Skip to main content

शहीद भूमिपुत्र अभय की तरफ से पूछे गए पांच सवालों का जवाब दे पाओगे लाल सलाम !

द-लाल सलाम वालों तुमसे नहीं होगा.... 

abhay sukma

सी.पी.सिंह- 

नाम: अभय कुमार चौधरी। अभय जब दो साल के थे, तो किसी ने इनके पिता की हत्या कर दी थी। चाचा हरिद्वार चौधरी ने इनका लालन-पालन किया। आर्थिक रूप से बेहद कमजोर परिवार होने के कारण अभय की पढ़ाई बोकारो स्टील प्रबंधन की ओर से संचालित स्कूल में हुआ। पढ़ाई के दौरान ही अभय ने पीसीओ बूथ पर काम करने लगा। 2009 तक यही बूथ घर चलाने का जरिया बना। पुश्तैनी जायदाद के नाम पर अभय को सिर्फ उपनाम चौधरी मिला। किराए की झोपड़ी अभय का आशियाना था। बावजूद इसके अभय ने हार नहीं मानी। 

2010 में अभय को सरकारी नौकरी लगी। घर की स्थिति जरा सुधरने लगी। मार्च 2016 में अभय की शादी हुई। इस साल अभय शादी की सालगिरह मनाने छुट्टी लेकर घर आया। 01 अप्रैल को छुट्टी काटकर वापस ड्यूटी ज्वॉइन किया। जाते वक्त अपनी माँ से वादा किया था, जल्द ही घर आउंगा। ओह, मैं तो बताना ही भूल गया अभय की मां प्राइवेट अस्पताल में नर्स है। यही दो हजार से थोड़ा मोड़ा ज्यादा पैसा मिलता है। 

लेकिन आप सोंच रहे होंगे कि आज अभय का जिक्र क्यों? आखिर अभय के साथ मेरा क्या संबंध है?? अभय अब दुनिया में नहीं रहा। वैचारिक लड़ाई का दावा करने वाले दलाल सलाम के नरभक्षी से देश को बचाने की कोशिश में अभय शहीद हो गया। हां, कथित वैचारिक सिद्धांत के आतंकवादियों ने अभय की हत्या कर दी। 24 अप्रैल को छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुई नक्सली आतंकवादी हमला में अभय शहीद हुआ। वामपंथी विचार के दलालों की माने तो नक्सली समस्या के लिए विकास की असमानता जिम्मेदार है। गरीबी जिम्मेदार है। जोर-जुल्म जिम्मेदार है। सरकारी नीतियां जिम्मेदार है। कथित रूप से नक्सली न्याय दिलाने की लड़ाई लड़ रहे हैं। कुछ सवाल वामपंथी विचारकों से। 
abhay sukma
अभय कुमार
 1. अगर विकास की असमानता जिम्मेदार है, तो विकास कार्य को रोका क्यों जाता है?? सुकमा में हमला भी सड़क निर्माण को रोकने के लिए ही किया गया। 

2. अगर गरीबी जिम्मेदार है, तो सीआरपीएफ समेत सेना व अर्द्धसेना में भी तो गरीब घर के युवा ही शामिल होते हैं। जैसा कि अभय। ऐसे में नक्सली किस गरीबी की बात करते हैं?? 

3. जोर-जुल्म जिम्मेदार है, तो अभय के पिता की हत्या कर दी गई थी। वह नक्सली क्यों नहीं बना??? 

4. सरकारी नीतियां जिम्मेदार है, तो आप अपनी नीति के साथ सामने क्यों नहीं आते? आप विकल्प क्यों नहीं बताते? यही वामपंथी राजनीतिक पार्टी की तरह ही पूंजीकरण से विरोध है, तो सिंगूर में नक्सलियों ने बंगाल की सरकार का समर्थन क्यों किया था??? 

5. अगर न्याय दिलाने के लिए हमला जायज है, तो शहीद जवान को न्याय कैसे मिले? क्या वामपंथी आतंकवादी न्याय दिलाने आगे आयेंगे??? 

जानता हूँ, इन सवालों का जवाब नहीं मिलने वाला। लेकिन, इस पोस्ट को पढ़ने के बाद एक काम जरूर करना। अभय के घर जाना उसकी माँ से बताना: आखिर कैसे दलाल सलाम वालों ने तेरी गोद उजाड़ दी! यह भी बताना कि तुम्हारे बेटे को मारने के बाद कितने गरीब लोगों को समाजिक न्याय मिला! अगर यह झूठ नहीं बोल सकते तो यह जरूर बताना कि दलाल सलाम वाले विचार की लड़ाई नहीं, बल्कि उगाही का धंधा करने के लिए ऐसा काम करते हैं। (स्रोत – फेसबुक)

Community Journalism With Courage

ज़मीन से ज़मीन की बात 

भूमंत्र

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…