Skip to main content

भूमिहार पार्टी कहीं पर्सनल प्रोपर्टी न बनकर रह जाए ?

भूमिहारों की अपनी पार्टी के संदर्भ में ‘भूमंत्र’ में जब से भूमिपुत्र ‘शैलेन्द्र’ का आलेख आया है तब से विमर्श का सिलसिला ही चल पड़ा है. ज्यादातर भूबंधू शंका-आशंका के बावजूद ‘भूमिहार पार्टी’ के गठन की जरुरत को मान रहे हैं. इस बारे में सभी एकमत है कि इससे भूमिहार समाज को फायदा होगा और कोई भी राजनीतिक दल हमें नज़रंदाज़ करने की हिम्मत नहीं करेगा. लेकिन भूमंत्र के कट्टर पाठक ‘अमित प्रिय रंजन’ इससे अलग राय रखते हैं. उनके विचार से ‘भूमिहार पार्टी’ बननी ही नहीं चाहिए.इस बारे में उन्होंने एक टिप्पणी की है जिसे पोस्ट की शक्ल में बिना किसी संपादन के हम यहाँ ज्यों-के-त्यों पेश कर रहे हैं. (परशुराम)
अमित प्रिय रंजन- 
अगर आप अपने देश के इतिहास के पन्ने पलट कर देखें तो जो वी जाती आधारित और क्षेत्रीय राजनीतिक पार्टियाँ बनी है सब के सब ने सुरुआत तो सामाजिक मद्दों के साथ किया लेकिन बहुत जल्दी ही अपनी नेताओं के बस एक पर्सनल प्राजेक्ट बन कर रह गए , उदाहरण के तौर पे SP, RJD, TMC, DMK, AIDMK, BJD, NCP, MNS, TDP, TRS, LJP, Congress, शिव सेना, अकाली, ये जितने भी पार्टियाँ बनी या फिर बनायी गयी वो सब के सब समय के साथ अपने नेता के सिर्फ़ पर्सनल प्रॉपर्टी बन के रह गये जिनका का ना तो कोई सिद्धांत होता है ना कोई आदर्श और इन पार्टियों के जो तथाकथित नेता होते है वो कुछ करोड़ रुपए ले कर अपने कुछेक MP और MLA का इस्तेमाल कर के सिर्फ़ सरकारें बनाने और गिराने का खेल खेलते हैं, और लीडेरशिप के लिए बस अपने नेता के ख़ानदान के अलावा किसी को आगे आने नहीं देते, इन सारी पार्टियों की सुरुआत तो अपने सामाजिक विकास के लिए हुआ लेकिन आगे जा कर क्या होता है उसके दर्जनों उदाहरण हमारे सामने है, अगर विकास होता वी है तो समाज का नहीं बल्कि सिर्फ़ और सिर्फ़ पार्टी के नेता का, उनके रिस्तेदारो, उनके पूरे ख़ानदान का, आम जनता और कार्यकर्ता बस उनके कैड़र वोट बैंक और सेवक बन के रह जाती है.........क्या होगा अगर भूमिहारो की वी एक राजनीतिक पार्टी बन जायेंगी तो, शायद कुछ MLA वी जीत जाएँगे, और आश्चर्य नहीं होगा जब हमारे पार्टी सुप्रीमो चंद रूपयों के ख़ातिर लालू जैसो के चरणों में माथा टेक कर हमारे वोटों की दलाली कर लालू जैसे दूरदाँत राक्षसों के सेवा में लग जाये,,,, क्योंकि आज तक सभी छोटी सामाजिक राजनीतिक पार्टियों का यही हश्र हुआ है, और एक आम भूमिहार पार्टी सुप्रीमो के ख़ानदान का सेवक बन कर रह जाएगा भले वो अनपढ़ गँवार या फिर नौंवी फ़ेल ही क्यों ना हो, और आज हम भूमिहारो जो अपना स्वाभिमान और आत्मसम्मान है वो भी गवाँ देंगे!! यही एक कड़वी सचाई है हमारे देश की छोटी सामाजिक और राजनीतिक पार्टियों की, जिनका ना तो कोई सिद्धांत होता है और ना ही कोई विचारधारा........इसलिए मैं अपने भूमिहार भाईयों को आगाह करता हु ऐसे किसी भी बहरूपिये से जो आज शायद आपके मन में अपनी पार्टी का लालच दिखा कर जातिवाद का ज़हर भर कर हमें मानसिक और मोरल ग़ुलामी की तरफ़ ले जाएगा और कल को हमारा सुप्रीमो बन कर हमें ही शोषित करेगा.......प्रणाम 🙏🏻

Community Journalism With Courage

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.