Skip to main content

मोदी जी सर्जिकल स्ट्राइक करके भूमिपुत्र अभय की विधवा का सुहाग लौटा दीजिये, लौटा पाएंगे?

शहीद भूमिपुत्र अभय कुमार की विधवा का सुहाग अपने सर्जिकल स्ट्राइक से वापस लौटा दीजिए मोदी जी
modi sukma abhay

मोदी जी सर्जिकल स्ट्राइक से सूनी मांग भर जायेगी?

सुकमा में नक्सलियों ने एक बार फिर देश की सत्ता को अंगूठा दिखाते हुए, हमारे 25 जवानों की निर्मम हत्या कर दी. उसके बाद फिर वही सब होने लगा जो अबतक होता आया है. यानी न्यूज़ चैनलों की चीं..पों...गृहमंत्री का निंदा प्रस्ताव और प्रधानमंत्री का सर्जिकल स्ट्राइक का वायदा. बहरहाल 'नक्सली मीडिया' और 'निंदानाथ सिंह' से हमें कोई पहले भी उम्मीद नहीं थी. लेकिन उम्मीदों का दिया जलाने वाले अपने 56 इंच वाले प्रधानमंत्री के बयान और उनकी ठंढी प्रतिक्रिया ने बेहद निराश किया. उन्होंने कहा कि वे स्थिति का जायजा ले रहे हैं और शहीदों की शहादत बेकार नहीं जायेगी. उन्होंने ट्वीट किया - 

-Attack on @crpfindia personnel in Chhattisgarh is cowardly & deplorable. We are monitoring the situation closely. 

-We are proud of the valour of our @crpfindia personnel. The sacrifice of the martyrs will not go in vain. Condolences to their families. 

मीडिया और समर्थकों ने उनके इस ट्वीट का अर्थ ये लगाया कि पीएम मोदी नक्सलियों पर सर्जिकल स्ट्राइक की बात कर रहे हैं. यानी बदले की कार्रवाई और अपनी साख बचाने के लिए कुछ नक्सलियों को मारने की योजना बनायी जा रही है ताकि जनता संतुष्ट हो जाए और प्रधानमंत्री अपने अगले स्क्रिप्ट पर ध्यान दे सके. शत-प्रतिशत विश्वास है कि जल्द ही ऐसा होगा भी. 10-20 नक्सलियों को ढेर करके सरकार फिर वाहवाही लूटेगी और अभय कुमार जैसे हजारों शहीदों की शहादत गुजरे ज़माने की बात हो जायेगी. फिर नक्सली घात लगाकर हमला करेंगे और फिर सरकार की तरफ से सर्जिकल अटैक की नौटंकी. यानी घात-प्रतिघात का खेल चलता रहेगा. वास्तविकता में कुछ बदलेगा नहीं. 

नेतागण ट्विटर पर आंसू बहाते रहेंगे. पीएम मोदी सर्जिकल स्ट्राइक करते रहेंगे और हमारे जवान अपने ही धरती पर बेमौत मारे जाते रहेंगे. लेकिन हिन्दू हृदय सम्राट और देश के प्रधानमंत्री मोदी से हमारा एक सवाल है कि उनके सर्जिकल स्ट्राइक से विधवा वीरांगनाओं का सुहाग वापस आ जाएगा? दरअसल हमें बदला चाहिए भी नहीं, बस शहीद भूमिपुत्र अभय कुमार की विधवा का सुहाग अपने सर्जिकल स्ट्राइक से वापस लौटा दीजिए मोदी जी. क्या लौटा पायेंगे? पहले हमारे जवान मारे जाएंगे,फिर नक्सली और उग्रवादी। ये कैसी रणनीति है? #सुकमा

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…