Skip to main content

अभिसार चैलेंज कर रहा है, बात-बात पर जय भूमिहार का जयकारा लगाने वाले कहाँ गए?


भूमिहार का पतन क्यों और कैसे ? - बाबू अंबुज शर्मा

बाबू अंबुज शर्मा
भारत की सबसे volatile प्रजाति गर कोई है तो वो हैं भूमिहार। पूँजीवाद समाजवाद मरकसियावाद ससुरा जो नया दिखा बिना जाँच पडताल के उसमें अपना चोंच घुसायेंगे ,खून पसीना बहायेंगे चाहे वो वाद इनकी ही बैण्ड बजाने वाला क्यों न हो और जब उस वाद रूपी पौधे को सींच कर ये बडा कर देंगे और फल लेने का समय आयेगा तो इन्हें मिलता है बाबा जी का ढुल्लू । 

शुरू से यही होता आया है किन्तु हम कहाँ चेतने वाले है ससुरा जीन जो सामाजिक है। अरे भैया हमारे पुरखे सामाजिक राष्ट्रवादी थे किन्तु पहले साधना स्वाध्याय के द्वारा उन्होने खुद को वैसा बनाया था किन्तु तुम जैसे ही आगे बढने को पहला पायदान पार करते हो लालच , काम क्रोध मद मोह आदि के चंगुल में फंस जाते हो फिर जहाँ से शुरू किये थे उस से भी १०० पायदान नीचे और वंश कुल गोत्र पुरखों का नाम मिट्टी में मिलाया वो अलग। जब तक खुद सधे नहीं हो खाली हो तब तक समाज को क्या घण्टा दोगे ? 

जह्वा मांस मदिरा त्याग किये बगैर रहेगी नहीं, वाणी संयमित है नही, विलायती गर्लफेण्ड के सपने देखोगे, विदेशों में बसने के ख्वाब और भारत में खोजोगे परुखों सा रोआब तो कैसे होगा। पुरखो में दिनकर ने तो लिख भी दिया है क्षमा शोभती उस भुजंग को जिसके पास गरल हो। अरे पहले क्षमा करने लायक तो बनो । सामर्थ है नहीं और मुँह चिहार रहे ब्राह्मण धर्म का पालन करते हुए क्षमा किया, वरना क्या कर लेते बे ? अभिसार शर्मा operation bhumihar चला के सबको खुलेआम चैलेञ्ज कर तो रहा है क्या उखाड लिया उसका जाओ उखाडो, ?पथरा इंगलिश में क्या उखाडा ?लालू एक भी बाभन को टिकट दिए बगैर सत्ता में है क्या उखाड लिया उसका ?


ससुरे तुम कुक्कुर के भाँति पूँछ हिलाओ रोटी देख के कभी इधर कभी उधर, आपस में उन्हीं के तरह लडो और जब को ताकतवर हाथी सामने आ जाए तो दूर से भौंको ~ भों भों भों और जब नजदीक आए दुम दबा के भाग लो। सताओगे किसे ? गाँव में गर कोई गरीब जो तुम्हारा खेत जोतता है गर कुछ गलती कर दे तब तुम वहाँ ससुरे एेसे बन जाओगे जैसे साक्षात् सम्राट समुद्रगुप्त तुहीं हो। अरे पुरखों के आगे लोग नमन करते थे श्रद्धा से न की डर से । ये बात कब समझ आयेगी तुम्हें ? और खैर जो भी हो किन्तु साफ शब्दों में कह दूँ गर आगामी ५ सालो में स्वयं को न बदले तब हालत वो हो जाएगी की आज तो गार्ड की भी नौकरी मिल जाती है ५ साल बाद वो भी न मिलेगी , और तब मुझे डर है कही नागमणी के बाप की भविष्यवाणी ~ ' गोरी कलाईयों की चूडियों खेतों में खनकेगी ' सत्य न हो जाए। आगे मर्जी , जो करना है करो मरो । जय जय महाकाल मगध पुत्र (बाबू अंबुज शर्मा के फेसबुक प्रोफाइल से साभार)

ज़मीन से ज़मीन की बात 

 www.bhumantra.com

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …