Skip to main content

गिरिराज सिंह ने केजरीवाल से पूछा,राहुल गांधी को किराए पर दिया है क्या?

गिरिराज सिंह ने एक तीर से किये दो शिकार:



केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह ट्विटर पर काफी सक्रिय रहते हैं.अक्सर भाजपा विरोधियों,विपक्ष और मुसलमानों पर हल्ला बोल करते रहते हैं.अभी हाल ही में उन्होंने असदुद्दीन ओवैसी को निशाना बनाया था.इसी कड़ी में उन्होंने अब निशाने पर अरविंद केजरीवाल और राहुल गांधी को लेते हुए ट्वीट किया है.खास बात ये है कि उन्होंने एक ही ट्वीट से दो शिकार किये हैं.यानी एक ही ट्वीट के जरिए उन्होंने राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल पर व्यंग्य किया है. 

दरअसल अरविंद केजरीवाल ने आशीष खेतान का एक ट्वीट रीट्वीट करते हुए लिखा कि राहुल गांधी के पास यदि पीएम मोदी के खिलाफ सबूत है तो वे संसद के बाहर क्यों नहीं एक्सपोज करते? 

-If Rahul Gandhi actually has papers on Modi ji's personal involvement in corruption, then why doesn't he expose it outside Parl?

इसी को केजरीवाल ने ट्वीट किया और फिर केजरीवाल को गिरिराज सिंह ने ट्वीट करते हुए केजरीवाल को लिखा कि,मैंने सुना है कि आपने 370 पेज वाली प्रूफ वाली बुक राहुल गांधी को किराए पर दी है.

-I have heard that you have rented out that "370  page proof "  book to Rahul Gandhi

इस तरह उन्होंने एक तीर से दो शिकार किये हैं.अरविंद केजरीवाल और राहुल गांधी को तो लपेटा ही, साथ ही राहुल गांधी के मोदी के खिलाफ वाले सबूत का भी माखौल उड़ा दिया.गौरतलब है कि राहुल गांधी ये लगातार कह रहे हैं कि उनके पास पीएम मोदी के व्यक्तिगत भ्रष्टाचार का सबूत मौजूद है लेकिन उन्हें भाजपा संसद में बोलने नहीं दे रही.

ज़मीन से ज़मीन की बात 
 www.bhumantra.com

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …