Skip to main content

ऑपरेशन भूमिहार वाले अभिसार का चूहे-बिल्ली का खेल तो देखिए #OperationAbhisar




चूहे अक्सर अपने बिल में ही रहते हैं. बिल में रहते हुए ही चूँ-चां करते रहते हैं. मौका देखकर एकांत में निकलते हैं, खाना का टुकड़ा लेते हैं और फिर बिल में कूदकर वापस आ जाते हैं. एबीपी न्यूज़ के एंकर अभिसार का कुछ ऐसा ही हाल है. भूमिहार मंत्र से ट्विटर पर मुठभेड़ के बाद अभिसार अपने बिल में कुछ इस कदर घुसे कि निकलने का नाम तक नहीं ले रहे. तीन दिनों से कोई ट्वीट भी नहीं किया. पहले भूमिहार मंत्र से सवाल किया और जवाब सुने बिना ब्लाक करके फरार हो गए. फिर दूसरे दिनभर भू-समाज के दर्जनों आईडी को ब्लॉक करने में जनाब व्यस्त रहे. सुना है कि वीकेंड खराब होने का राग अलाप रहे हैं. लेकिन लोगों की आईडी ब्लाक करने के अलावा अभिसार आजकल गजब चूहे-बिल्ली का खेल खेल रहे हैं. 

अभिसार ट्विटर के अंदर आकर मैसेज करते हैं और मैसेज करने के बाद ब्लॉक करके फिर बिल में घुस जाते हैं. अजीब कायरता है. ख़ैर आदत पुरानी है. चोरी-छिपे आना और फिर चले जाना, फिर बहादुरी की डींग हांकना. अभिसार ने कल वरुण सिंह के साथ भी ऐसा ही किया, उन्होंने कुछ सवाल किया तो बिल के अंदर से ही अभिसार ने चूँ-चां किया और फिर नौ-दो ग्यारह. सोशल मीडिया पर वरुण इसकी जानकारी देते हुए लिखते हैं -

 #operationAbhisar मेरे ट्वीट का जबाब #अभिसार ने नीचे के शब्दों में दिया है। वो भी चुपके से इनबॉक्स में। उसके बाद मुझे ब्लॉक कर दिया है। जैसे चूहे बिल से निकल कर बोलते हैं ठीक वैसे ही। 
Cochroach. Abhi bhi takleef.hahahah 

आप भाइयों के मदद से उसको बोलना है हम कोकोरॉच को कम न समझे धीरे धीरे ही सही लेकिन उसको उसकी औकात जरूर दिखा देंगे।

वरूण ने ट्वीट किया - 
 Varun Singh ‏@varundip 24h24 hours ago @abhisar_sharma @BhumiharMantra 
#operationAbhisar why you sending one to one massege. Come on open field.या Rat k बिल में रहने की आदत है 

बहरहाल अभिसार के स्टाइल में ही ट्विटर पर PrestituteAbhisar ‏@AbhisarDalal नाम के एक हैंडल ने अभिसार को जाकर लिखा - 

@abhisar_sharmaडियर प्रेस्टीटयूट अभिसार, पहचान तो गए ही होगे. चूहे-बिल्ली के खेल में बहुत मजा आ रहा है ना. हमें भी आ रहा है. जवाब सुनने की हिम्मत नहीं तो सवाल करने की गुस्ताखी क्यों करते हो? बिल से निकलते हो और फिर घुस जाते हो. तुम जो खेल खेलना चाहते हो, वो खेल खेलकर हमलोग छोड़ चुके. तुम्हारे पास ही हैं. बहुत पास. पहचान सको तो पहचान लो. शर्म नहीं आती बीवी से चैनल का काम करवाते हो, और खुद दलाली खाते हो. ऑपरेशन तो अब तुम्हारा होगा आजीवन. 

पत्रकारिता छोडो, फूल टाइम दलाली करो. उसमें तुम्हारा भविष्य उज्जवल है. प्रेस्टीटयूट अभिसार. चलो बिल में घुसो भो... अबकी प्रेस्टीटयूट अभिसार को प्रेस्टीटयूट अभिसार का आईडी ब्लॉक करेगा. ये लो शर्मा ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ब्लॉक ... प्रेस्टीटयूट अभिसार. प्रेस्टीटयूट अभिसार. प्रेस्टीटयूट अभिसार. प्रेस्टीटयूट अभिसार.

ज़मीन से ज़मीन की बात 

 www.bhumantra.com

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्जातीय विवाह की त्रासदी सुहैब इलियासी-अंजू मर्डर केस, सच्चाई जानेंगे तो चौंक जायेंगे

पत्नी अंजू की हत्या के मामले में सुहैब इलियासी दोषी,मिली उम्रकैद की सजा  खुलेपन के नाम पर अंतर्जातीय विवाह आम बात है. भूमिहार समाज भी इससे अछूता नहीं. लड़के और लड़कियां आधुनिकीकरण के नाम पर धर्म और जाति की दीवार को गिराकर अंतर्जातीय विवाह कर रहे हैं. लेकिन नासमझी और हड़बड़ी में की गयी ऐसी शादियों का हश्र कई बार बहुत भयानक होता है. उसी की बानगी पेश करता है अंजू मर्डर केस जिसमें 17साल के बाद कोर्ट का फैसला आया है और अंजू के पति सुहैब इलियासी को उम्र कैद की सजा का हुक्म कोर्ट ने दिया है. गौरतलब है कि अंजू इलियासी कभी अंजू सिंह हुआ करती थी और एक प्रतिष्ठित भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती थी.
सुहैब इलियासी और अंजू की कहानी - अंजू की मां रुकमा सिंह के मुताबिक़ सुहैब और अंजू की पहली मुलाकात 1989 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई थी. धीरे-धीरे दोनों अच्छे दोस्त बन गए और बात शादी तक जा पहुंची. अंजू के पिता डॉ. केपी सिंह को जब इस रिश्ते का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया. लेकिन इसके बावजूद अंजू और सुहैब ने 1993 में लंदन जाकर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी कर ली. इसके बाद अं…

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…