Skip to main content

सामाजिक समरसता के लिए जहर है फिल्म 'चौहर', कहाँ सोया है सेंसरबोर्ड?

सामाजिक तनाव को बढ़ावा देती फिल्म 'चौहर', फिल्म में जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल, कहाँ सोया है सेंसरबोर्ड?

chauhar

फिल्म का उद्देश्य मनोरंजन और पैसा कमाना जरूर होता है लेकिन उसके लिए सामाजिक विद्वेष फ़ैलाने की इजाजत किसी को नहीं दी जा सकती. फिर भी फिल्म को हिट कराने के मकसद से निर्माता-निर्देशक सतही स्तर पर जाने से नहीं चूकते. 7 अप्रेल को रिलीज होने वाली हिंदी फीचर फिल्म 'चौहर' ऐसी ही फिल्म है. 

सस्ती लोकप्रियता और जबरन विवाद पैदा करने की नीयत से इसमें बाभन यानी भूमिहार ब्राहमण समाज को निशाना बनाने की कोशिश की गयी है. ये जातिसूचक शब्द सामाजिक समरसता के लिए घातक है. आश्चर्य इस बात है कि इस मामले में सेंसरबोर्ड ने अपनी कैंची क्यों चलायी? 

बहरहाल भूमिहार ब्राहमण समाज में फिल्म को लेकर रोष है. इसी मुद्दे पर सोशल मीडिया पर @BM प्रोफाइल से लिखा गया - 

 'चौहर' को ऐसे दिखाएँ बाभन अपना 'जौहर' 

 "फिल्म 'चौहर' में 'बाभन' शब्द का जिस तरह से इस्तेमाल किया गया है उसके लिए किसी धरना-प्रदर्शन और विरोध की जरुरत नहीं. व्यर्थ की पब्लिसिटी नहीं देनी है. सबसे बेहतर उपाय है, इसकी इकोनोमी और निर्माता के मनोबल पर चोट करना. फिल्म 7 अप्रेल को रिलीज होने वाली है. यदि फिल्म को कोर्ट में खींचा जाए और समाज के दस वकील पहल करे तो इनकी नानी याद आ जायेगी. बेगूसराय से लेकर दिल्ली - मुंबई तक इतने केस कर दो कि फिल्म भूलकर इन्हें सिर्फ तारीख याद रह जाए. फिल्म रिलीज समय पर नहीं होगी तो ऐसे ही ये आधे बर्बाद हो जायेंगे. आपकी इस बारे में क्या राय है? "

फिल्म के बारे में विवरण : 

SYNOPSIS : With Amit Kashyup and Richa Dixit in prominent roles, the movie was released in 2017. This romantic drama is directed by Raghubeer Singh.
chauhar
chauhar 2017
chauhar full movie

Community Journalism With Courage

ज़मीन से ज़मीन की बात

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …