Skip to main content

कन्हैया के बहाने भूमिहारों को ब्राह्मणों से लड़ाने की दिलीप मंडल की साजिश !

दिलीप मंडल का नया राग - ब्राह्मणवाद से पीड़ित हैं भूमिहार ब्राहमण

bhumihar brahmin

भूमिहारों को ब्राह्मणों से लड़ाने की दिलीप मंडल की साजिश !

फेसबुक पर जातीय विमर्शकारों में 'दिलीप मंडल' का नाम इस वक़्त चोटी पर चल रहा है. वे लगातार जातियों को लेकर विद्वेस फ़ैलाने वाले स्टैटस लिखते रहते हैं और उसपर पक्ष-विपक्ष में तलवारें चलती रहती है और इस तरह दिलीप मंडल की फेसबुक पर जातीय मठाधीशी कायम रहती है. 

मंडल जी के इस जातीय विमर्श में वैसे तो तमाम सवर्ण निशाने पर रहते हैं लेकिन ब्राहमणों पर उनका पूरा जोर रहा है. ब्राहमणों के खिलाफ जहर उगलने का वे कोई मौका नहीं चूकते. दूसरे शब्दों में ब्राहमणों को लेकर उनका विधवा विलाप निरंतर चलता रहा है. इस विमर्श में वे वैचारिक षड्यंत्र भी रचते हैं और सवर्णों को ही एक-दूसरे के खिलाफ खड़ा करने की साजिश करते हैं. इसका एक उदाहरण उनका यह फेसबुक स्टेटस है जिसमें वे कन्हैया के बहाने भूमिहारों को ब्राहमणों से लड़ाने की साजिश रचते हैं. 

गौरतलब है कि जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष और विवादास्पद छात्र नेता कन्हैया कुमार जाति से 'भूमिहार ब्राहमण' हैं और वामपंथ विचारधारा के गढ़ बेगूसराय (बिहार) से आते हैं. पढ़िए वे भूमिहार और ब्राह्मणों को लड़ाने के लिए क्या लिखते हैं (5 मार्च,2016) : 

कन्हैया को ब्राह्मणवाद से आजादी चाहिए. आप लोग उसकी मदद करें - दिलीप मंडल

कन्हैया की जाति भी ब्राह्मणवाद से पीड़ित है. ब्राह्मण उसकी जाति को खुद से नीच मानते हैं. उनसे शादी का रिश्ता नहीं बनाते. प्रमाण के लिए शादियों के विज्ञापन देख लीजिए. कन्हैया की जाति मंदिरों में पुजारी नहीं बन सकती. भूमिहार जाति का कोई पुजारी मिला हो तो बताएं. यह जाति कोई भी संस्कार नहीं करा सकती. उनके जनेऊ पहनने के अधिकार को शास्त्रीय मान्यता नहीं दी जाती है. भूमिहार शंकराचार्य नहीं बन सकते. इसलिए कन्हैया के ब्राह्मणवाद विरोधी नारों पर मैं यकीन करता हूं. आपको भी करना चाहिए. कन्हैया को ब्राह्मणवाद से आजादी चाहिए. आप लोग उसकी मदद करें. 

 दिलीप मंडल के इस पोस्ट पर आयी कुछ चुनेंदा प्रतिक्रियाएं - 

 Pranayy Raj - ये स्वघोषित दलित मसीहा अब भूमिहारों से बकैती कर रहा है। हाँ भाई मैं भी भूमिहार हूँ और इसीलिए कहता हूँ कि श्री C मंडल जाइए जिस बेगुसराय से कन्हैया आया है न वहां जाकर ये बात बोलियेगा...... . भूमिहार "पूजा" नही करवाते लेकिन "श्राद्ध" जरूर करवा देंगे....... 

 Jitendra Visariya - मेरे यहाँ एक कहावत है--आठ कनौजिया नौ चूल्हे!!! अर्थात ब्राह्मणों में भी ब्राह्मणवाद है???? ब्राह्मणवाद का नाश हो!!! 

Shubham Verma- लीजिए...दिलीप मंडल...का कायाकल्प हो गया...कल तक सवर्णों के ख़िलाफ जेहाद चलाने वाले मंडल साब आज ब्राह्मणवाद का विरोध करने लगे...कल कोई ब्राह्मण कन्हैया बन गया तब कहां जाएंगे....दोगली सियासत करना छोड़ो महाराज Ravi Rai - ये कितना बड़ा सूतिया है।।। हहह।।। पूरा मलनिवासी है, ओह माफ करिएगा मूलनिवासी है।।।। भूमिहार को भी दलित बना दिया।।।। हा हा हा।।। अब मुझे भी आरक्षण मिलेगा।।। 

नीलोत्पल मृणाल वाया Mousmi Pandey- "परम दोगलेश्वर आदरणीय मंडल जी" का ये पोस्ट उनके जातीय जहरवाद के वमन का सबसे ताजा उदाहरण है।कन्हैया ने जाने अनजाने रोहित वेमुला की लड़ाई का नेतृत्व जब इन जैसे लोगोँ के हाथ से झटक लिया,आज जब दलित कहाये रोहित वेमुला के लिए न्याय की लड़ाई का प्रतिक भुमिहार बताये गये कन्हैया कुमार बन गये,आज जब मनुवाद,ब्राह्मणवाद और सामंतवाद से लड़ने का नारा खुद एक सवर्ण ने बढ़ के दे दिया और आज वो पुरी ब्राह्मणवादी,मनुवादी विरोध संस्कृति का हीरो बन गया है..ऐसे मेँ हताश होकर मंडल जी जैसे लोग का लेवल इतना नीचे गिर जायेगा समझ से परे है।हद है इस थेथरई की।हाय रे विचारधारा और विचारक।मंडल जी का ऐजेँडा साफ है,पोस्ट को पढ़िए और बैठ विश्लेषण करते रहिये।इस आदमी को ब्राह्मणवाद से नहीँ बल्कि जाति विशेष से नफरत है और चाहे नफरत ना भी हो पर यही इसके फेसबुक लाईक का औजार है बाकि जमीन पर तो क्या इनसे उखड़ेगा सब देख ही रहे हैँ।इनकी खुद शादी ब्राह्मण से हुई,प्रेम विवाह किया एक मनुपुत्री से।अब बाद मेँ ससुराल से लताड़ और साले-ससुर से झगड़े और प्रताड़ना का भड़ास फेसबुक पर वैचारिक उल्टी कर निकालते हैँ।खैर चलिए अब मंडल जी के इस पोस्ट से सहमत लोग अभी के अभी आजादी दीजिए मुझे।तुरंत ब्लॉक करिये या होईये।साला बात ब्राह्मणवाद के खिलाफ लड़ाई से ब्राह्मण,भूमिहार और राजपूत,कोयरी,कुर्मी,दास,माँझी के बीच आपस मेँ लड़ाई कराने तक पहुँचा देते हो बे।"वेलडन कन्हैया"..पेल दिये..दोगले कनफ्युजिया गये हैँ,इनकी पोल खुली जा रही है।मतलब मनुवाद और ब्राह्मणवाद से लड़ने का पेटेँट करा लिया है का मंडल जी ने क्या?और कोई थोड़े लड़ेगा। जय हो। 

Community Journalism With Courage

ज़मीन से ज़मीन की बात

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…