Skip to main content

दिल्ली में 23 अप्रैल को लंगट बाबू स्मृति समारोह : आमंत्रण

langat babu smriti samaroh

शिक्षा के क्षेत्र में भूमिहार ब्राह्मण समाज का योगदान अतुलनीय रहा है. शिक्षा की लौ जलाने वाले ऐसी ही एक विभूति स्व.लंगट बाबू है. उन्होंने मुजफ्फरपुर में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय की तर्ज पर लंगट सिंह कॉलेज (एल . एस .कॉलेज) की स्थापना की थी. इस ऐतिहासिक कॉलेज में डॉ.राजेन्द्र प्रसाद(देश के पहले राष्ट्रपति), आचार्य जे.बी.कृपलानी(अध्यक्ष कांग्रेस), राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर आदि जैसी विभूतियों ने अध्यापन कार्य किया था.गौरतलब है कि महात्मा गांधी की चंपारण यात्रा की रुपरेखा भी यही बनी थी और स्वयं महात्मा भी यहाँ आकर ठहरे थे. इसी ऐतिहासिक कॉलेज के संस्थापक लंगट बाबू की स्मृति में हर साल दिल्ली में 'लंगट बाबू स्मृति समिति' एक कार्यक्रम आयोजित करती है और साथ में शैक्षिक विषयों पर परिचर्चा का भी आयोजन करती है. इस बार जवाहरलाल नेहरु वि.वि. में 23 अप्रैल को कार्यक्रम आयोजित किया गया. इस समृति समारोह के आयोजनकर्ता 'ब्रजेश कुमार' ने आमंत्रण पत्र को सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा - 

सादर निमंत्रण : 

लंगट बाबु स्मृति समारोह एवम परिचर्चा शिक्षा में समाज की भूमिका, कार्यक्रम का आयोजन दिनांक २३ अप्रैल 2017 को दोपहर 2:30 बजे से जवाहरलाल नेहरु विश्वविधालय के समाजिक विज्ञानं सभागार संख्या -1 दिल्ली में आयोजित किया जा रहा है ! साहस, संकल्प और संघर्ष की बहुआयामी जीवन जीनेवाले बाबु लंगट सिंह का जन्म वैशाली,बिहार जिले के धरहरा गाव के एक निर्धन परिवार में हुआ निर्धनता के कारण वो पढाई नहीं कर पाए और लंगट बाबु जीविका की तलाश में कम उम्र में ही निकल पड़े और उन्हें वहा शिक्षा के महत्व का पता चला साधारण मजदूर से अपनी कठोर मेहनत,बुद्धि और विश्वसनीयता के बल पर अपनी एक पहचान स्थापित की ! आज से ढेढ़ सौ वर्ष पहले काशी के उतरी तट पर तब कोई कॉलेज नहीं था। हाई स्कूल के संख्या न के बराबर थी। तब उस महान व्यक्ति "लंगट बाबु " ने उच्च शिक्षा के लिए मुजफ्फरपुर में कॉलेज की स्थापना के स्वप्न को साकार किया ! ऐसे में "लंगट बाबु स्मृति समिति " द्वारा एक कोशिश की गयी है एक ऐसे महान इंसान याद करने की जिसने 1899 मे शिक्षा का एक ऐसा दीपक जलाया जिस से आज भी अनेक लोगो की जिंदगी में शिक्षा की रौशनी फ़ैल रही है ! इस अवसर पे आप सादर आमंत्रित है ! 
 आयोजक लंगट बाबू समृति समिति 
#8882220662 #8800538899 
https://www.facebook.com/events/155256018332832/ 

Community Journalism With Courage
ज़मीन से ज़मीन की बात

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.