi raha hai aur ek baat agar ek baar congress bihar aur up me majbooti se stand ker jayegi to phir apni satik rajneeti k dum pe bahut dino tak raj karne me safal rahegi
Mauli bhardwaj said…
Congress ne iss desh me apni satik rajneeti k dum pe bahut dino tak raj kiya hai kuch galtiya hum se hui ki sayad hum hi satta chalate chalate ubb chuke the jo 1989 me bjp samarthit vp singh ko jitakar bihar aur up ki rajneeti yadavo k hath me de dali aur uske baad swarno k khilaf mandal commission,sc st act,communalism,aur na jane kya kya chulu ho gaya,jagah jagah hindu muslim riot badha,atal ji k sarkar me phir se sc st reservation in promotion,backlog vacancy only reserve caste sc st obc k dwara bhara jane wala rule iske liye di jane wali cutt marks me discount jaise rule bjp ki sarkar dwara banaye gaye aur rajneeti karne ka naya tarika ijjad ker diya jisse jis party ko bhi dekhe caste k aadhar pe sirf picchre aur dalit ki rajneeti karte hai aur swarno ki baat to koi karta hi nahi ,bihar aur up desh ki rajneeti ki dhuri rahi hai aur desh me congress tabhi achhe se majboot ho payaga jab ye bihar aur up me majboot ho jaye aur yahan congress 1989 se kamjor hai
Mauli bhardwaj said…
Hamari mistakes ki wajah se aaj hamari rajneetik taur pe kamjor hai kyo ki bjp aur vp singh ki sarkar ko lana hamari sabse badi bhul saabit hue aur hum aise bhul lagatar karte rahe,jiska khamiyaja hame bhugatna per raha hai,kabhi bjp atal bihari ke natritwa me,to kabhi modi k netritwa me lakin jab jab satta me aayi swarn virodhi rule banaya,swarno ko rajneetik taur pe kamjor kiya aur to aur desh me dharmwaad ko badhaya phir bhi hum uske jhase me aakar bjp ko support ker dete hai.
Mauli bhardwaj said…
1989 ka lok sabha aur 1990 ka bihar vidhan sabha election ka daur bhumiharo ya kahe to swarno k liye sabse manhus daur sabit hua,1989 ke baad sansad me hamari bhagidari bahut kam rah gayi aur 1990 me hamari bhagidari apne rajya bihar me bahut kam gayi,uske baad se aaj tak hum waapas satta me majboot nahi ho paye hai sayad 2019 me rajnitik sammikaran badle congress phir se 30 saal baad bihar me gathbandhan ki wajah se majboot ho aur sayad phir se ek majboot party k taur pe khari ho paye to sansad me hamari bhagidari aur 2020 me bihar election me bhi hamari bhagidari majboot ho sakti hai bus ham apne purani bhul ko na dohraae
Mauli bhardwaj said…
Hame yah baat dhayan rakhni hai ki chahiye ki 1990 me lalu yadav ka cm ban na congress ki haar ka natija tha na ki yadavo ki rajnitik pakad ka,lakin uske baad lalu ne bihar ke yadavo ko rajnitik taur pe majboot karne k liye swarno khashger bhumiharo k khilaf rajnitik taur pe taiyaar kiya,agar hum sayad 1990 bihar vidhan sabha election me rajnitik bhul nahi karte aur congress ko support kiye rahte to sayad lalu yadav ko cm ban ne ka mauka na mil pata aur yadav ko hamare saamne rajnitik taur pe khare hone ka mauka nahi mil pata
Anonymous said…
Bhai wo sab to theek hai lekin pahle ye jo ladki hai uska ilaaz karao kuvh Chanda karo hum bhi denge .. gazab pagla gyi hai

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…