Skip to main content

चिलचिलाती गर्मी के बीच वीकेंड बिताने के लिए 5 हिल स्टेशन

hill station india
सिवनी (साई)। उत्तर और पश्चिम भारत में पारा लगातार चढ़ रहा है और अगले हफ्ते गुड फ्राइडे की वजह से लंबा वीकेंड भी है, ऐसे में आप इस वीकेंड में गर्मी से बचने और किसी हिल स्टेशन पर घूमने के लिए कोई प्लान जरूर बना रहे होंगे, आपकी प्लानिंग में हम आपकी मदद कर देते हैं, हम आपको दिल्ली के नजदीक 5 हिल स्टेशन की जानकारी दे रहे हैं जहां पर आसानी से पहुंचा जा सकता है और 3 दिन की छुट्टी काटकर वापस आया जा सकता है।

दिल्ली के नजदीक किसी भी हिल स्टेशन का जब भी जिक्र होता है तो सबसे पहले शिमला का नाम सामने आया है, पहाड़ों की रानी के नाम से मशहूर हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में घूमने का यह सबसे सही समय है, शिमला में इस समय आपको न सिर्फ तापमान कम मिलेगा बल्कि आबो हवा भी बिल्कुल साफ मिलेगी।

दिल्ली से शिमला रोड़ के रास्ते आसानी से पहुंचा जा सकता है 7-8 घंटे का सफर है, नजदीकी एयरपोर्ट चंडीगढ़ है जहां से शिमला 3 घंटे में रोड़ के जरिए पहुंचा जा सकता है। शिमला में आसानी से होटल और ट्रांसपोर्ट की सुविधा मिल जाएगी। भारत में जब ब्रिटिश शासन था तो उस समय अंग्रेज भी गर्मियों में दिल्ली को छोड़ शिमला चले जाते थे, शिमला को उन्होंने भारत की ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किया हुआ था।

गर्मियों में दिल्ली के नजदीक शिमला के अलावा किसी दूसरे हिल स्टेशन का सबसे ज्यादा जिक्र आता है तो वह हिल स्टेशन धर्मशाला है, धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की शीतकालीन राजधानी तो है ही साथ में निर्वासित तिब्बत सरकार की राजधानी भी है और तिब्बतियों के सबसे बड़े धर्मगुरू दलाई लामा भी धर्मशाला में ही रहते हैं। यहां भी तापमान कम होने के साथ आबो हवा भी साफ रहती है। अगर आप एडवेंचर के शौकीन है तो धर्मशाला में आपके लिए पैरा ग्लाइडिंग की सुविधा भी मिलेगी। दिल्ली से धर्मशाला रोड़ के जरिए 12 घंटे में पहुचा जा सकता है, दिल्ली से धर्मशाला को रोजाना हवाई उड़ान भी चलती है और नजदीकी एयरपोर्ट गगल है जो धर्मशाला से सिर्फ 13 किलोमीटर दूर है।

दिल्ली के नजदीक तीसरा सबसे अच्छा हिल स्टेशन डलहौजी को माना जाता है, ब्रिटिश वायराय लॉर्ड डलहौजी के नाम पर बसे इस शहर को अंग्रेजों ने ही बसाया था। डल्हौजी में स्थित खजियार को मिनी स्विटजरलैंड के नाम से जाना जाता है। हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में बसा यह हिल स्टेशन अपनी खूबसूरती और साफ सुथरी हवा के लिए देशभर में जाना जाता है, डलहौजी में तापमान शिमला और धर्मशाला के मुकाबले और भी ठंडा रहता है। दिल्ली से डलहौजी रोड़ के जरिए करीब 11 घंटे में पहुंचा जा सकता है, नजदीकी रेलवे स्टेशन और हवाई अड्डा पठानकोट है जहां से पठानकोट की दूरी 75 किलोमीटर है।

चौथे नंबर पर हिमाचल प्रदेश का ही एक और शहर मनाली है जहां की खूबसूरती पूरी दुनिया में जानी जाती है, हिमाचल प्रेदश के किसी शहर में अगर सबसे ज्यादा विदेशी पर्यटक आते है तो वह मनाली ही है। मनाली में घूमने वालों को पैरा ग्लाइडिंग, वाटर राफ्टिंग और ट्रैकिंग की पूरी सुविधा मिलती है। दिल्ली से रोड़ के रास्ते मनाली पहुंचने में हालांकी 13-14 घंटे लग जाते हैं लेकिन यहां पर नजदीकी एयरपोर्ट भुंतर है जो कुल्लू-मनाली वैली में ही आता है। मनाली में तापमान शिमला, धर्मशाला और डलहौजी के मुकाबले और भी कम रहता है और मनाली के नजदीक रोहतांग दर्रा भी है जहां पर साल के 12 महीने बर्फ रहती है।

शिमला, धर्मशाला, डलहौजी और मनाली के अलावा दिल्ली के नजदीक एक और हिल स्टेशन है जो इन चारों के मुकाबले ज्यादा नजदीक है। हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड में बसे नैनीताल की जो दिल्ली से रोड़ के रास्ते सिर्फ 6 घंटे की दूरी पर है, नैनीताल में बोटिंग, घोड़े की सवारी और ट्रैकिंग की सुविधा उपलब्ध है और यहां घूमने का सबसे अच्छा समय मार्च से जून के बीच का है


Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…