Skip to main content

रणवीर की चिठ्ठी पर लालू फैन गर्माते क्यों हैं,नरसंहार मैंने नहीं शुरू किया था



संदर्भ - लालू यादव के नाम 'रणवीर' का खुला पत्र! 

आज भू-मंत्र डॉट कॉम पर लालू यादव के नाम रणवीर की खुली चिठ्ठी प्रकाशित हुई. भू-मंत्र के पाठक जानते ही हैं कि रणवीर समय-समय पर देश- समाज के लोगों को चिठ्ठी लिखते रहता है.पूर्व में पीएम मोदी,चचा गिरिराज और हाफ़िज़ सईद को खत के जरिए उसने अपना पैगाम पहुँचाया था.उसी कड़ी में लालू यादव को भी रणवीर ने चिठ्ठी लिखी और क्यों न लिखे दोनों का संबंध भी बहुत पुराना है.बहरहाल इस चिठ्ठी पर विरोधियों को मिर्ची लगना स्वाभाविक ही थी. सो लगा. उसके बाद कई अभद्र टिप्पणियाँ आयी और उलटे-सीधे कुतर्क वाले कमेंट भी किये गए जिसका जवाब देना भी रणवीर ने सही नहीं समझा.लेकिन इसी कड़ी में 'चंदन कुमार' नाम के एक लालू फैन का कमेंट पढकर रहा न गया तो उसे रणवीर की तरफ से जवाब दिया गया. आप भी पढ़िए और विरोधियों की समझ का अंदाज़ा लगाइए. ये भी जानिए कि अंदरखाने में ये भूमिहारों के लिए अपने अनुयायियों में किस तरह का बिन सिर-पैर का जहर भरते हैं. इस आपत्तिजनक कमेंट को सिर्फ इसलिए पोस्ट किया जा रहा है ताकि आप बीमार और अज्ञानी लोगों की मनस्थिति का अंदाज़ा लगा सके. फिर ये बात सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सार्वजनिक रूप से कही गयी है तो उसका जवाब ही सार्वजनिक तौर पर जाना चाहिए. पहले चंदन कुमार नाम के लालू फैन का भू-मंत्र के पोस्ट पर कमेंट पढ़िए:-

चंदन कुमार,लालू समर्थक : बिहार 3% भूमिहार चाहता हैं कि वो राज करे ,, जिसे दोस्त बनाता हैं उसी के पीठ में छुरा भोक देना इसका आदत रहा हैं.. होगा क्यों नही अकबर +जोधाबाई ( हिन्दू+मुस्लिम,) का वंसज जो ठहरे.. कुर्मी यादव इसके निशाने पर रहे ..दलित को भी निर्मम हत्या की.. ये तो लालू जी मेहरबानी ही हैं वरना 3% भमिहर को खत्म करने में उन्हें 3 घण्टे नही लगते.. सब जगह गरीब की जमीन घर कब्जा कर लेना इनका पेसा रहा हैं.. कोई सामान्य परिवार bhu को घर किराये पे नही देना चाहता की हड़प लेगा.. वो bhu रहम की उम्मीद करता हैं .. नवादा जहानाबाद शेखपुरा वारिसलीगंज बेगूसराय पटना नवगछिया मोकामा मुजफ्फरपुर वैशाली इन सब जगहों पर इन्होंने बरसो उत्पात मचाया जो किसी से छुपा नही.. 90 के बाद जब इनको दलित कुर्मी यादव से टकराना पड़ा तब इनका होस उड़ गया.. अब रहम की उम्मीद या मेल मिलाप का उम्मीद करते हैं.. लालू जी गठबंधन में हैं या यू कहे नितीश जी दयालु कुछ ज्यादा हैं वरना भूमिहार का सफाया तय था. 

चंदन कुमार पर रणवीर की तरफ से भू-मंत्र का जवाब : 




@chandan Kumar एक तो आपकी जानकारी गलत है. थोड़ा इतिहास खंगालिये. भूमिहार ब्राह्मणों का इतिहास उतना ही पुराना है जितना पुराना खुद इतिहास है.सरल शब्दों में भूमिहार जाति के इष्टदेव 'भगवान परशुराम' हैं. इसलिए आपका अकबर+ जोधाभाई का फंडा बेकार है. ये फंडा राजपूतों पर आजमाईयेगा तो कुछ तर्क का आधार भी बनेगा. दूसरी बात कि बिहार में भूमिहार जाति कुल जनसँख्या का 7% है न कि 3%. दूसरी बात कि कुर्मियों के साथ भूमिहारों की वैसी कोई दुश्मनी नहीं रही. नीतिश कुमार को भूमिहारों का पूरा समर्थन हाल-हाल तक मिला और अब भी हासिल है.अभी लोग इसलिए दूर हैं कि क्योंकि वे घूर विरोधी लालू यादव के साथ खड़े हैं.इसमें भी एक राज है जो बहुत जल्द पता चलेगा और चाणक्य की बुद्धि का अंदाज़ा दुनिया को होगा.रही बात नरसंहारों की तो इसकी शुरुआत भू-समाज ने नहीं की. नरसंहारों का इतिहास पढेंगे तो बिहार में पहला दलितों का नरसंहार बेलछा गाँव में कुर्मियों ने किया था.तब ग्यारह हरिजनों को गोलियों से भुनकर आग में झोंक दिया गया. कांग्रेस की नेता इंदिरा गांधी तब हाथी पर सवार होकर इस गाँव में आयी थी और सत्ता में उनकी वापसी हुई. हालांकि बेलछी गाँव की हालत में कोई सुधार नहीं हुए.वो सिर्फ राजनीति करने का अखाड़ा बनकर रह गया. वहां से बिहार में नरसंहारों का सिलसिला शुरू हुआ जिसमें कई बेगुनाह भी मारे गए.लेकिन इसका पूरा भार 'रणवीर सेना' पर डाल दिया गया. ये संगठन यादवों और दलितों के खिलाफ नहीं बल्कि फसल की लूटपाट करने वाले नक्सलियों के खिलाफ थी.लालू यादव ने इसपर खूब रोटी सेकी और दलितों-मुस्लिम और यादव वोटों का ध्रुवीकरण किया. लालू यादव ने भूमिहारों को मिट्टी में मिलाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी. इसलिए लालू की दयालुता का बखान तो आप मत ही कीजिये. खत्म करना उसके क्या किसी के बस में नहीं है. रहम की उम्मीद कमजोर करते हैं. यहाँ तो मामला ही उल्टा है. मोदी को हराने के लिए जैसे सारा विपक्ष लगा हुआ है , ठीक वैसे ही भूमिहार को हराने के कई जातियां साथ आयी. फिर भी वजूद नहीं मिटा पाए और न मिटा पायेंगे. बहरहाल अपने कहे शब्दों पर दुबारा विचार कीजिये और बंद मानसिकता और रटे - रटाए शब्दों से तौबा कीजिये. कुतर्क और गलत इतिहास बताकर आप सत्य को नकार नहीं सकते. फिर गुंडे-बदमाश,उत्पाती और कुकर्मी किस जाति में नहीं होते. उसके आधार पर आप पूरे जाति का आंकलन नहीं कर सकते.श्रीकृष्ण ने तो ऐसे ही लोगों से त्रस्त होकर पूरे यदुकुल को ही विनाश की तरफ धकेल दिया था.यदुकुल फिर मदिरापान किये हुए मदमस्त हाथी की तरह हो गया है.संभला नहीं तो फिर कोई श्रीकृष्ण ही विनाश का कारण बनेंगे जिसे लाने वाला कोई चाणक्य ही होगा.धीरज रखिये, पता चलेगा कि कौन किसके रहमो-करम पर है.

ज़मीन से ज़मीन की बात 

www.bhumantra.com

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …