Skip to main content

माफ़ कीजियेगा मगर लालू-नीतीश 25 सालों से बिहारियों को चू... ही बना रहे हैं



बिहार में सोशल जस्टिस की टेस्टिंग पिछले 25 साल से चल रही है. पहले लालू यादव ने टेस्टिंग की, फिर उनसे अलग होकर नीतिश कुमार ने की. व्यक्तिगत रूप से दोनों के टेस्ट सफल रहे. लेकिन उससे भी जब गरीब-गुरबों का भला न हुआ तो सोंचा गया कि एक बार मिलकर ज्वाईंट टेस्टिंग की जाए और इस तरह वर्तमान दौर आया. इस बार इस टेस्टिंग का जलवा भागलपुर की भूमिहीन महिलाओं पर टूटा. ज़मीन से ज़मीन की बात करने पर उन्हें बेतरह ज़मीन पर पटक-पटक कर धोया गया और इस तरह 25 साल से चल रहा गरीबों के उद्धार का प्रयोग अंततः परवान चढ़ा. तो जिस सोशल इंजीनियरिंग के नारों को चुनाव में भुनाकर लालू-नीतिश-पासवान सरीखे नेता सत्ता से चिपके रहे,उस सोशल इंजीनियरिंग की सफलता की कहानी खुद इन्हीं लोगों ने दिखा दी.गौरतलब ये है कि सोशल इंजीनियरिंग के चक्कर में इन्होने पिछले 25 सालों से बिहारियों को माफ कीजियेगा चू... बनाया. पूरी तरह से जाति के जंजाल में फंसाकर विकास की हवा पंक्चर कर दी और फिर भी मसीहा का दर्जा पाते रहे.बहरहाल भागलपुर की उन तस्वीरों के साथ हम सोशल मीडिया पर आयी एक टिप्पणी के साथ आपको छोड़े जाते हैं.'शशि शेखर' की ये टिप्पणी सोशल जस्टिस से सोशल इंजीनियरिंग के खेल को अच्छी तरह से बेनकाब करती है. (परशुराम)

 -शशि शेखर- 
 सोशल जस्टिस से सोशल इंजीनियरिंग तक पहुंचते–पहुंचते भागलपुर आ जाता है... 15 साल उस लालू यादव के, जिसकी आलोचना करना भी अपना समय बर्बाद करने जैसा है. 10 साल नीतीशे कुमार. हमारी पीढी ने इसी बिहार को देखा है और देख रहा है. 25 साल, हमारी पीढी की उम्र का आधा से अधिक समय.भागलपुर मेँ लोक के पीठ पर तंत्र का जो डंडा पडा है, वो न पहला है, न आखिरी. ये उनकी नियति है कि वे बिहार मेँ रह कर लाठी खाते है. हमारी नियति है कि हम अपने जड से कट कर हर रोज एक एक पत्ता सूखने को विवश है. मेरे जैसे भूरेबाल और उन जैसे दलितोँ के बीच का शायद यही एक फर्क है. फिर, सवाल है कि हमने नीतीश का समर्थन क्योँ किया? भाजपा का विरोध क्योँ किया? हमने लालू को क्योँ चुना? क्या सिर्फ इसलिए कि भाजपा को हराना था? या, इसलिए कि नीतीश कुमार के रूप मेँ आशा की एक किरण दिखी थी? तो क्या हुआ उम्मीद की उस किरण का? क्योँ नीतीश कुमार शराबबन्दी के झुनझुने से आगे नहीँ बढ पा रहे है?क्योँ सोशल जस्टिस के स्वघोषित चैंपियन लालू यादव और सोशल इंजीनियरिंग के नाम पर जातियोँ के उपवर्ग (जैसे महादलित) बनाने वाले नीतीश कुमार की सरकार मेँ दलितोँ पर लाठी चलती है? क्योँ 25 साल के सामाजिक न्याय के तथाकथित संघर्ष के बाद भी दलितोँ को 4 डिसमिल जमीन के लिए अनशन करना पडता है?

दलित उद्यमिता, दलितोँ का आर्थिक सशक्तिकरण जैसे सवाल पूछना तो इसलिए भी गुनाह है क्योंकि मेरे जैसे भूरेबाल ने भी कभी ये सवाल करना न सीखा, न पूछने की हिम्मत की. 15 साल तक मुसहरोँ के बच्चोँ के बाल कटवा कर, चरवाहा विद्यालय खोल कर लालू यादव ने बिहारियोँ को उनकी औकात मेँ रखा तो नीतीश कुमार ने ठेके पर नौकरी देने के गुजराती माडल से हम बिहारियोँ को फुसलाते रहे. ये अलग बात है कि जब कभी भी आशाकर्मी, प्राथमिक शिक्षक अपना वेतन बढाने के लिए पटना मेँ धरना देने जाते थे तो उन पर जबरदस्त लाठी चार्ज होता था. जाहिर है, उसमेँ भूरेबाल भी रहे होंगे और दलित भी, पिछडे भी. तो, कोई हर्ज नहीँ है मूर्ख बनने मेँ. हम 25 साल से मूर्ख बन कर भी खुश है. आगे भी रहेंगे. श्रीमान नीतीश कुमार आप शराबबन्दी के बहाने गान्धी बनने का सपना देखिए और श्रीमान लालू यादव आप तो बस अपने दो लायक बेटोँ को स्थापित करने मेँ अपनी उर्जा लगाईए. लेकिन, एक बात याद रखिएगा. वैसे आप बहुत वरिष्ट लोग है, याद ही होगा. कांग्रेस का सीडो सेकुलरिज्म जब भागलपुर पहुंचा था तब इसी भागलपुर ने कांग्रेस को बिहार से उखाड फेंका था. इस बार आपका सोशल जस्टिस और सोशल इंजीनियरिंग भागलपुर पहुंच गया है...

ज़मीन से ज़मीन की बात - भू-मंत्र

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …