Skip to main content

साहित्यकार विवेकी राय का निधन,भू समाज शोकाकुल



प्रख्यात साहित्यकार विवेकी राय का आज निधन हो गया. वे 93 वर्ष के थे. सांस लेने में दिक्कत की वजह से उन्हें वाराणसी के गैलेक्सी अस्पताल में भर्ती किया गया था जहाँ आज ब्रह्म मुहूर्त में वे इहलोक से परलोक चले गए. उनके निधन से पूरे साहित्यिक जगत में शोक की लहर फ़ैल फैल गयी. 

वे मूलतः उत्तर प्रदेश में गाजीपुर जिले के रहने वाले थे और अपनी साहित्यिक यात्रा के दौरान उन्होंने हिंदी और भोजपुरी भाषा में तकरीबन 50 किताबें लिखी.आंचलिक उपन्यासकार के रूप में उन्हें विशेष ख्याति मिली. 

साहित्य में उनके योगदान के उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्हें यश भारती सम्मान,महात्मा गांधी सम्मान और महापंडित राहुल सांकृत्यायन पुरस्कार भी मिल चुका है.वैसे उन्हें ललित निबंध और कथा साहित्य के लिए जाना जाता है. उनके द्वारा रचित 'मनबोध मास्टर की डायरी' और 'फिर बैतलवा डाल पर' उनके सबसे चर्चित निबंध संकलन हैं और सबसे लोकप्रिय उपन्यास 'सोनामाटी' है. उनके साथी उन्हें मनबोधवा भी कहते थे. 

उनके निधन पर साहित्यिक जगत के साथ-साथ भू-समाज भी शोकाकुल हो गया. भू-समाज के लिए तो ये व्यक्तिगत क्षति है. कलम के इस जादूगर को भू-मंत्र नमन करता है. उनके निधन पर शोक प्रकट करते हुए 'चंचल' भू-समाज के चंचल सोशल मीडिया पर लिखते हैं - "विवेकी राय नही रहे । जब तक रहे , कलम से खरोंच खरोंच कर पूर्वी उत्तर प्रदेश की भाषा जो माटी में धँसी रही उसे चमका कर देश को दिखाते रहे । भाषा दरिया है , वह रवानी से बहती है देखना हो , महसूस करना हो तो विवेकी राय के आंगन में चले जाइए अनगिनत पन्ने बिखरे मिलेंगे । सादर नमन दद्दा"

उनकी साहित्यिक कृतियाँ : 

ललितनिबंध : मनबोध मास्टर की डायरी गंवाई गंध गुलाब फिर बैतलवा डाल पर आस्था और चिंतन जुलूस रुका है उठ जाग मुसाफ़िर

कथा साहित्य : मंगल भवन नममी ग्रामम् देहरी के पार सर्कस सोनमती कलातीत गूंगा जहाज पुरुष पुरान समर शेष है आम रास्ता नहीं है आंगन के बंधनवार आस्था और चिंतन अतिथि बबूल जीवन अज्ञान का गणित है लौटकर देखना लोकरिन मेरे शुद्ध श्रद्धेय मेरी तेरह कहानियाँ सवालों के सामने श्वेत पत्र ये जो है गायत्री

काव्य : दीक्षा साहित्य समालोचना कल्पना और हिन्दी साहित्य, अनिल प्रकाशन, १९९९ नरेन्द्र कोहली अप्रतिम कथा यात्री

अन्य: मेरी श्रेष्ठ व्यंग्य रचनायें, १९८४

भोजपुरी निबंध एवं कविता: भोजपुरी निबंध निकुंज: भोजपुरी के तैन्तालिस गो चुनाल निम्बंध, अखिल भारतीय भोजपुरी साहित्य सम्मेलन, १९७७ गंगा, यमुना, सरवस्ती: भोजपुरी कहानी, निबंध, संस्मरण, भोजपुरी संस्थान, १९९२ जनता के पोखरा: तीनि गो भोजपुरी कविता, भोजपुरी साहित्य संस्थान, १९८४ विवेकी राय... के व्याख्यान,भोजपुरी अकादमी, पटना, तिसरका वार्षिकोत्सव समारोहा, रविवारा, २ मई १९८२, के अवसर पर आयोजित व्याख्यानमाला में भोजपुरी कथा साहित्य के विकास विषय पर दो। भोजपुरी अकादमी, १९८२

उपन्यास अमंगलहारी, भोजपुरी संस्थान, १९९८ के कहला चुनरी रंगा ला, भोजपुरी संसाद, १९६८ गुरु-गृह गयौ पढ़ान रघुराय, १९९२

ज़मीन से ज़मीन की बात - भू-मंत्र

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …