Skip to main content

डॉ.विवेकी राय का शरीर नहीं रहा पर उनकी किताबें हमेशा रहेंगी





वरिष्ठ साहित्यकार विवेकी राय के निधन पर अपने उदगार व्यक्त करते हुए प्रमोद तिवारी लिखते हैं -

प्रमोद तिवारी: भोजपुरी - हिंदी के महत्वपूर्ण रचनाकार और अनेक विधाओं को सहजता से साधने वाले डॉ. विवेकी राय नहीं रहे। 1924 में जन्मे विवेकी राय को स्वनिर्मित व्यक्तित्व कहा जा सकता है। शरीर नहीं रहा पर उनकी किताबें हमारे बीच हैं और रहेंगी।

Bidesia Rang :  बीएचयू से निकलनेवाली एक पत्रिका को इस बार डॉ विवेकी राय पर निकलना था. उस पत्रिका के संपादक अपने भाई धीरेंद्र राय ने पिछले कई दिनों से डॉ विवेकी राय पर एक आलेख की मांग की थी. अभी उनके भोजपुरी पक्ष पर आलेख लिखने बैठा ही था कि Pramod भइया के वाल से सूचना मिली कि वे नहीं रहे. भोजपुरी हिंदी में डॉ विवेकी राय ने जो अहम ​काम किये हैं, वह हमेशा महत्वपूर्ण रहेगा. हिंदी के मठ—सठ ऐसे लोगों को अपने समय में ज्यादा महत्व नहीं देते जो हिंदी के साथ लोकभाषाओं की दुनिया को भी समृद्ध करते चलते हैं. डॉ विवेकी राय उनमें एक महत्वपूर्ण स्तंभ थे, दुर्लभ भी...उन्हें नमन, विनम्र श्रद्धांजली

कुछ और प्रतिक्रियाएं -

पंकज सिंह टाइगर : साहित्य के क्षितिज पर अपना अमिट हस्ताक्षर बनाने वाले "यश भारती " तथा "गाजीपुर गौरव" से सम्मानित वरिष्ठ साहित्यकार डाॅ•विवेकी राय जी के निधन से स्तब्ध हूँ तथा काफी गहरा आघात पहुँचा है ।डाॅ• विवेकी राय जी का निधन हम सबके लिए ,साहित्यिक समाज और पूरे देश के लिए अपूरणीय क्षति है। महान आत्मा की शान्ति के लिए मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ तथा परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना प्रकट करता हूँ ।

Shiva Wavalkar : 'सोनामाटी' और 'लोकऋण' इन महत्त्वपूर्ण उपन्यासों के लेखक विवेकी राय नहीं रहें। उन्होंने आंचलिक उपन्यासों की सर्जना करते हुए ग्रामीण जीवन के यथार्थ को बड़ी सामाजिकता के साथ उभारा है। उन्हें सादर नमन। 

Satyam Rai : साहित्यकार डा.विवेकी राय जी नहीं रहे। हिंदी साहित्य में गंवई गंध के महानतम रचनाकार विवेकी राय ने अपने विपुल सर्जना में गांव की माटी को जैसी जगह दी वह अन्यत्र दुर्लभ है। विवेकी राय जी हमारे समय के उन लेखकों में से थे जिन्होंने देश को आजाद होते हुए और उसके बाद के उपेक्षित गांव की बुझती हुई आवाज बने। ह्रदय से अपने मनीषी को नमन करता हूँ और श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ।।

Kanwal Bharti :  मैं विवेकी राय जी को धर्मयुग में पढ़ा करता था और उनसे मिलने की तमन्ना पाले हुए था. मेरी यह तमन्ना १९७४ में पूरी हुई, जब मैं प्रगति प्रकाशन आगरा के प्रतिनिधि के तौर पर पूर्वांचल के दौरे पर था और जब मैं गाजीपुर पहुंचा तो खोजते हुए उनके घर पर जाकर उनसे मिला था. तब बड़े लेखकों से मिलने का जूनून था मुझमें. उसके बाद उनसे फिर कभी मुलाकात नहीं हुई. आज उनके निधन की खबर फेसबुक पर पढ़ी, तो बहुत दुख हुआ. उन्हें मेरी विनम्र श्रद्धांजलि.

Tauseef Goyaa : किसान लेखक का जाना!  विवेकी राय का निधन पूरब की माटी से साहित्य को सोना बनाने वाले एक कीमियागर का खो जाना है। हिंदी अदब में जब भी गाँव, किसान, खेत, लोक और प्रकृति की खोज होगी, निबंधकार-कथाकार विवेकी राय की रचनाएं विश्वनीय और अनुभव सिद्ध जीवन के साथ हमें मुकम्मल राह दिखाएंगी। उन्हें अंतिम लोकांजलि!

Satish Pancham : -  मेरे प्रिय लेखक विवेकी राय जी नहीं रहे :( हाय रे परान, कालातीत, गँवईं गंध गुलाब, आदमी का पईया....सर्कस....तू क्यूं सोया.....कालचक्र......मनबोध मास्टर की डायरी.....मंगल भवन ! विनम्र श्रद्धांजली !

Sushil Singh: नहीं मिलेगी माटी की महक।हिंदी साहित्य के दूसरे प्रेमचंद डॉ विवेकी राय की सांसे टूटी।

Avinash Kumar Singh :   जनपद के गौरव व प्रदेश के प्राख्यात साहित्यकार विवेकी राय आज सुबह सदा के लिये चेतनशून्य हो गये..और पुरे जनपदवासियो को एक पल के लिये विवेकशून्य कर गये.. महामानव को अश्रुपूरित श्रद्धांजली..

सन्तोष कुमार राय : साहित्यकार विवेकी राय जी नहीं रहे। हिंदी साहित्य में गंवई गंध के महानतम रचनाकार विवेकी राय ने अपने विपुल सर्जना में गांव की माटी को जैसी जगह दी वह अन्यत्र दुर्लभ है। विवेकी राय जी हमारे समय के उन लेखकों में से थे जिन्होंने देश को आजाद होते हुए और उसके बाद के उपेक्षित गांव की बुझती हुई आवाज बने। ह्रदय से अपने मनीषी को नमन करता हूँ और श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ।।

Gyanendra Rai :   करयिल माटी की सोंधी महक के कुछ अनूठे सन्दर्भ आज डा.विवेकी राय जी के साथ ही अधूरे रह गये...........

रोहित मिश्र :  साहित्यकार विवेकी राय जी नहीं रहे। हिंदी साहित्य में गंवई गंध के महानतम रचनाकार विवेकी राय ने अपने विपुल सर्जना में गांव की माटी को जैसी जगह दी वह अन्यत्र दुर्लभ है। विवेकी राय जी हमारे समय के उन लेखकों में से थे जिन्होंने देश को आजाद होते हुए और उसके बाद के उपेक्षित गांव की बुझती हुई आवाज बने। ह्रदय से अपने मनीषी को नमन करता हूँ और श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ।।

ज़मीन से ज़मीन की बात - भू-मंत्र

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …