Skip to main content

ऑपरेशन भूमिहार वाले अभिसार शर्मा आँखें खोलकर सीएम योगी के सचिव को देखो,उसी जहानाबाद से आया है !

abhiar sharma abp

घोषी को बदनाम करने वाले अभिसार शर्मा आँखें खोलकर सीएम योगी के सचिव को देखो

'ऑपरेशन भूमिहार' तो याद होगा आपको. एक राजनीतिक पार्टी के इशारे पर एबीपी न्यूज़ ने भूमिहार ब्राहमण समाज को बदनाम करने के लिए ठीक बिहार विधानसभा चुनाव के वक़्त जहानाबाद के घोषी क्षेत्र से एक पक्षपातपूर्ण रिपोर्ट पेश की थी जिसका नाम रखा था 'ऑपरेशन भूमिहार'. 

हालाँकि उस रिपोर्ट के अंत तक ये पता नहीं चला कि भूमिहार का ऑपरेशन कैसे हुआ? क्या एक क्षेत्र के विधायक के खिलाफ एंटी स्टोरी 'ऑपरेशन भूमिहार' है? एक पल के लिए मान लेते हैं कि रिपोर्ट सही थी तो क्या उस बुनियाद पर आप पूरे भूमिहार ब्राहमण समाज को कटघरे में खड़ा करेंगे और कार्यक्रम का नाम ही 'ऑपरेशन भूमिहार' रखेंगे? 

दरअसल ये चैनल की कुत्सित मानसिकता और पीत पत्रकारिता की बानगी थी कि कैसे चंद रुपयों के लालच में एबीपी जैसे चैनल टके-टके के भाव बिकते हैं.बहरहाल इसपर भूमंत्र पर पहले भी चर्चा हुई और इस रिपोर्ट के रिपोर्टर 'अभिसार शर्मा' की जमकर खिंचाई की गयी थी जिसके बाद वे भूमंत्र को ट्विटर पर ब्लॉक करके भाग गए थे. 

बहरहाल इस पोस्ट का मकसद 'ऑपरेशन भूमिहार' वाले रिपोर्टर 'अभिसार शर्मा' को जहानाबाद के उसी घोषी विधानसभा क्षेत्र और वहां के भूमिहार ब्राह्मणों की याद दिलाना है. अभिसार शर्मा को कहना है कि आँखे खोलकर यूपी में देखो, जिस क्षेत्र के भूमिहारों को तुमने बदनाम किया, वो देश में कितना नाम कमा रहा है. तुम और तुम्हारे चैनल की सारी कोशिशें बेकार गयी. उसी घोषी का एक भूमिपुत्र आज देश के सबसे बड़े राज्य उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री का सचिव बन बैठा है. 

आज जिस मृत्यंजय कुमार नारायण की प्रोफाइल खोलकर आप चैनल वाले बैठे हैं वो उसी घोषी विधानसभा क्षेत्र के भूमिहार ब्राहमण है. अभिसार शर्मा इसे कहते हैं 'ऑपरेशन भूमिहार', लेकिन इस ऑपरेशन में भूमिहार ऑपरेशन करता है, न कि भूमिहार का ऑपरेशन होता है. आँखे खोलो और भूमिहारों की हिम्मत और ताकत देखो. घोषी का भू-पताका उत्तरप्रदेश के किले पर लहरा रहा है. 

 यह भी पढ़ें -

उनके लिए जो नहीं जानते 'ऑपरेशन भूमिहार' की कहानी 
‘अभिसार शर्मा’ की ‘पीत पत्रकारिता’ के नाम ‘रणवीर’ का खुला खत। 
पार्टी दफ्तर में लिखी गयी थी 'ऑपरेशन भूमिहार' की पटकथा
 सामाजिक समरसता के लिए ज़हर है एबीपी जैसे चैनल
आईआरएस अफसर ने किया अभिसार शर्मा को एक्सपोज, NDTV मनी लांड्रिंग 
 ऑपरेशन भूमिहार वाले अभिसार का चूहे-बिल्ली का खेल तो देखिए #OperationAbhisar 
 विनोद राय ने दिया एंकर अभिसार शर्मा को ब्रेकिंग न्यूज़ झटका  
#ऑपरेशन_अभिसार_शर्मा से सुलग गए भाई, ब्लॉक करके नौ दो ग्यारह !
 भूमिहारों की हिम्मत देखना चाहते हैं अभिसार शर्मा,पगले को उदय शंकर नहीं दिखता?

Community Journalism With Courage

ज़मीन से ज़मीन की बात 

भूमंत्र

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…