Skip to main content

नरेंद्र मोदी भी मोहन भागवत की राष्ट्रपति पद की दावेदारी को ख़ारिज नहीं कर सकते

mohan bhagwat narendra modi
डा. वेद प्रताप वैदिक- 

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक याने मुखिया श्री मोहन भागवत का नाम राष्ट्रपति पद के लिए उछला है। शिवसेना के एक प्रवक्ता ने उन्हें राष्ट्रपति बनाने का प्रस्ताव किया है। शिव सेना के इस प्रस्ताव की नरेंद्र मोदी उपेक्षा नहीं कर सकते, क्योंकि उप्र में प्रचंड विजय पाने के बावजूद भाजपा को राष्ट्रपति का चुनाव जीतने के लिए अभी कम से कम 20 हजार वोट कम पड़ रहे हैं। जबकि शिवसेना के 21 सांसद और 63 विधायकों के कुल मिलाकर 25,893 वोट बनते हैं। यदि शिव सेना बगावत पर उतर जाए तो भाजपा के उम्मीदवार का राष्ट्रपति बनना खटाई में पड़ सकता है। 

यों भी शिव सेना ने राष्ट्रपति के पिछले चुनावों में कांग्रेस के प्रणब मुखर्जी और प्रतिभा पाटील का समर्थन किया था। अब शिव सेना ने मोहनजी का नाम पता नहीं क्यों उछाला है? उसके प्रवक्ता की मानें तो मोहनजी के राष्ट्रपति बनने पर भारत को हिंदू राष्ट्र बनाना संभव हो जाएगा। यह शुद्ध मजाक नहीं तो क्या है? 

यह नरेंद्र मोदी को पटकनी मारने का पैंतरा भी हो सकता है। यों राष्ट्रपति का पद तो सिर्फ रबड़ की मुहर होता है लेकिन मोदी-जैसे स्वयंसेवक के लिए एक सर संघचालक किसी भी गुरु या पिता से कम नहीं होगा। जो मोदी आडवाणीजी और जोशीजी को नहीं झेल सकता, वह क्या मोहनजी को सह लेगा? जहां तक मोहनजी का सवाल है, वे राष्ट्रपति क्या, किसी भी पद को स्वीकार क्यों करेंगे? कतई नहीं। 

स्वयंसेवकों के लिए उनका पद, पद नहीं परमपद है। उन्हें राष्ट्रपति बनाने की बात कहना क्या उनका सम्मान करना है? मोहन भागवत का जैसा तपस्वी, त्यागमय और समर्पित जीवन रहा है, उसके आगे ये सारे राजनीतिक पद बहुत छोटे पड़ते हैं। गुरु गोलवलकरजी से लेकर मोहनजी तक जितने भी सर संघचालक रहे हैं, उनसे मेरा घनिष्ट व्यक्तिगत परिचय रहा है। मैं यह बात पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि मोहनजी जैसा विचारशील, उदार और विनम्र होना नेताओं के बस की बात नहीं है। वे अपने आप को नेताओं की श्रेणी में उतारना क्यों पसंद करेंगे? जहां तक भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने की बात है, शिवसेना के हिंदू राष्ट्र और मोहन भागवत के हिंदू राष्ट्र में जमीन-आसमान का अंतर है। 
(साई फीचर्स)

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.