Skip to main content

भाजपा को भूमिहारों की नहीं, अब यादवों की तलब है !

बिहार भाजपा के एजेंडे में यादव वोट, भूमिहारों के हिस्से राष्ट्रवाद का झुनझुना 

bjp bihar
भाजपा समर्थक होने के बावजूद आप इस तथ्य को नकार नहीं सकते कि भाजपा अब भूमिहारों की अनदेखी कर रही हैं. अनदेखी नहीं भी कर रही है तो कम-से-कम उसके एजेंडे से तो गायब है ही. अपनी गलतियों की वजह से बिहार विधानसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद भाजपा का प्रछन्न यादव एजेंडा खुलकर सामने आ गया है. उसी के परिणति के तौर पर लगातार यादव नेताओं को बिहार भाजपा में शीर्ष नेतृत्व पर लाया जा रहा है और भूमिहारों को राष्ट्रवाद का झुनझुना पकड़ा कर हाशिए पर छोड़ दिया गया. इसी संदर्भ में पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर एक टिप्पणी लगातार घूम रही है जिसमें मूलवाक्य था कि क्या भूमिहारों के जिम्मे ही राष्ट्रनिर्माण और हिंदुत्व का ठेका है? उसी टिप्पणी को मूल आधार बनाकर हम लेख की शक्ल दे रहे हैं. इस लेख का उद्देश्य भाजपा से आपको विमुख करना नहीं है, बल्कि अपने अधिकारों के प्रति सचेत करना है. पढ़िए - 

क्या भूमिहारों के जिम्मे ही राष्ट्रनिर्माण और हिंदुत्व का ठेका है? 

बिहार में भाजपा को अब 6.5% जनसंख्या वाले भूमिहार समाज की जरुरत नहीं रह गयी है क्योंकि अब उसकी नज़र 16% वाले यादव समाज पर है जो अबतक लालू यादव एंड फैमिली के पीछे चलता आया है. उसी के मद्देनज़र बिहार भाजपा में शीर्ष स्तर पर पांच यादव नेताओं का बिठाया गया है. ये पांच नेता हैं बिहार भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय, वरिष्ठ नेता नंदकिशोर यादव, केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव, प्रभारी भूपेन्द्र यादव एवं हुकुमदेव नारायण यादव. भाजपा को इनसे उम्मीद है कि ये यादव वोटों को भाजपा की तरफ खींचने में कामयाब रहेंगे. इसलिए अगले चुनाव के मद्देनज़र भाजपा की नीतियाँ भी यादवों को रिझाने के लिए बनेगी, क्योंकि उन्हें लगता है कि यादवों के वोटों के बिना सरकार बनाना संभव नहीं और भूमिहार समुदाय तो उनका मजबूर वोटर है ही. 

भूमिहारों को दिल से नहीं, दिमाग से सोंचने की जरुरत

 ऐसे में भूमिहार ब्राहमण समाज को दिल से नहीं बल्कि दिमाग से सोंचने की जरुरत है. नहीं तो रसातल में जाने से समाज को कोई नहीं बचा सकता. अबतक भूमिहार दिलोजान से भाजपा के साथ बिना किसी शर्त के खड़े रहे और उनकी एजेंडे का आँख मूंदकर समर्थन करते रहे और इस चक्कर में राजनीतिक रूप से हाशिए पर चले गए. भूमिहारों ने जब भी आवाज़ उठानी चाही तो धर्म और जाति का वास्ता देकर उसे खामोश करा दिया गया और समुदाय के हित की बात जुबां पर ही नहीं आ पायी. कभी हिंदुत्व ने तो कभी राष्ट्रवाद ने भूमिहारों को अपने हितों का बलिदान करने के लिए मजबूर कर दिया. लेकिन क्या धर्म,जाति और राष्ट्रभक्ति का ज़िम्मा सिर्फ भूमिहारों का ही है? 

षड्यंत्र के साए में भूमिहार समाज 

भूमिहारों के खिलाफ जातियों की गुटबंदी कोई नयी बात नहीं. लेकिन अब दूरगामी सोंच के तहत बड़ा षड्यंत्र रचा जा रहा है.पहले तो पार्टियाँ भूमिहार समाज की शक्ति का उपयोग करके सत्ता हासिल करती है और बाद में उसे हाशिए पर डाल देती है. हमारे नेताओं की उपेक्षा की जाती है और उनके उपर किसी और को बैठा दिया जाता है. उदाहरणस्वरूप बिहार भाजपा की बुनियाद डालने में अहम भूमिका निभाने वाले कैलाशपति मिश्र के पुत्रवधू का टिकट कैलाशपति मिश्र सभागार में बैठकर काटा गया तो दूसरी तरफ चंद्रमोहन राय जैसे कर्तव्यनिष्ठ लोगों के साथ भी ऐसा ही किया गया. पद्मश्री डॉ सी पी ठाकुर को हाशिये पर धकेल दिया गया. बिहार भाजपा में भूमिहार विरोधी गैंग की कारस्तानी की ये बानगी भर है.गौर से देखने जायेंगे तो षड्यंत्रों का जखीरा मिल जाएगा. ऐसे में अब जरुरी हो गया कि भूमिहार समाज एकजुट होकर षड्यंत्रों और षड्यंत्रकारियों को नेस्तनाबूद करे. साथ ही भूमिहारों की प्रिय पार्टी भाजपा को एहसास कराने की जरुरत है कि भूमिहार वोट बैंक को हलके में न ले, खिसक जाएगा तो बिन पेंदी के लोटे हो जाओगे और बिन पेंदी का लोटा किसी काम का नहीं होता.

Community Journalism With Courage

ज़मीन से ज़मीन की बात 

Comments

Mauli bhardwaj said…
mai jyada nahi janta lakin muzzaffar dist bhumiharo ka dist kaha jata tha lakin 1984 me aakhri bar lp sahi yaha se mp bane thhe uske baad congress kabhi nahi jeet saki aur tab se lekar aaj tak koi bhumihar mp nahi saka lekin ek sach ye bhi hai ki congress ne 1989 se lekar 2014 tak jab bhi lok sabha election hua congress ne kar election me bhumiharo ko hi ticket diya magar congress ko chhor aur kisi party jaise bjp jdu etc ne aaj tak kabhi bhumiharo ko ticket nahi diya phir bhi congress ko chor dusri party is bhumihar dominated muz lok sabha seat se jeeti? Congress ne bhumihar ko nahi chora magar bhumiharo ne congress ka sath chor diya? Hum bihar ke subse litrate caste hone k baabjood apna bhala nahi soch sakte? Ye bus ek muz lok sabha seat ki kahani hai per bihar jharkhand aur up me aur bhi bhumihar dominated seat hai jaha pe hum apni khud k wajah se kamjor bane hue hai? Congress k bal pe raj karne wale bhumihar sach much apni takat bhul gaye hai?kya faidaa litrate hone ka jab dusre hum se behtar hai???
Mauli bhardwaj said…
Sirf bhumiharo ki baat nahi hai ye swaran virodhi party hai 1989 me vp singh ki sarkar ko bjp party ka bhi samarthan mila tha tab janta dal anti congress party ke roop me khari hui thi lekin uss election me bhi sabse jyada 197 seat congress ne hi jeeta tha magar samarthan na milne k wajah se sarkar na ban saki,uske baad vp singh ki sarkar ne 27 percent reservation mandal commission k tahat badha diya aur sc st act bana kar forward caste k future barbad ker diya hum aapko bata dena chahte hai k ambedkar ne sirf harijan ko yani sc st ko reservation dilwaya tha jo unke indian population k aadhar per 22 percent unhe diya gaya aur yah rule tha ki har 10 saal pe samiksha ho reservation kis harijan caste ko diya jaye kisko nahi magar desh me mandal commision laker desh me nai rajneeti forward aur backward ko janam de diya,1989 se pahle 100-22 78 percent seat unreserve tha uske baad 22 plus 27 49 aur 1 percent quota seat smp handicapped,visibility disable etc ko lekar reservation 50 percent ho gaya,
Mauli bhardwaj said…
itna hi nahi phir bjp ki sarkar atal bihari vajpai ke netritwa me bani to inhone phir se reservation badhaya? reservation in promotion for sc st aur iss se pahle promotion in govt job based on saniourity,experiance,merit basis. uske baad reservation to filling backlog vacancy by reserve candidate of sc st and obc only. backlog vacancy-the vacancy remaining unfilled or could not be filled due to any reason,for eg if there is 25 backlog vacancy then it filled by 12 sc 5 st then remaining 8 by obc,and giving permit relaxation of cut off marks for sc st and obc for filling backlog vacancies.lakin pahle backlog vacancy are filled by the basis of merit.
Mauli bhardwaj said…
Phir se janta ko hindutwa k naam per chuitya banakar 2014 me bjp ki sarkar bani narendra modi k netritwa me aur reservation ko phir se pahli baar business me badhane ka kaam kiya hai pahli baar petrol pump opening lisance dene me 27 percent backward aur dalit ko prathamika diya hai jo unconstitutional hai phir sc st act me supreme court k bahut dino tak case chalne k baad aaye faishla na mankar kar phir se sansad se purna rule lagu karne k wajah se aaj pure desh me bharat band din per din janta ka virodh hone laga hai,sc st act ka purana rule jail bina jaach sirf police complain per aur not bail jab tak case na khatam ho aur case larne k liye sc st ko sarkari madad itna hone k bad case jhutha hone per case karne wale ko koi sajaa ka rule nahi hai iss sc st act me aur supreme court k sirf unconstitutional rule k badlaab k niyam ko bhi vote bank ke najariye se dekha bjp sarkar ne aur supreme court ki baat na maan kar sanshad se purana sc st rule phir se lagu karne k paksh me hai ...
Mauli bhardwaj said…
Itna hi nahi jab jab reservation badha tab tab supreme court ne iss per decision diya lekin baad me sarkar ne parliament se kanoon banakar sarkar ke samne court jo sahi aur galat ka decision karta hai wah galat sabit hua hai chahe baat sc st act ki bhi kyo na ho virodhi sarkar congress chahkar bhi bjp sarkar ke commonalism ka virodh nahi kar sakti varna hindu vote bank pe asar parega aur reservation ka virodh nahi kar sakti kyoki 75 percent population hai reservo ki iss sab bat ko dekhna hoga warna ek din desh me civil war chalu ho jayaga
Mauli bhardwaj said…
aur ek baat to mai kahna hi bhul gaya reservation k baare me kya aap log ko maalum hai ki kyo reserve caste sc st obc ko age relaxation,relaxation in phyical strength and physical ability,giving more chance to applying vacancy,giving fee relaxation in applying form etc in the vacancy of police,para millitry,upsc and all other types of exam.iski suruaat 8 sept 2000 me ki gai us waqt desh me bjp ki sarkar atal bihari vajpai k nitritwa me thi lakin iss pe koi sawal nahi uttha kyoki isse pahle badhte reservation pe general caste aur supreme court sayad iska natija na nikalta dekh padeshaan hookar himmat har chuke thhe lakin yah sawal mere mann me aksar utthta hai ki police me kyo general caste ka hight,chest jyada chahiye reserve caste ka kam. race,jump aur physical ability me kyo bhedbhav kiya jaa raha hai aur to aur bpsc, upsc jaise exam me apply karne k chance me kyo hamare sath bhedbhav hota hai aur hamare sath exam dene k age aur chance me bhi bhedbhav kiya jaane wala rule bjp k sarkar me banna hai
Mauli bhardwaj said…
Desh me iss tarah se reservation badhakar aur hindu muslim commonalism ker apna vote bank bana rahi hai bjp aur virodhi sarkar chahkar bhi issper sawal nahi uttha sakti kyoki isse uske bhi votebank pe asar per sakta hai,aab hum janta ko samajhna hoga ki agar bjp ki sarkar na hoti to iss desh ki ye durgati nahi hoti hame is baat ko samajhna padega aur tub faisla lena padega
Mauli bhardwaj said…
Mandal commission ke aakrosh ko dabaane k liye bjp k lal krishna advani ne rath yatra nikali thi aur sc st act k aakrosh ko dabaane ke liye atal kalash yatra nikali gaye thi aur bjp apne iss khel me safal hue aur jatiwaad ka mudde ko badhaker dharamwaad ki surat de diya aur yahi se bjp apne aap ko hindutwa ki party kahne lagi

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…