Skip to main content

ब्रहमेश्वर मुखिया की राह पर चलते तो देश से नक्सलवाद का नामोनिशान मिट गया होता




भारत नक्सलवाद की समस्या से लंबे समय से जूझ रहा है.पूरे देश में नक्सली समय-समय पर तांडव करते रहते हैं.कई जगहों पर इनकी समानांतर सरकार है.स्थानीय पुलिस तो इनके सामने बेबस है ही, सेना भी पूरी तरह से कारगर नहीं.लेकिन नब्बे के दशक में एक ऐसा शख्स बिहार की धरती पर अवतरित हुआ जो देखते-देखते नक्सलियों के लिए खौफ का पर्याय बन गया.नक्सली डाल-डाल तो वे पात-पात थे. उनकी दूरदर्शिता और योजना का अनुमान लगाना भी नक्सलियों के बूते की बात नहीं थी और संगठन शक्ति ऐसी बेमिसाल कि दुश्मन भी पानी मांगता. बाहुबल और चाणक्य नीति का ऐसा बेजोड़ इस्तेमाल वे करते कि सामने वाला चारो खाने चित्त. वे नक्सलियों के लिए काल पुरुष बन गए थे और ये शख्स कोई और नहीं बल्कि बाबा ब्रह्मेश्वर यानी ब्रह्मेश्वर सिंह मुखिया थे जिन्हें नक्सली मीडिया ने 'बिहार का कसाई' नाम से पुकारा और बदनाम करने में कोई कोर - कसर नहीं छोड़ी. 

लेकिन हकीकत ये है कि बाबा ब्रह्मेश्वर ने आजीवन नक्सलियों से लोहा लिया और किसानों की रक्षा करते-करते अपने जीवन का बलिदान कर दिया. वक्त उन्हें समझ नहीं पाया या फिर समझने की कोशिश ही नहीं की. मीडिया और छिछली राजनीति ने उनके संघर्ष को जातीय रंग में रंग दिया जबकि असलियत में ये लड़ाई उस अन्याय और आतंकवाद के खिलाफ थी जो नक्सलवादी देशद्रोहियों के इशारों पर चीन और पाकिस्तान के पैसों से करते थे.मीडिया में लगे इसी पैसे के प्रभाव में नक्सली मीडिया ने योद्धा को कसाई का दर्जा दिया और खूब दुष्प्रचार किया. दूसरी तरफ नक्सलवाद का अप्रत्यक्ष तौर पर महिमामंडन किया क्योंकि नक्सली के एजेंडे में नक्सलवाद का विस्तार था. लेकिन उस विस्तार की राह में बाबा ब्रह्मेश्वर ऐसी चट्टान बनकर सामने आए कि बिहार में नक्सलवाद की जड़े हिल गयी. खौफ के जरिए साम्राज्य बनाने वाले नक्सली खुद खौफ़जदा हो गए. वो भी एक ऐसे शख्स से जिसने हथियार नहीं उठाया लेकिन उसने जो हथियार बनाया, उसने एक वक्त पर बिहार में नक्सलवाद की कमर तोड़कर रख दी. इस हथियार का नाम था रणवीर सेना.

रणवीर सेना को नक्सलवाद से इस लड़ाई में किसानों और स्थानीय लोगों का जबरदस्त समर्थन मिला और देखते-देखते नक्सलवाद के खिलाफ वो देश के इतिहास का सबसे कारगर हथियार बनकर उभरा जिसके नाम से ही देशभर के नक्सली और दिल्ली-मुंबई में बैठे उनके वामपंथी आका थर-थर कांपने लगे. तब नक्सली नेता और मीडिया ने नक्सली सोंच के तहत नक्सलवाद के खिलाफ उनके मुहिम को जातीय रंग में रंग कर उनके बढ़ते प्रभाव को रोकने की साजिश रची और उसमें काफी हद तक कामयाब भी रहे और उनकी साजिश को कामयाब बनाने में तत्कालीन सरकारों ने भी बखूबी सहयोग दिया. लेकिन निष्पक्षता से नक्सलवाद के खिलाफ बाबा ब्रह्मेश्वर की कार्यशैली को देखेंगे तो पायेंगे उनकी नीति और कार्यशैली बेहद कारगर थी और यदि सरकार उनके दिखाए मार्ग पर चलती तो आज बिहार क्या देश से नक्सलवाद का नामोनिशान मिट गया होता. नक्सलवाद के खिलाफ उनसे बड़ा नायक देश में कोई दूसरा नहीं.अफ़सोस राजनीति की छोटी सोंच उनके महामात्य को समझ ही नहीं पाया. 

दरअसल अपने समय में नक्सलियों के खिलाफ जननायक ब्रहमेश्वर मुखिया से बड़ा देश में कोई रणनीतिकार नहीं था. यदि उन्हें ये मिशन दे दिया जाता तो आज देश से नक्सलवाद और उग्रवाद का नामोनिशान मिट जाता. आधे माओवादी नेपाल के रास्ते चीन भाग जाते और आधे राष्ट्रद्रोही पाकिस्तान चले जाते. बाकी को आधुनिक परशुराम दोजख का रास्ता दिखा देते. (परशुराम की डायरी) 

 ज़मीन से ज़मीन की बात - भू-मंत्र

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …