Skip to main content

पथरा इंग्लिश आग का दरिया है,राजनीति करोगे तो जल जाओगे




पथरा इंग्लिश (बिहार) गाँव में जब इसी साल सत्ता की सरपरस्ती में गुंडों ने कोहराम मचाया तो उसकी आवाज़ दिल्ली तक गूंजी.लेकिन ये आवाज़ सत्ता के गलियारों से नहीं उठी थी बल्कि वास्तविक भू-समाज की आवाज़ थी.प्रगतिशील प्रतिबद्ध लोगों की कोशिश का ही परिणाम था कि मेनस्ट्रीम मीडिया के नज़रअंदाज़ करने के बावजूद इंग्लिश पथरा ट्विटर के टॉप ट्रेंड में शामिल हुआ.ज़ी न्यूज़ ने प्राइम टाइम में खबर को प्रमुखता से चलाया और आवाज़ दूर तक गूंजी.दिल्ली के जंतर-मंतर पर जोरदार प्रदर्शन हुआ.ये बात अलग है कि यहाँ भी कई संगठन अपना बैनर चमकाते दिखे.ख़ैर इसी संदर्भ में दिल्ली में कई संगठनों की मीटिंग हुई और इंग्लिश पथरा को लेकर आम राय बनी कि-  

इंग्लिश पथरा के पीड़ित परिवार को वोट देने से रोकना और वोट देने के पश्चात उनसे मार पीट करना संवैधानिक अधिकार का हनन है और इसका विरोध बड़े पैमाना पर किया जाना चाहिए.बिहार सरकार खासकर राजद के कार्यकर्ता भू-समाज को निशाना बना रही है और इसका प्रतिकार जरूरी है.इसके कार्यान्वयन के लिए आम सहमति बनी कि सबसे पहले पीड़ित परिवार से मिलने एक प्रतिनिधि मंडल को इंग्लिश पथरा भेजा जाये, ताकि वास्तविक हालात का जायजा लेकर पीड़ित परिवार की चिकित्सीय, आर्थिक एवं सामाजिक सुरक्षा को सुनिश्चित किया जा सके.RTI दाखिल कर FIR की कॉपी हासिल करना और इस संबंध में प्रकाशित ख़बरों की फायलिंग कर और वीडियो संग्रहित कर इलेक्शन कमीशन,महिला आयोग,ह्यूमन राईट कमीशन, होम मिनिस्ट्री,राज्य पुलिस निदेशक,प्रधानमंत्री कार्यालय और मीडिया तक पहुँचाया जाना चाहिए और अपनी तरफ से सोशल मीडिया पर भी कैम्पेन चलाया जाना चाहिए.इसके अलावा कानूनी सहायता के लिए एक लीगल सेल का भी गठन किया जाए.

हालाँकि इन सारी बातों पर शत-प्रतिशत तो अमल नहीं हुआ लेकिन दूरदाराज के समाज के एक गाँव के बारे में राजधानी में गैर राजनीतिक लोगों द्वारा इतनी चिंता किया जाना कहीं न कहीं सुकून तो देता ही है.दूसरी तरफ ये इस बात की भी गवाही देता है कि इंग्लिश पथरा को लेकर भू-समाज कितना क्रुद्ध है और इसपर होने वाली किसी राजनीति को बर्दाश्त नहीं करेगा.लेकिन बावजूद इसके कल पटना में जो नज़ारा पेश हुआ वो बेहद अफसोसजनक है.अखिल भारतीय भूमिहार ब्राह्मण महासंघ जिस तरह से मांझी की पार्टी 'हम' के बैनर तले इंग्लिश पथरा को राजनीति की गोद में बैठा आए,वो राजनीतिक महत्वकांक्षा की परकाष्ठा है.आप शौक से राजनीति कीजिए.मांझी की गोदी में बैठिये और बैठाइये.भू-समाज को कोई आपत्ति नहीं.लेकिन पक्ष-विपक्ष ,जातीय-विजातीय,सामजिक-असामाजिक बस इतना याद रखियेगा कि, :इंग्लिश पथरा आग का दरिया है,राजनीति करोगे तो जल जाओगे."

ज़मीन से ज़मीन की बात - भू-मंत्र

Comments

bantoo singh said…
jb jb bhumiharo pe anyay hoga tb tb brhmeshwar paida lega.av v smbhal jao kyuki hmlogo ki fitrat main nhi h gussa karna..

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …