Skip to main content

बाबू लंगट सिंह भूमिहार ब्राहमण जरुर थे लेकिन उन्हें जाति के चश्मे से देखना उचित नहीं !

महान शिक्षाविद बाबू लंगट सिंह को जाति के चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिए. वे अपने समय के आगे की सोंचते थे और उसी के तहत उन्होंने जो कार्य किया, वैसा बाद में सरकार भी नहीं कर पायी. बाबू लंगट सिंह स्मृति समारोह में कल यही बात उभर कर सामने आयी. पढ़िए पूरी रिपोर्ट -
langat babu smriti samaroh 2017

दिल्ली. शिक्षा के क्षेत्र में अलख जलाने वाले बाबू लंगट सिंह विजनरी शिक्षाविद थे, जिसका साक्षात प्रमाण मुजफ्फरपुर का ऐतिहासिक लंगट सिंह कॉलेज (एल।एस।कॉलेज) है। ये उनकी विजनरी का ही कमाल है कि उन्होंने अपने समय में उत्तर बिहार में शिक्षा के सबसे बड़े मंदिर के रूप में एल.एस.कॉलेज की स्थापना की। बाबू लंगट सिंह स्मृति समारोह में समाज में शिक्षा की भूमिका पर वक्ता के रूप में बोलते हुए वरिष्ठ पत्रकार और न्यूज़24 के हेड (डिजिटल) सतीश के.सिंह ने ये बाते कहीं। रविवार को जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय में आयोजित समारोह में लंगट बाबू के कार्य को वर्तमान शिक्षा परिदृश्य से जोड़ते हुए उन्होंने कहा कि वे ऐसे स्वपनदर्शा थे जो समय से आगे की सोंचते थे और उन्होंने एल.एस.कॉलेज की स्थापना कर शिक्षा के क्षेत्र में जो काम किया,वैसा बाद में सरकार भी नहीं कर पायी। वही सुलभ इंटरनेशनल के सह-संस्थापक डॉ। बिंदेश्वर पाठक ने भी लंगट बाबू को महान शिक्षाविद करार देते हुए कहा कि सदियों में ऐसी विभूतियाँ समाज में जन्म लेते हैं। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उन्होंने अपनी बात रखी। इस मौके पर उन्होंने सुलभ इंटरनेशनल की कहानी भी संक्षिप्त शब्दों में बयान की। 

दिल्ली विश्वविद्यालय के प्राध्यापक संगीत रागी ने लंगट बाबू के काम को मील का पत्थर मानते हुए विश्वविद्यालयों की स्वायत्ता का मुद्दा उठाया। उन्होंने कि शिक्षा सरकारी नियंत्रण में नहीं होनी चाहिए। वही दिल्ली विश्वविद्यालय के आर्यभट्ट कॉलेज के प्राचार्य डॉ। मनोज सिन्हा ने कहा कि लंगट बाबू ने शिक्षा के क्षेत्र में समाज को बहुत कुछ दिया है और ऐसी महान विभूतियों को समाज को भी याद रखना चाहिए। इस दिशा में ऐसे कार्यक्रमों का होते रहना बेहद जरुरी है। 

लेकिन सभागार का माहौल तब गरमा गया जब लंगट सिंह पर बात करते हुए समाजसेवी शिव कुमार ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि नीतीश जी ने लंगट सिंह कॉलेज को लेकर बड़े-बड़े वायदे किये लेकिन आजतक कुछ नहीं किया। बदहाली का आलम ये है कि 63 प्रोफ़ेसर की जगह अब सिर्फ 8 प्रोफेसर रह गए हैं। अतः इसके जीर्णोद्धार के लिए अब उनकी संतानों को आगे आना पड़ेगा। इस मौके पर पूर्व आयकर अधिकारी अजय कुमार और कमल संदेश पत्रिका के कार्यकारी संपादक शिवशक्ति नाथ बक्शी ने भी अपने विचार रखे। सबकी एक राय थी कि बाबू लंगट सिंह को जाति के चश्मे से देखना अन्यायपूर्ण होगा।उन्होंने लंगट सिंह कॉलेज को स्थापित करके शिक्षा के क्षेत्र में ऐसा कार्य किया जिसका लाभ समाज के सभी तबके और जाति को हुआ। 

कार्यक्रम के उद्देश्य पर पुष्कर पुष्प ने प्रकाश डाला जबकि संचालन सूर्यभान राय ने किया. कार्यक्रम के आयोजक ब्रजेश कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन दिया. इस मौके पर सभी गणमान्य वक्ताओं को बाबू लंगट सिंह स्मृति चिन्ह भी भेंट किया गया. समारोह में बाबू लंगट सिंह के पोते ‘कुणाल सिंह’ भी मौजूद थे. उनके अलावा नवीन सिंह, रोहन राय, सुबोध मिश्रा, मनीष ठाकुर, केशव कुमार, शंकर, राहुल श्रीवास्तव,ओम प्रकाश, राम एन.कुमार, जयराम विप्लव, आलोक सिंह,विजय आदि बुद्धिजीवी,पत्रकार,शिक्षाविद,छात्र और आमजन बड़ी संख्या में कार्यक्रम में उपस्थित थे.

Community Journalism With Courage

ज़मीन से ज़मीन तक 

भूमंत्र

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…