Skip to main content

नित्यानंद सिन्हा दे रहे हैं टाटा को टक्कर, भूमिपुत्र ने किया भूमि घोटाले का पर्दाफाश

nityanand rai expose tata value homes scam
परशुराम के वंशज एकला चलो की रणनीति पर चलते हैं. साथ कोई आये या न आये अन्याय और अधर्म के नाश के लिए वे सदा तत्पर रहते हैं. पौराणिक गाथाओं में इसके उदाहरण भरे पड़े हैं. ज्ञात ही है कि कैसे भगवान् परशुराम ने अकेले ही अपने फरसे से 23 बार संसार को अधर्मी राजाओं से मुक्त कराकर धर्म की स्थापना की. बहरहाल उस परम्परा का निर्वाहन आज भी हो रहा है और उनके वंशज उसे आगे बढ़ा रहे हैं. उसी की ताजा मिसाल हैं टाटा समूह के टाटा वैल्यू होम्स के पूर्व प्रोजेक्ट हेड नित्यानंद सिन्हा. उन्होंने टाटा वैल्यू होम्स में हो रहे बड़े घोटाले का पर्दाफाश किया है जिसके एवज में उन्हें अपनी नौकरी गंवाने के साथ-साथ टाटा समूह के कोपभाजन का सामना भी करना पड़ रहा है. 

मामला बहुत बड़ा है और सीधे-सीधे ग्राहकों के हित से जुड़ा हुआ है. दरअसल टाटा समूह की एक कंपनी टाटा वैल्यू होम्स ग्राहकों से सेल एरिया बढाकर धोखाधड़ी कर रही है लेकिन टाटा के आला अधिकारियों के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है. जैसा कि आप जानते ही हैं  कि ज्यादातर रियल एस्टेट कंपनियों ने आवासीय फ्लैट बिक्री में सेल एरिया को अपनी अवैध कमाई का एक जरिया बना रखा है, जिसके कारण भारतीय संसद ने रियल एस्टेट रेगुलेशन एक्ट पारित किया ताकि आगे से फ्लैट की बिक्री कारपेट एरिया के आधार पर होगी जो की हरेक ग्राहक माप सकता है, जबकि सेल एरिया को मापना एक गहन तकनीकी विषय है| 

टाटा वैल्यू होम्स अपनी एक सहयोगी कंपनी एच एल प्रमोटर्स प्राइवेट लिमिटेड के माध्यम से बहादुरगढ़ हरियाणा में मध्यमवर्गीय परिवारों के लिए एक बहुमंजिली आवासीय परियोजना बना रही है| यहाँ बहादुरगढ़ में स्थानीय डेवलपर्स 2400-2800 रुपये प्रति वर्गफीट के दर से फ्लैट बेच रहे थे वहीँ टाटा समूह का आगमन हुआ कि हम पूरे ईमानदार और विश्वसनीय कंपनी हैं और आप हमें 4000 रूपये प्रति वर्ग फीट की दर देकर भी फायदे में रहेंगे| लेकिन आरोप के मुताबिक ऐसा नहीं हुआ और ग्राहकों के साथ ठगैती हुई.ग्राहकों से हरेक फ्लैट के लिए, साइज़ के मुताबिक, 4,40,000 से लेकर 6,70,000 तक ज्यादा पैसे लिए गए.यानी की गला कट गया और पता भी ना चला| ये सारी बातें सबूतों के साथ दिल्ली सरकार और हरियाणा सरकार दोनों को कंपनी के ही एक पूर्व कर्मचारी नित्या नन्द सिन्हा ने लिखित शिकायत में दी है जिसपर हरियाणा सरकार उपायुक्त, जिला झज्जर की अध्यक्षता में जाँच भी कर रही है| 

दिनांक 07 मार्च 2016 की शिकायत में कंपनी का एक ईमेल संलग्न है जो दिनांक 3 मार्च 2015 को भेजा गया था और लिखता है की “2 बेडरूम हॉल किचेन फ्लैट के लिए 41% और 3 बेडरूम हॉल किचेन फ्लैट के लिए 39% लोडिंग का निर्णय लिया गया”| अब दूसरी तरफ उसी दिनांक 3 मार्च 2015 को कम्पनी द्वारा “प्राइसिंग टास्क फोर्स” नामक दस्तावेज भेजा गया जो की कई जगहों पर 30% सेल एरिया लोडिंग की बात करता है| कंपनी सूत्र ये बताते हैं कि “प्राइसिंग टास्क फोर्स” एक अति महत्वपूर्ण दस्तावेज है जो कंपनी के द्वारा परियोजना की बिक्री एवं दर के बारे में दिशानिर्देश निर्धारित करती है| उपलब्ध दस्तावेजों में आश्चर्यजनक तथ्य है कि एक ही तारीख में दो दस्तावेजों में अलग-अलग सेल एरिया है यानी एरिया जो बाकायदा नक्शों में हरियाणा सरकार द्वारा एप्रूव्ड है वो एरिया न हो कर इलास्टिक स्प्रिंग बन गया जिसे जब चाहो खींच दो| 

उपरोक्त शिकायत दर्शाती है कि जब कंपनी द्वारा धोखाधडी की शुरुआत की गयी तो जेन्युइन कारपेट एरिया में सिर्फ 1 से लेकर 7 वर्ग फीट की बढ़त हुई लेकिन जेन्युइन सेल एरिया में 107 से लेकर 136 वर्ग फीट की बढ़त हो गयी यानी की गंगा ही उलटी बहने लगीं| ज्ञात हो कि टाटा वैल्यू होम्स इस परियोजना को “वन नेशन वन प्राइस” विज्ञापन के तहत देश भर में ऑनलाइन ओर ऑफलाइन बेचती रही है और देश भर के मध्यमवर्गीय नागरिक इसमें छले जा रहे हैं| 

रियल एस्टेट सेक्टर में ये चर्चा का विषय है की टाटा कंपनी अपनी गलतियों पर पर्दा डालने के लिए वकीलों का सहारा लेकर उक्त व्हिसलब्लोअर कर्मचारी को परेशान करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है| हरियाणा की खट्टर सरकार एक साल बीत जाने के बाद भी अभी तक दूध का दूध एवं पानी का पानी नहीं कर सकी है| टाटा के विज्ञापन के दवाब में राष्ट्रीय मीडिया भी इस मुद्दे को उछालने से परहेज कर रही है. हालाँकि वरिष्ठ पत्रकार राम बहादुर राय के संपादकीय में चल रही यथावत पत्रिका ( जुलाई 2016 ) इसपर खबर प्रकाशित की. फिर इंडिया संवाद और कुछेक और संस्थानों ने भी इसे खबर बनायी. लेकिन बाकी का मीडिया खामोश रहा. ऐसे में नित्यानंद सिन्हा के लिए ये लड़ाई बेहद कठिन है जिसे वे साहस से अकेले लड़ रहे हैं. उसपर तुर्रा है कि वे अदालती कार्रवाई की वजह से खुलकर कुछ बोल भी नहीं सकते. फेसबुक एकाउंट पर भी लिखने से उन्हें कोर्ट की तरफ से मनाही है. उधर टाटा समूह कानूनी जंजाल में फंसाकर उन्हें तोड़ने में लगा है. लेकिन भूमिपुत्र की जंग जारी है. क्या आप इनका साथ देंगे? 

यथावत में टाटा के घोटाले पर खबर -

nityanand rai expose tata value homes scam
nityanand rai expose tata value homes scam

Community Journalism With Courage 

ज़मीन से ज़मीन की बात

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…