Skip to main content

कुशवाहा के चश्मे से भाजपा को डॉ.अरुण कुमार कैसे दिखेगा?



राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी (रालोसपा) में आज भले दो फाड़ हो गया है।। लेकिन कभी बड़ी उम्मीदों से पार्टी का गठन किया गया था और इन उम्मीदों को तब और हवा मिली जब लोकसभा चुनाव में तीन सफलताएं हासिल हुई।। गौरतलब है कि ये इस पार्टी का पहला चुनाव ही था और तीन लोकसभा सीटों पर कब्ज़ा कर इसने नीतीश कुमार की जदयू को भी पीछे छोड़ दिया जिसे सिर्फ एक सीट ही हासिल हुआ।। लगा कि जदयू और राजद के विकल्प के तौर पर ये पार्टी बिहार में खड़ी हो सकती है।। लेकिन राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं का टकराव अक्सर बड़ी-बड़ी पार्टियों को ले डूबता है और नयी पार्टियों की तो बात ही क्या? वे बनने से पहले ही बिखर जाते हैं।। रालोसपा के साथ भी ऐसा ही हुआ।। उम्मीदों की पार्टी परवान चढ़ने के पहले ही दो फाड़ हो गयी।। 

पार्टी के संस्थापकों डॉ. अरुण कुमार और उपेंद्र कुशवाहा के टकराव से पार्टी में ऐसी उथल-पुथल मची जो विभाजन के बाद भी अबतक शांत नहीं हुई. दोनों पक्ष एक-दूसरे पर मनमानी का आरोप लगा रहे हैं. लेकिन सब जानते हैं कि उपेन्द्र कुशवाहा कितने महत्वकांक्षी हैं. आपको याद होगा कि बिहार विधानसभा चुनाव के समय पर अपनी पार्टी की तरफ से कुशवाहा ने अपने आप को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार तक घोषित करवा लिया था और भाजपा पर दवाब बनाने की पूरी कोशिश की थी. ये तो विधानसभा चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा तो कुशवाहा ख़ामोशी से केंद्रीय मंत्रीमंडल में अपनी कुर्सी पर बैठ डॉ.अरुण कुमार को निपटाने में लग गए.अब खेल देखिये जिस पार्टी को खड़ा करने में अरुण कुमार और उपेन्द्र कुशवाहा ने समान रूप से योगदान दिया,उसकी मलाई अकेले उपेंद्र कुशवाहा चाट गए. डॉ.अरुण कुमार को क्या मिला? जबकि जानकार मानते हैं कि रालोसपा की रणनीति तैयार करने,भाजपा के साथ गठजोड़ और पार्टी का ढांचा खड़ा करने में अरुण कुमार का योगदान ज्यादा रहा. 


लेकिन जब मोदी सरकार में मंत्री बनने की बात आयी तो उपेंद्र कुशवाहा मंत्री बने. डॉ.अरुण कुमार ने इसपर कोई सार्वजनिक तल्खी भी नहीं दिखाई जबकि कायदे से डॉ.अरुण कुमार को ही मंत्री बनाया जाना चाहिए. लेकिन 'भूमिहार' और 'कुशवाहा' जातिगत फर्क और वोटों की राजनीति आड़े हाथ आ गयी. अब जबकि रालोसपा विभाजित हो चुकी है तब भी उपेंद्र कुशवाहा केंद्रीय राजयमंत्री पद पर विराजमान हैं और डॉ.अरुण कुमार को भाजपा नज़रअंदाज कर रही है.वैसे बिहार भाजपा की ये पुरानी बीमारी रही है जो जाति बिना शर्त इसकी तरफदारी करती है, उसी को ये नज़रअंदाज करता है.नीतिश कुमार तो इसके सबसे बड़े उदाहरण हैं.भाजपा ने नीतिश को खड़ा किया,सवर्णों ने साथ दिया और एक दसक बाद वही नीतिश सवर्णों और भाजपा की पीठ में छूरा घोंप लालू यादव के साथ गठबंधन कर सत्ता पर फिर से काबिज हो गए.

लेकिन भाजपा ने फिर भी सबक नहीं लिया.अब भी वह कुशवाहा और मांझी को तो खड़ा कर रहा है लेकिन अरुण कुमार को नज़रअंदाज़ कर रहा है.कायदे से उपेंद्र कुशवाहा की जगह डॉ.अरुण कुमार को मंत्रिमंडल में शामिल किया जाना चाहिए. लेकिन कुशवाहा के चश्मे से भाजपा को भूमिहार 'अरुण कुमार' कैसे दिखेगा? लेकिन भाजपा को याद रखना चाहिए नए वोट बैंक के लिए अपने कट्टर समर्थकों को दांव पर लगाना कोई समझदारी का काम नहीं.पता चला न इधर के रहे न उधर के. यही चाणक्य नीति भी कहती है. कुशवाहा और मांझी भाजपा के साथ वही करेंगे जो नीतिश कुमार करेंगे. इसलिए भाजपा को अपना चश्मा बदलने की जरूरत है.वरना इसके दूरगामी परिणाम पार्टी को भुगतने होंगे. आपका भूमिहार और सवर्णों का वोट कुछ ऐसे खिसकेगा कि आपको पता भी नहीं चलेगा. फिर कुशवाहा वोट के साथ झाल बजाईयेगा, यदि वो भी मिल जाए तो...
ज़मीन से ज़मीन की बात 
 www.bhumantra.com

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …