Skip to main content

NDTV पर मोदी सरकार के बैन से तिलमिलाए वामपंथी भाईजान !



NDTV एक ऐसा चैनल है जहाँ आप तमाम ऐसे लोगों को भाषण देते देख सकते हैं जो प्रगतिशील होने के नाम पर राष्ट्रविरोधी, हिंदू-मुस्लिम, सवर्ण-दलित आदि का जाप साल के 365 दिन करते रहते हैं. ख़बरों में जाति ढूँढना और किसी भी एंगल से उसे हाईलाईट करके भुनाना एनडीटीवी इंडिया का पुराना शगल है. 

लेकिन दलित-मुस्लिम-पिछड़े-कश्मीर आदि का कार्ड शातिराना तरीके से खेलने वाला ये चैनल अकेला नहीं है. बल्कि इसका एक अपना एक पूरा नेक्सस है जिसमें आधे से ज्यादा तो जेएनयू और बाकी सारे घाघ वामपंथी हैं. 

कांग्रेस सरकार द्वारा पोषित वामपंथी जेएनयू में अय्याशी करते हुए और एनडीटीवी पर प्रवचन देते हुए अच्छा वक्त गुजार रहे थे कि तभी राष्ट्रीय राजनीति में नरेंद्र मोदी की एंट्री हो गयी. बस उसके बाद से ही इनका हाजमा खराब है और रातों की नींद गायब है. क्योंकि मोदी सरकार एक-के-बाद एक वामपंथी घेरे को तोड़ रही है और इनके फैलाए प्रोपगेंडा के चिथड़े उड़ा रही है. 

पहले जेएनयू पर सरकार की तिरछी नज़र पड़ी. अभी उस सदमें से ये उबरे भी नहीं थे कि मुंहदिखाई वाला प्रगतिशील चैनल एनडीटीवी सरकार के निशाने पर आ गया और गलत तरीके से पठानकोट में रिपोर्टिंग करने के कारण उसपर सांकेतिक रूप से एक दिन का प्रतिबंध लगाया गया.

फिर क्या था वामपंथियों में हाहाकार मच गया और सारे वामपंथी अपने-अपने बिलों से निकलकर आपातकाल की दुहाई देने लगे. लेकिन दरअसल देश में नहीं वामपंथियों के राष्ट्रविरोधी मुहिम पर आपातकाल लगा है और उसी से वे NDTV पर लगे बैन से तिलमिलाए हुए हैं. आखिर बौद्धिक विमर्श के उनके सबसे मज़बूत गढ़ पर जो हमला हुआ है. बेचारों के लिए एक ही दालान तो था जहाँ बौद्धिक जुगाली सब करते थे. वो दालान भी आधा ढह गया. ये तो बड़ी नाइंसाफी हो गयी. हैं न रवीश बाबू. अच्छा आप तो कुछो नहीं बोलेंगे, आपका स्टूडियो का प्राइम टाइम वाला लोलना बोलेगा. 

ज़मीन से ज़मीन की बात - भू-मंत्र

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …